Wednesday, Apr 01, 2020
uttarpradesh mayawati birthday special cbi mulayam singh

ये हैं मायावती के जीवन से जुड़े कुछ अहम विवाद जिसने मचाया तहलका

  • Updated on 1/15/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तरप्रदेश (Uttarpradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा प्रमुख मायावती (Mayawati) का राजनीतिक जीवन बहुत उतार-चढ़ाव से भरा रहा। वह एक आईएएस (IAS) अफसर बनना चाहती थीं लेकिन समय ने उन्हें उत्तरप्रदेश का मुख्यमंत्री बना दिया। उनके जीवन में कई बड़े विवाद भी जुड़े रहे हैं। 15 जनवरी को मायावती का जन्म उत्तरप्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले में हुआ था। आइए नजर डालते हैं उनके जीवन की कुछ अहम विवादों पर...
आतंकियों के साथ गिरफ्तार DSP दविंदर सिंह का क्या है अफजल गुरु से कनेक्शन, जानें पूरा मामला

ताज हेरिटेज कॉरिडोर
2002 में उत्तर प्रदेश सरकार ने ताज हेरिटेज कॉरिडोर (Taj Heritage Corridor) का निर्माण शुरु किया। देखते ही देखते पूरा प्रोजेक्ट विवादों में आ गया। मायावती की टेबल, तमाम सारे ज्ञावनों, पर्यावरण विभाग के नोटिस, सीबीआई (CBI) के नोटिस, सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के नोटिसों से भर गई। ऊपर से विपक्षी दलों ने उनपर जमकर हमले किये। इस दौरान सीबीआई ने मायावती के 12 आवासों पर रेड डालीं। उसी दौरान आय से अधिक संपत्ति का खुलासा हुआ। इसमें 17 करोड़ रुपये की हेराफेरीके आरोप लगे थे। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई की उस याचिका को खारिज कर दिया। जिसमें मायावती को आरोपी बनाया गया था। सीबीआई ने मायावती और नसीमुद्दीन के खिलाफ चार्जशीट में कई त्रुटियां की थीं। 
जानें आज से शुरू होने वाला क्या है माघ मेला और इसका महत्व

मायावती की कुल संपत्ति
राज्यसभा (Rajyasabha) का नामांकन पत्र दाखिल करते समय दिया मायावती ने जो संपत्ति घोषित की थी, उसके हिसाब से साल 2007 में संपत्ति जहां 52 करोड़ के आसपास थी, वो 2012 में 111 करोड़ हो गई। मतलब 5 साल में करीब दोगुनी। उनके बैंक खाते में 13 करोड़ 73 लाख से ज्यादा की रकम थी। 10 लाख 20 हजार कैश था। 1034 ग्राम सोने के गहने, 380 कैरेट के हीरे, जिसकी कीमत 95 लाख रुपये हैं। इसके अलावा 18.5 किलो का चांदी का सेट, 15 लाख की कलाकृतियां और साढ़े पांच हजार की एक रिवॉल्वर है। 2004 में मायावती के पास सिर्फ 30 लाख रुपये के जेवर थे। जो एक करोड़ (Crore) से ज्यादा के हो गए। हालांकि उनके पास कोई गाड़ी नहीं है। 

दविंदर के तार दिल्ली में किससे जुड़े हैं, जांच होनी चाहिए : कांग्रेस

भाई पर भी आय से अधिक संपत्ति का आरोप
मायावती के भाई आनंद कुमार (Anand Kumar) पर भी आय से अधिक संपत्ति रखने का आरोप है। आयकर विभाग (Income Tax) और ईडी उनके संपत्तियों की जांच कर रहा है। रिपोर्ट्स के मुताबिक आनंद कुमार ने अपनी कंपनियों के जरिए महज सात साल की अवधि में 18 हजार प्रतिशत का मुनाफा कमाया है। इन सात में से पांच साल तक मायावती की सरकार थी।
शाहीन बाग रोड खाली करने को तैयार नहीं प्रदर्शनकारी, परेशान लोगों ने दी चेतावनी

गेस्ट हाऊस कांड
विधानसभा चुनावों में सपा (SP) और बसपा (BSP) ने 256 और 164 सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ा था, सपा अपने खाते में से 109 सीटें जीतने में कामयाब रही जबकि 67 सीटों पर हाथी जीत पाया। और मुख्यमंत्री की कमान मुलायम सिंह यादव (Mulayam singh yadav) ने संभाली मगर यह दोस्ती ज्यादा दिन नहीं चल सकी। साल 1995 की गर्मियां दोनों दलों के रिश्ते खत्म करने का वक्त लाईं। इसमें मुख्य किरदार गेस्ट हाउस है। इस दिन जो घटा उसकी वजह से बसपा ने सरकार से हाथ खींच लिए और वो अल्पमत में आ गई भाजपा, मायावती के लिए सहारा बनकर आई और कुछ ही दिनों में तत्कालीन राज्यपाल मोतीलाल वोहरा को वो चिट्ठी सौंप दी गई कि अगर बसपा सरकार बनाने का दावा पेश करती है तो भाजपा का साथ है। कहा जाता है कि इस दिन मुलायम के गुंडों ने मायावती के साथ खूब बदतमीजी की थी। और उस समय मायावती की हालत बहुत ही खराब हो गई थी।

comments

.
.
.
.
.