Friday, Aug 19, 2022
-->
varanasi muslim women built cab tattoo in support of cab 2019

वाराणसी: CAB के समर्थन में उतरीं मुस्लिम महिलाएं, बनवाए हाथों पर टैटू

  • Updated on 12/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act 2019) के खिलाफ देश के विभिन्न राज्यों में जहां एक ओर छात्रों का विरोध प्रदर्शन हो रहा है। वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के वाराणसी (Varanasi) की कुछ मुस्लिम महिलाएं इस कानून के समर्थन में उतरी हैं। यहां महिलाएं अपने हाथों में CAB का टैटू बनवा रही हैं जो कि हिंसा करने वालों के लिए एक अच्छा संदेश है। 

जामिया से AMU पहुंची CAA की आग, DGP घायल, 5 जनवरी तक विवि बंद

मुस्लिम महिलाओं ने बनवाया CAB Tattoo
CAB का टैटू बनवाने वाली महिला इकरा खान ने कहा कि जो लोग व छात्र इस कानून का विरोध कर रहे है, वो पहले इसे अच्छे से समझे और इससे सीख लें। उन्होंने हिंसा कर रहे लोगों को कहा कि ये कानून किसी भी भारतीय नागरिक के लिए नुकसान दायक नहीं है, इसलिए किसी के भड़काने पर विरोध प्रदर्शन करना एकदम गलत है। वाराणसी में CAB के समर्थन में महिलाओं के साथ-साथ कुछ युवक भी आए हैं।

CAB को लेकर UP में तनाव, अलीगढ़ व सहारनपुर में इंटरनेट सेवा बंद

जामिया की आग AMU तक पहुंची
गौरतलब है कि नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में दिल्ली (Delhi) के जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में हिंसा की आग अलीगढ़ (Aligarh) तक पहुंच गई। रविवार शाम को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। इस दौरान उन्होंने पुलिस पर पथराव किया गया जिसके बाद उन्हें भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। एएमयू (AMU) में छात्रों ने विवि परिसर में प्रशासनिक भवन के निकट प्रदर्शन किया।

CAA 2019: जामिया में विरोध प्रदर्शन देखते हुए परीक्षा रद्द, 5 जनवरी तक छुट्टी

अधिकारियों ने छात्रों से वापस हॉस्टल में जाने की अपील की
पुलिस मौके पर पहुंची तो प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया। पथराव में अलीगढ़ के डीआईजी समेत कुछ अन्य लोगों के घायल होने की जानकारी मिली है। इस दौरान प्रशासन के कई अधिकारियों को मौके पर भेजा गया, जिसके बाद अधिकारियों ने छात्रों से वापस हॉस्टल में जाने की अपील की।

नागरिकता कानून के खिलाफ देश भर में प्रदर्शन, SC जामिया हिंसा पर आज करेगा सुनवाई

आंसू गैस के गोले दागकर भीड़ को किया नियंत्रित
प्रशासन की तमाम अपीलों के बीच मौके पर मौजूद प्रदर्शनकारियों ने फोर्स पर पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागकर भीड़ को नियंत्रित करने की कोशिश की। कुछ छात्रों को पुलिस ने बलपूर्वक मौके से खदेडऩे का भी प्रयास किया। पीटीआई के अनुसार, एएमयू को 5 जनवरी तक के लिए बंद कर दिया गया है। अलीगढ़ में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं। 

जामिया के समर्थन में उतरा IIM अहमदाबाद, छात्रों ने किया विरोध प्रर्दशन

'जामिया के छात्रों ने नहीं किया उपद्रव'
जामिया प्रशासन ने इस पूरे घटनाक्रम में छात्रों का हाथ होने से इनकार किया है। उनका कहाना है कि हम अपने विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस के प्रवेश के खिलाफ एफआईआर दर्ज करेंगे। जामिया की वाइस चांसलर नजमा अख्तर ने कहा कि विश्वविद्यालय में बहुत सारी संपत्ति की क्षति हुई है, इस सब की भरपाई कैसे होगी? इससे भावनात्मक नुकसान भी हुआ है। मैं सभी से किसी भी तरह की अफवाहों पर विश्वास न करने की अपील भी करती हूं। 

जामिया हिंसा : महिला आयोग ने छात्रों पर बर्बता को लेकर दिल्ली पुलिस से तलब की रिपोर्ट

दिल्ली पुलिस के कई जवान घायल
वहीं दिल्ली पुलिस का कहना है कि प्रदर्शन के दौरान पुलिस की ओर से कम से कम हिंसा की गई है। इसके साथ ही इस दौरान किसी की जान जाने से भी उन्होंने मना किया है। लगभग 30 पुलिस कर्मियों को चोटें आईं, 2 एसएचओ को फ्रैक्चर हुआ, हमारा एक जवान आईसीयू में है। मारपीट और आगजनी के लिए 2 एफआईआर दर्ज की गई हैं। क्राइम ब्रांच सभी एंगल से मामले की जांच करेगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.