Wednesday, Jan 27, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 27

Last Updated: Wed Jan 27 2021 10:40 AM

corona virus

Total Cases

10,690,279

Recovered

10,358,328

Deaths

153,751

  • INDIA10,690,279
  • MAHARASTRA2,009,106
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA936,051
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU834,740
  • NEW DELHI633,924
  • UTTAR PRADESH598,713
  • WEST BENGAL568,103
  • ODISHA334,300
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,485
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH296,326
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA267,203
  • BIHAR259,766
  • GUJARAT258,687
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,976
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,930
  • JAMMU & KASHMIR123,946
  • UTTARAKHAND95,640
  • HIMACHAL PRADESH57,210
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM6,068
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,993
  • MIZORAM4,351
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,377
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
vehicles removed from mandi house differently abled people protest at mandi house

मंडी हाउस से हटाए दिव्यांग, आज से सरपट दौड़ेंगे वाहन

  • Updated on 12/12/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर 26 नवम्बर से मंडी हाउस (Mandi house) सर्किल पर बैठे देशभर से आए गु्रप डी (Group D jobs) की 2018 परीक्षा में पीडब्ल्यूडी (PWD) वर्ग के अभ्यर्थियों को बुधवार दोपहर पुलिस ने बल प्रयोग कर हटा दिया। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) व अर्धसैनिक बल के जवानों ने धरना देने वालों को वाहनों में भर धरनास्थल से अन्य स्थानों पर भेज दिया।

हटाए जाने के बाद शाम के समय पिछले कई दिनों से बंद वाहनों की आवाजाही भी चालू हो गई। हटाए गए अभ्यार्थी दोबारा से पहुंच धरना शुरू नहीं कर दें, इसलिए ऐहतियातन मौके पर पुलिसबल तैनात किया गया है। पुलिस ने यह कार्रवाई कोर्ट के आदेश के बाद की है, जिससे यहां से गुजरने वाले लोगों को बड़ी राहत मिली है।

अन्य स्थानो पर भेजने के लिए वाहनों की हुई व्यवस्था
बुधवार को दोपहर लगभग 3.30 बजे दिल्ली पुलिस अर्धसैनिक बलों के साथ पूरी तैयारी के साथ मौके पर हटाने के लिए पहुंची। इस दौरान अभ्यर्थियों को हटाकर अन्य स्थानों पर भेजने के लिए बसों व अन्य वाहनों की व्यवस्था की हुई थी। पुलिस ने बल प्रयोग कर धरने पर बैठे अभ्यर्थियों को इन वाहनों में भर दूसरे स्थानों पर भेज दिया।

इनमें से किसी को आनंद विहार स्टेशन छोड़ा गया,तो किसी को गाजियाबाद। इसके बाद भी मौके पर शाम तक पुलिस बल तैनात रहा,जिससे हटाए गए अभ्यर्थी दोबारा से यहां पहुंच धरना शुरू नहीं कर दें। 26 नवम्बर को रेलवे गु्रप डी की 2018 परीक्षा में पीडब्ल्यूडी वर्ग के देशभर से आए अभ्यर्थियों ने नौकरी की मांग को लेकर सुबह चार बजे से मंडी हाउस पर धरना शुरू कर दिया था।

पटरी से उतरी हुई थी राजधानी की यातायात व्यवस्था 
मंडी हाउस पर अभ्यर्थियों के धरने के चलते कई दिनों से राजधानी की यातायात व्यवस्था पटरी से उतरी हुई थी। मंडी हाउस से निकलने वाले लोगों को रास्ता बंद होने के चलते घूमकर जाना पड़ रहा था। जिससे अतिरिक्त समय लग रहा था। सबसे अधिक परेशानी डीटीसी बसों में जाने वाले दैनिक यात्रियों को हो रही थी। मंडी हाउस से बस पकडऩे वाले दैनिक यात्रियों को दूसरे बस स्टॉपों तक पैदल जाकर ही बस पकडऩी पड़ रही थी । साथ ही यहां उतरने वालों को भी दूसरे बस स्टॉपों पर उतर यहां तक पैदल आना पड़ रहा था। 

हटाए जाने के बाद आगे की रणनीति बनाने में लगे अभ्यर्थी 
धरना दे रहे राजस्थान के कोटा निवासी नवीन मीणा का कहना है कि पुलिस ने उन्हें जबरन बस में बैठाकर आनंद विहार स्टेशन पर छोड़ा। उनके साथियों में से किसी को गाजियाबाद छोड़ा, तो किसी को कश्मीरी गेट छोड़ा। नवीन मीणा का कहना है कि हमने जो प्रश्न पूछे थे, उनका जवाब नहीं है इसलिए हमारे साथ यह किया गया है कि हमें जबर्दस्ती उठाया गया है। हम लोग आपस में बैठकर आगे की रणनीति बनाएंगे, ऐसे हार नहीं मानेंगे।

पुलिस का क्या कहना है 
डीसीपी ईश सिंघल का कहना है कि हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए पुलिस ने बल प्रयोग कर धरना देने वालों को हटा दिया गया है। ऐहतियातन मौके पर पुलिस तैनात की गई है, जिससे दोबारा धरना शुरू नहीं कर सके । 


पंद्रह दिनों के बाद मिली जाम से राहत
दिव्यांगों को आनंद विहार बस अड्डे और रेलवे स्टेशन ले जाकर छोड़ा गया, उनके साथ किसी तरह की कोई जोर जबर्दस्ती नहीं की गई

किसी को आनंद विहार तो किसी को गाजियाबाद छोड़ा 
दिल्ली पुलिस ने मंडी हाउस पर 15 दिन से धरना देकर बैठे दिव्यांगों को हटा ही दिया और इस तरह से दिल्ली के दिल को आखिरकार जाम से राहत मिली। नई दिल्ली जिले के वरिष्ठ अधिकारियों ने दिव्यांगों के कहने पर उन्हें बाकायदा आनंद विहार बस अड्डे और रेलवे स्टेशन ले जाकर छोड़ा गया, जबकि दिव्यांगों के साथ किसी तरह की कोई जोर जबर्दस्ती नहीं की गई।

ट्रैफिक को डायवर्ट करना पड़ा
दअरसल, बुधवार को दोपहर में जब पुलिस ने दिव्यांगों को चेतावनी दी कि अगर वे रास्ते से नहीं हटे, तो फिर उन्हें हटाना पड़ेगा। वह उठकर दूसरी तरफ बाराखंभा रोड और तानसेन मार्ग के सामने जाकर बीच सड़क पर बैठ गए और हाथों में नारे लिखे पोस्टर बैनर लेकर नारेबाजी करने लगे। इस बीच कुछ देर के लिए बाराखंभा रोड के रास्ते कनॉट प्लेस से मंडी हाउस की तरफ आ रहे ट्रैफिक को डायवर्ट करना पड़ा। वहीं कॉपरनिक्स मार्ग और फिरोजशाह रोड से आकर आईटीओ की तरफ जा रहे ट्रैफिक को भी बाराखंभा रोड से कनॉट प्लेस की तरफ भेजना पड़ा।

दोपहर के समय दिव्यांगों को बलपूर्वक वाहनों में भर कर धरनास्थल से भेजा 
 जबकि लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। प्रदर्शनकारियों को देखते हुए दिल्ली पुलिस व आरपीएफ के जवानों ने सभी दिव्यांगों को रास्ते से उठाकर बसों में बैठाना शुरू कर दिया। जबकि प्रदर्शनकारी विरोध  करते रहे, मगर चंद मिनटों में ही पुलिस ने 26 नवम्बर से चले आ रहे इस धरने को खत्म करवा दिया और सभी को बस में ले जाकर आनंद विहार छोड़ दिया। इस दौरान कई लोगों का सामान भी वहीं छूट गया, जिसे बाद में उनके साथी समेटते नजर आए। बाद में पुलिस ने सिविक एजेंसी के लोगों को बुलाकर वहां फैला कूड़ा कचरा साफ करवा कर भगवानदास रोड और सिकंदरा रोड को ट्रैफिक के लिए खोल दिया। हालांकि कई दिनों के बाद आखिरकार जाम से लोगों को राहत मिली गई है अब देर रात से मंडी हाउस आने-जाने वाले रास्ता खोल दिया गया है।  
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.