Saturday, Mar 23, 2019

‘विजयी मंगलवार’ भारतीय वायुसेना का पाक आतंकियों पर भीषण प्रहार 

  • Updated on 2/27/2019

मंगलवार तड़के भारतीय सेना का पराक्रम एक बार फिर झलका जब भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने पी.ओ.के. में ‘जैश-ए-मोहम्मद’ के अनेक आतंकी शिविरों पर हमला करके उन्हें नष्टï कर दिया।

उल्लेखनीय है कि आतंकवाद की नर्सरी बने पाकिस्तान में पल कर तबाही का पर्याय बना जैश-ए-मोहम्मद भारत में अनेक आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार है। इनमें 2001 में श्रीनगर विधानसभा तथा भारतीय संसद पर हमले, 2016 में पठानकोट एयरबेस पर हमला और उसी वर्ष उड़ी में भारतीय सेना के मुख्यालय पर हमले में 18 जवानों की हत्या मुख्य हैं।

जैश-ए-मोहम्मद को भारत, ब्रिटेन, अमरीका और संयुक्त राष्ट ने चरमपंथी गिरोहों की सूची में रखा है और इसका सरगना मौलाना मसूद अजहर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के बहावलपुर में रहता है।

भारत ने कई बार पाकिस्तान से मांग की है कि अजहर मसूद उसे सौंपा जाए परंतु पाकिस्तान ने हर बार सबूतों के अभाव का बहाना बनाकर भारत की यह मांग ठुकरा दी। संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु, जिसे 10 फरवरी, 2013 को मृत्यु दंड दिया गया था, का संबंध भी जैश से ही था।

उड़ी हमले के बाद भी पाक आतंकियों व सेना द्वारा भारत विरोधी गतिविधियां जारी रखने के चलते 28 सितम्बर, 2016 को भारतीय सेना ने पाकिस्तान से लगती नियंत्रण रेखा पर ‘सर्जीकल स्ट्राइक’ करके उनके 7 आतंकी ठिकानों को नष्टï कर दिया और 40 आतंकवादियों को मार कर उड़ी का बदला लिया।

भारत द्वारा पाकिस्तान के विरुद्ध यह पहली सर्जीकल स्ट्राइक थी। इसमें भारी प्राण हानि के बावजूद पाकिस्तान ने आतंकवादियों को शरण और प्रोत्साहन देना बंद नहीं किया और उसका खूनी खेल जारी रहा। 

इसी कड़ी में एक बार फिर गत 14 फरवरी को जैश ने अपने खतरनाक इरादों का प्रमाण दिया और पुलवामा जिले में सी.आर.पी.एफ. के काफिले पर फिदायीन हमले द्वारा 40 जवानों को शहीद व अनेक घायल कर दिए।

उड़ी हमले के बाद जैश-ए-मोहम्मद द्वारा किया गया यह सबसे बड़ा हमला था जिसके बाद भारत में पाकिस्तान के विरुद्ध रोष की जबरदस्त लहर दौड़ गई और सरकार से इसका बदला लेने की मांग उठने लगी।

भारत सरकार ने इस संबंध में पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लेने, पाकिस्तान से आयात होने वाले सामान पर बेसिक सीमा शुल्क 200 प्रतिशत तक बढ़ाने और उसे पानी रोकने जैसे पग उठाने की घोषणा की।

पाकिस्तान को सबक सिखाने की इसी कड़ी में 26 फरवरी को तड़के एक बड़ी कार्रवाई करते हुए भारत की वायुसेना ने पाकिस्तान के विरुद्ध सर्जीकल स्ट्राइक को अंजाम दिया जिसके तहत हमारे 12 लड़ाकू मिराज-2000 विमानों ने एल.ओ.सी. पार करके बालाकोट, चकौटी और मुजफ्फराबाद के आतंकी कैम्पों पर भारी बम वर्षा की जिससे जैश के कई कैम्प तबाह हो गए।

इस हमले में 350 के लगभग आतंकवादी मारे गए। मृतकों में जैश के आतंकवादी ट्रेनर और वरिष्ठï कमांडरों के अलावा मसूद अजहर का रिश्तेदार युसूफ अजहर उर्फ उस्ताद गौरी भी शामिल बताया जाता है जो 24 दिसम्बर, 1999 के कंधार विमान अपहरण कांड में भी शामिल था। 

भारतीय गुप्तचर एजैंसियों को पाकिस्तान में जैश द्वारा संचालित आतंकियों के 13 लांच पैडों की जानकारी थी जिनमें से बालाकोट के इलाके के लांच पैड  और जैश-ए-मोहम्मद के अल्फा-3 नियंत्रण कक्षों को भी नष्टï कर दिया गया। 

विदेश सचिव श्री विजय गोखले के अनुसार ‘‘जैश-ए-मोहम्मद द्वारा देश के दूसरे हिस्सों में आत्मघाती हमलों की तैयारी और इसके लिए फिदायीन जेहादियों को प्रशिक्षण देने की पुख्ता सूचना के बाद किसी संभावित हमले को रोकने के लिए जवाबी कार्रवाई करना जरूरी हो गया था।’’

इस समय जबकि दोनों देशों के बीच युद्ध छिडऩे की आशंका व्यक्त की जा रही है, नैकां नेता फारूक अब्दुल्ला ने कहा है कि गत दिनों पाक प्रधानमंत्री इमरान खान के दूत की नरेंद्र मोदी और सुषमा स्वराज से भेंट के बाद दोनों देशों के बीच युद्ध का खतरा टला है और युद्ध का जो माहौल बन रहा था उसमें कमी आई है।

उधर पाकिस्तान में जनरोष का सामना कर रहे इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शांति लाने का एक मौका देने को कहा है वहीं पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि यदि पाकिस्तान ने भारत पर एक भी बम दागा तो वह हमें 20 परमाणु बमों से तबाह कर सकता है।

दोनों देशों में बने युद्ध के माहौल के बीच लगभग सभी राजनीतिक दलों ने इस कार्रवाई की प्रशंसा की है। ऐसा करके जहां भारत सरकार ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया है वहीं यह घटनाक्रम भारतीय सेनाओं से अधिक सतर्कता की मांग भी करता है क्योंकि बौखलाए पाकिस्तान द्वारा भारत की इस कार्रवाई का बदला लेने के लिए जवाबी कार्रवाई करने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।     —विजय कुमार 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.