Thursday, May 13, 2021
-->
Video presented in British court against Nirav Modi, threatens to kill fake directors prshnt

नीरव मोदी के खिलाफ ब्रिटिश कोर्ट में पेश हुआ वीडियो, नकली निदेशकों को जान से मारने की दी धमकी

  • Updated on 5/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भगोड़ हीरा कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ प्रत्यर्पण मामले में ब्रिटेन की एक कोर्ट में केंद्रीय जांच ब्यूरो ने एक वीडियो पेश किया है। इस वीडियो में चोरी में फंसाए जाने या हत्या करवाए जाने की धमकी जैसे आरोप शामिल है। दरअसल नीरव मोदी से जुड़ी कंपनियों से जुड़े नकली डायरेक्टर ने कुछ वीडियो रिकॉर्ड किए थे, यह वीडियो 2018, जून महीने का है और इस महीने नीरव मोदी के खिलाफ चल रहे केस में लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट में दिखाया गया। इस वीडियो में छह भारतीयों को सुना जा सकता है। जिसमें सब ने दुबई छोड़ने और मिस्र के काहिरा आने के लिए मजबूर करने के आरोप लगाए हैं।

ईमानदारी या कोरोना का खौफ... सड़क पर मिले 20 हजार रुपए पुलिस के हवाले

कारोबारी को जान से मारने की धमकी
उस वीडियो में देखा जा सकता है कि सभी लोगों के अनुसार सभी के पासपोर्ट जप्त कर लिए गए थे और उनके मर्जी के खिलाफ नीरव के भाई नेहाल मोदी ने संदिग्ध का पेपरों पर उनके दस्तखत करवाए थे। इसमें से एक व्यक्ति वीडियो में कह रहा है कि मेरा नाम आशीष कुमार मोहन भाई लाड है और वह सनसाइन जेम्स लिमिटेड, हांगकांग और दुबई के यूनिटी ट्रेडिंग फजे में मालिक है, उसने बताया कि नीरव मोदी ने उसे फोन किया और उसे बताया कि वह इसे चोरी में फंसा देगा, उसने कहा कि यहां तक कि उसने मुझे जान से मरवा डालने की धमकी भी दी।

पूरी दुनिया के मांसाहारी लोग ही बन रहे हैं कोरोना के शिकार : कैलाश विजयवर्गीय

वकील का दावा, नीरव की मानसिक हालत गंभीर
दरअसल बुधवार को लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में भारत सरकार ने भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सबूत पेश किए थे। निरव मोदी पंजाब बैंक घोटाले का मुख्य आरोपी है और पिछले 19 मार्च को ब्रिटेन में गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद इसको दक्षिण पश्चिम लंदन के एक जेल में रखा गया है। निरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन की सरकार ने पिछले साल मंजूरी दी थी।

नीरव मोदी के खिलाफ बैंकों के साथ 14000 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी और गबन का मामला चल रहा है। जिसमें सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रही है। जिसके बाद निरव मोदी पर सबूत मिटाने का भी मामला दर्ज किया गया है। वहीं नीरव मोदी के वकील ने दावा किया था कि नीरव की मानसिक हालत गंभीर है।

हर्षवर्धन ने कहा -बीते 24 घंटे में 9 राज्यों में नहीं मिले संक्रमित केस 

कोर्ट के कॉमन व्यूइंग प्लेटफार्म के जरिए सुनवाई
विश्व कोरोना महामारी के कारण नीरव मोदी को अप्रैल महीने में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश हुआ था। जहां डिस्ट्रिक्ट जज सैमुअल गोजी में लॉक डाउन की वजह से ननिरव मोदी के प्रत्यर्पण के बारे में अलग महीने होने वाली सुनवाई पर चिंता जताई लेकिन बाद में सभी के सहमति के बाद यह तय हुआ कि अंतिम सुनवाई 7 मई को कोर्ट के कॉमन व्यूइंग प्लेटफार्म के जरिए इसका परीक्षण होगा जिसमें सिर्फ वकील शामिल होंगे।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

 

comments

.
.
.
.
.