Tuesday, Nov 30, 2021
-->
Video released from Deep Sidhu social media account KMBSNT

दीप सिद्धू के सोशल मीडिया अकाउंट से वीडियो जारी, टिकैत समेत इन नेताओं के भड़काऊ भाषण दिखाए

  • Updated on 2/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस के दिन लाल किला हिंसा (red fort violence) मामले में बॉलीवुड एक्टर दीप सिद्धू (Deep Sidhu) इस समय जेल में है, लेकिन अब उन्हें बेगुनाह साबित करने के लिए उनके सोशल मीडिया अकाउंट से फेसबुक पर वीडियो शेयर किए जा रहे हैं। इसमें दावा किया जा रहा है कि दीप सिद्धू ने किसान आंदोलन के दौरान कोई भड़काऊ भाषण नहीं दिया। जबकि पुलिस ने असली गुनाहगार को गिरफ्तार नहीं कर रही है।

ऐसे में बुधवार को दिनभर सोशल मीडिया पर लोगों ने अलग-अलग तर्क दिए। वहीं वायरल वीडियो कि अब दिल्ली पुलिस जांच कर रही है। आखिर यह वीडियो किसने और कहां से फेसबुक पर अपलोड किया। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्रपति कोविंद से गिरफ्तार किसानों की रिहाई के लिए लगाई गुहार 

वीडियो में ये आरोप
दरअसल, फेसबुक अकाउंट पर अपलोड किया गया है। इस वीडियो में दीप सिद्धू ने खुद को निर्दोष बताया है और किसान नेताओं के भड़काऊ भाषण दिखाए हैं। इस वीडियो में दीप सिद्धू प्रदर्शनकारियों को समझाता हुआ दिखाई दे रहा है। वीडियो में भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत, किसान नेता गुरनाम चढ़ूनी और एक लाख के इनामी एक्टिविस्ट लखबीर सिंह उर्फ लक्खा सिधाना का भड़काऊ भाषण है।

वीडियो में किसान नेता राकेश टिकैत का बयान
वीडियो में किसान नेता राकेश टिकैत का बयान है, जिसमें वो ट्रैक्टर रोकने पर दिल्ली पुलिस को धमकी देते नजर आ रहे हैं। गैंगस्टर से सोशल एक्टिविस्ट बना लक्खा सिधाना वीडियो में ट्रैक्टर परेड का तय रूट तोडऩे की ओर इशारा कर रहा है। वह कह रहा है कि हमारे ट्रैक्टर भी रिंग रोड की ओर जाएंगे। कीर्ति किसान संगठन के राजिंदर सिंह दीप वीडियो में कहते दिख रहे हैं कि 26 जनवरी को सारे ट्रैक्टर नाकों पर खड़े कर दो और इस दिन मोदी की चर्चा न हो, बल्कि मोदी की गर्दन पर ट्रैक्टर चढऩे की चर्चा हो।

वहीं, हरियाणा के किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी इस वीडियो में सरकार को चेतावनी देते नजर आ रहे हैं। वो कह रहे हैं कि 26 तारीख को अपनी तैयारी कर ट्रैक्टरों के साथ आ जाएं। जबरदस्ती बैरिकेड्स तोड़कर दिल्ली में घुसेंगे। सरकार गोली मारे-लाठी मारे, जो करना है कर ले। 26 को फाइनल मैच होगा।

भीड़ को समझाता दिखा दीप
सतनाम सिंह पन्नू का जो बयान है, उसमें ट्रैक्टर परेड का रूट तोडऩे की बात कही गई है। पन्नू कह रहे हैं कि हम पुलिस से बात कर रहे हैं कि रिंग रोड पर ही जाएंगे। अगर वो मान गए तो ठीक, नहीं माने तब भी जाएंगे। देखेंगे सरकार क्या करती है। किसान नेता सरवन सिंह पंढेर कह रहे हैं कि ट्रैक्टर परेड के दिन लाल किले पर जाकर बैठ जाओ, वहां से आगे मत जाओ। 7 मिनट के वीडियो में दीप सिद्धू का 25 जनवरी की रात को दिया गया भाषण दिखाया गया है। ये स्पीच सिंघु बॉर्डर पर दी गई थी। मंच पर खड़ा दीप सिद्धू भीड़ को समझाता दिख रहा है कि ट्रैक्टर परेड के लिए जो रूट सहमति के बाद तय हुआ है, उस पर ही जाने का फैसला करें। एकता बनाकर रखनी है।

महारैली में पहुंचा लक्खा, फिर फेसबुक लाइव किया
लाल किला हिंसा का आरोप लक्खा अभी भी पुलिस गिरफ्त में नहीं आया है। हालांकि, वह लगातार किसानों के कार्यक्रमों में दिखाई दे रहा है। मंगलवार को उसने पंजाब के बठिंडा में महारैली भी की। इसमें मंच पर भी खुद मौजूद रहा। इसके बाद उसने मंगलवार रात को ही फेसबुक लाइव किया और महारैली में आने वाले किसानों का धन्यवाद दिया। लाइव के दौरान लक्खा कह रहा है कि महारैली से साबित हो गया कि किसान जीतकर ही जाएंगे।

वह किसान नेताओं से अपील कर रहा है कि आप लगातार दिल्ली में कार्यक्रम करिए। दिल्ली पुलिस नोटिस दे रही है, छापे मार रही है, नौजवानों को अरेस्ट कर रही है, धरना खत्म करने की बात कह रही है। अगर दिल्ली पुलिस का कोई इंतजाम नहीं किया तो ये और ज्यादा तंग करेगी। इन्हें मुंहतोड़ जवाब देना होगा।

किसान आंदोलन : टिकैत ने तोमर की बजाय राजनाथ सिंह पर जताया भरोसा

दीप सिद्धू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत
दीप सिद्धू को दो दिन पहले यानी 23 फरवरी को ही 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। ऐसे में सवाल उठता है कि जब वो जेल में है तो उसके सोशल मीडिया अकाउंट से वीडियो कैसे अपलोड हो रहा है? हालांकि, इस बारे में पहले ही दिल्ली पुलिस खुलासा कर चुकी है कि ट्रैक्टर परेड हिंसा के बाद दीप के सोशल मीडिया अकाउंट पर अमेरिका से वीडियो अपलोड किए जा रहे थे। यह काम यहां उसकी एक महिला मित्र कर रही थी। गिरफ्तारी से पहले भी दीप सिद्धू ने वीडियो जारी किया था। इसमें उसने कहा था कि वह सोशल मीडिया पर ऐसी जानकारियां दे सकता है, जो किसान नेताओं के लिए परेशानी खड़ी कर देंगी।

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.