Sunday, Feb 28, 2021
-->
vijay-mallya-extradition-only-possible-after-formation-of-new-government-in-india

माल्या का प्रत्यपर्ण अब भारत में नई सरकार के गठन के बाद हो पाएगा

  • Updated on 4/26/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश छोड़कर भाग चुके शराब कारोबारी विजय माल्या को प्रत्यपर्ण मामले में आगे की सुनवायी के लिए दो जुलाई की तारीख दी गयी है। माल्या को यह तारीख ब्रिटेन उच्च न्यायालय के न्यायाधीश को इस बात के लिए राजी करने के लिए दी गयी है कि वह अपने भारत प्रत्यर्पण के फैसले के खिलाफ पूर्ण अपील करने की अनुमति पा सके।  

चीनी मिलों की बिक्री में अनियमितता की जांच करेगी CBI, निशाने पर मायावती

बंद हो चुकी विमानन कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस के प्रमुख माल्या ने उच्च न्यायालय में अपील के लिये पहले लिखत प्रयास में अनुमति पाने में असफल रहने के बाद इस महीने की शुरुआत में एक नया आवेदन दायर किया था। नये आवेदन में न्यायालय के एक न्यायाधीश के सामने संक्षिप्त मौखिक सुनवायी होती है। माल्या का वकील इस सुनवाई में नई पूर्ण अपील दाखिल करने की अनुमति के लिये प्रयास करेगा। यह संक्षिप्त सुनवाई अब दो जुलाई को होगी। 

बिहार में तेजस्वी के साथ राहुल गांधी, न्याय योजना का अर्थशास्त्र बताया

ब्रिटेन अदालत के अधिकारी ने शुक्रवार को कहा, ‘‘मौखिक रूप से विचार के लिए दो जुलाई की तारीख तय की गयी है।’’ ब्रिटेन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत के आदेश के बाद फरवरी में ब्रिटेन के गृह सचिव साजिद जाविद ने माल्या को भारत प्रत्र्यिपत किए जाने के आदेश पर हस्ताक्षर कर दिए थे। 

AAP नेता भगवंत मान ने दाखिल किया नामांकन, घोषित की संपत्ति

माल्या ने इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील करने की अनुमति के लिये आवेदन किया था जिसे न्यायमूर्ति विलियम डेविस ने खारिज कर दिया था। लेकिन उन्होंने नये आवेदन के जरिये ‘‘मौखिक विचार के लिये’’ आवेदन करने के वास्ते एक सप्ताह का समय दिया था।  

जानिए, अब पीएम मोदी के पास कितनी है संपत्ति, कहां से मिली है एमए की डिग्री?

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.