Tuesday, Nov 30, 2021
-->
villagers-self-reliance-is-visible-in-the-khadi-pavilion-in-the-trade-fair

ट्रेड फेयर में खादी पवेलियन में ग्रामीणों की दिख रही है आत्मनिर्भरता

  • Updated on 11/24/2021

नई दिल्ली। अनामिका सिंह। हमारे देश की आत्मा गांवों में निवास करती है और ऐसे में गांवों का मजबूत होना काफी जरूरी है। इसी विचार को प्रमाणित करते हुए खादी पवेलियन मेले में ग्रामीणों की आत्मनिर्भरता को साबित करता हुआ दिख रहा है। वहीं प्राकृतिक वस्तुओं से बनी चीजें कोविड आने के बाद लोगों को ज्यादा भा रही हैं, यही वजह है कि इस पवेलियन में काफी लोग जमकर खरीदारी कर रहे हैं। खासकर लोगों को गाय के गोबर से बना प्राकृतिक पेंट्स काफी पसंद आ रहा है। जोकि एंटी बैक्टीरियल होने के साथ ही मात्र 200 लीटर में उपलब्ध होना भी है। जोकि जयपुर स्थित प्लांट में पहली बार बनाया गया और देशभर में 6 प्लांट इसके स्थित है। चैयरमेन खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग विनय कुमार सक्सेना ने बताया कि ऐसे ही 6 प्लांट हरियाणा सरकार व 25 प्लांट छत्तीसगढ़ सरकार के साथ मिलकर बनाया जा रहा है। हॉल नंबर 7 में खादी पवेलियन में 48 स्टॉल में से 18 स्टॉल महिलाओं को दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि बख्तावरपुर में बनने वाली कागज की यूज्ड एंड थ्रो चप्पल काफी पसंद की जा रही है। 

नाड़ी देखकर बताते हैं मर्ज का इलाज
हॉल नंबर 11 में नाड़ी देखकर मर्ज का इलाज बनाने के साथ ही आदिवासी जड़ी-बूटियों से उपचार किया जा रहा है। गुजरात के अहमदाबाद से आए उमेश भाई राजगोंड ने बताया कि वो 15 सालों से इस काम को कर रहे हैं और हर साल ट्रेड फेयर में भाग लेते हैं। यह ईलाज उन्हें विरासत में पीढ़ी दर पीढ़ी मिलता है। उनके पास अमरफल बूटी, जीवनधारा बूटी, गीरनारी बूटी, पहाड़ी बूटी, कंचनकाया बूटी के साथ ही कई बार की जड़ी-बूटियां हैं जो रोगों का इलाज करती हैं और इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

छाया म्यूजियम ऑफ इल्यूशन का क्रेज
मेले में युवाओं के बीच म्यूजियम ऑफ इल्यूजनशन का क्रेज छाया हुआ है। इसे लेकर युवा काफी उत्साहित दिखाई दिए। युवाओं का कहना था कि दृष्टिभ्रम को समझने के लिए म्यूजियम की महंगी टिकट लेकर जाना पड़ता है जब यह मुफ्त में देखने को मिल रहा है तो उसका पूरा लाभ उठाना चाहिए। यहां ज्यामितिय संरचनाओं के द्वारा इल्यूशन को समझाया जा रहा है। 

सर्कस ने जीता लोगों का दिल
ट्रेड फेयर में हुनर हाट में बुधवार को रैम्बो इंटरनेशनल सर्कस के 27 कलाकारों ने मंच पर ऐसा करतब दिखाया कि सभी लोग दंग रह गए। कलाकारों ने यूनीसाइकिल, जिराफ साइकिल, स्किप, बॉल बैलेंस, मल्टी कैंडल स्टैंड बैलेंस, जर्मन व्हील, मिरर मैन, रोला-बोला आदि करतब दिखा कर दर्शकों की खूब तालियां बटोरी। सर्कस के मालिक और कोच सुजीत दिलीप ने कहा कि हमारे ग्रुप में पूर्वोत्तर राज्यों के अलावा अन्य राज्यों के 27 कलाकार हैं और वो कई साल से सर्कस के करतब दिखा रहे हैं। वहीं जाने-माने क्लासिकल और सूफी प्लेबैक सिंगर ओसमान मीर ने शानदार प्रस्तुति देकर समां बांध दिया।

साध्वी निरंजन ज्योति पहुंची सरस, ली सेल्फी
हॉल संख्या 7 में सरस आजीविता मेले में केंद्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज की राज्यमंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने विजिट किया और महिलाओं का हौसला बढ़ाया। इस दौरान साध्वी निरंजन ज्योति ने बताया कि सरस आजीविका मेला ने घरेलू और गांव देहात की महिलाओं के हुनर को समाज तक पहुंचाने का काम किया है। साथ ही उन्होंने आग्रह किया है कि लोग मेले में आएं और स्वदेशी चीजों को खरीदें और इस्तेमाल करें। इसके साथ ही उन्होंने मेले में बने सेल्फी प्वाइंट पर जाकर सेल्फी भी ली। 

झारखंड प्रकृति और खनिज से है भरपूर : ठाकुर
झारखंड दिवस के अवसर पर प्रदेश के पेयजल एवं स्वच्छता विभाग मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने कहा कि झारखंड प्रकृति के गर्भ में बसा और अपनी आदिवासी संस्कृति के लिए पहचाना जाने वाला प्रदेश है। यह भगवान बिरसा मुंडा, सिद्धो-कान्हू सहित अन्य वीर सपूतों की धरती है जो प्रकृति व खजिन संपदा से भरपूर है। इस दौरान श्रम-नियोजन, प्रशिक्षण एवं कौशल विकास मंत्री सत्यानंद भोक्ता, झारखंड सरकार के स्थानिक आयुक्त मस्त राम मीना, उद्योग विभाग तथा खान एवं भूतत्व विभाग की सचिव पूजा सिंघल, सचिव ग्रामीण विकास विभाग  मनीष रंजन, सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी एवं ई-गवर्नेंस कृपा नन्द झा, निदेशक सुडा अमित कुमार, निदेशक रेशम दिव्यांशु झा, प्रबंध निदेशक झारक्राफ्ट आकांक्षा रंजन भी मौजूद रहीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.