Tuesday, Nov 29, 2022
-->
violence between army and police continues in myanmar killing 38 more people pragnt

म्यांमार में सेना और पुलिस के बीच हिंसा जारी, 38 और लोगों को उतारा मौत के घाट

  • Updated on 3/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। म्यांमार (Myanmar) में सैन्य तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई में 38 लोग मारे गए। स्विट्जरलैंड में संयुक्त राष्ट्र की एक अधिकारी ने बताया कि बुधवार को हुए प्रदर्शन के दौरान 38 लोग मारे गए। यह आंकड़ा इस संबंध में मिलीं अन्य रिपोर्टों से मेल खाता है, लेकिन देश के भीतर इन आंकड़ों की पुष्टि करना मुश्किल है।

‘म्यांमार संकट’क्या कर सकती है दुनिया

सेना ने 38 और लोगों को उतारा मौत के घाट
म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत क्रिस्टीन श्रानेर बर्गनर ने पत्रकारों से कहा, 'एक फरवरी को हुए तख्तापलट के बाद आज सर्वाधिक लोगों का खून बहा। केवल आज ही 38 लोग मारे गए। तख्तापलट के बाद से जारी प्रदर्शनों में अभी तक कुल 50 लोग मारे गए हैं और कई लोग घायल भी हुए हैं।' म्यांमार में लोग सेना के तख्तापलट और निर्वाचित नेता आंग सान सू ची को निष्कासित किए जाने के खिलाफ रोजाना प्रदर्शन कर रहे हैं।

म्यांमार: प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की फायरिंग, 18 की मौत, UN में राजदूत को सेना ने किया बर्खास्त

सुरक्षाबल कर रही गोलीबारी
प्रदर्शनकारियों को काबू करने या उन्हें तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बल लगातार आंसू गैस के गोले, रबड़ की गोलियां दाग रहे हैं और गोलीबारी कर रहे हैं। टीवी चैनल एवं ऑनलाइन सेवा 'डेमोक्रेटिक वॉयस ऑफ बर्मा' ने भी मृतकों की संख्या 38 ही बताई है। गौरतलब है कि म्यांमार में सेना ने एक फरवरी को तख्तापलट कर देश की बागडोर अपने हाथ में ले ली थी। सेना का कहना है कि सूची की निर्वाचित असैन्य सरकार को हटाने का एक कारण यह है कि वह व्यापक चुनावी अनियमितताओं के आरोपों की ठीक से जांच करने में विफल रही।

कश्मीर के आर्थिक एवं सियासी हालात को लेकर उठाए गए कदमों की अमेरिका ने की तारीफ

अमेरिका ने जताया दुख
वहीं अमेरिका (America) ने भी कहा कि असैन्य शासन को बहाल करने की शांतिपूर्ण तरीके से मांग कर रहे म्यांमा के लोगों के प्रति बरती जा रही भयावह हिंसा को देखकर वह स्तब्ध है और बहुत ही दुखी है। पिछले महीने म्यांमा में हुए सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गई है। विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइज ने कहा, 'जो तस्वीरें और खबरें मिल रही हैं, वे हैरान करने वाली हैं। असैन्य सरकार को बहाल करने का शांतिपूर्ण आह्वान कर रही बर्मा की जनता पर बरसाई जा रही भयावह हिंसा को देखकर हम स्तब्ध और दुखी हैं।'

चीन की चेतावनी- अलगाववादी ताकतों का समर्थन बंद करे अमेरिका

सभी देशों से ये अपील
अपने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में प्राइज ने कहा, 'हम सभी देशों का आह्वान करते हैं कि बर्मा की सेना द्वारा अपने ही लोगों के खिलाफ की जा रही बर्बर हिंसा की वे एक होकर निंदा करें और सेना की कार्रवाई पर जवाबदेही की मांग करें जिसके कारण बर्मा में अनेक लोगों को अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ा है।' एक सवाल के जवाब में प्राइज ने कहा कि पत्रकारों की गिरफ्तारियों और उन पर बढ़ते हमले को लेकर अमेरिका बेहद चिंतित है।

अमेरिकी सदन में सिटीजनशिप बिल पेश, भारतीयों को जल्द मिलेगी नागरिकता

पत्रकारों को लेकर कहा ये
उन्होंने कहा, 'हम सेना से मांग करते हैं कि उन्हें (पत्रकारों को) तुरंत छोड़ा जाए, मीडिया को डराना धमकाना और प्रताड़ित करना बंद किया जाए और अन्यायपूर्ण तरीके से हिरासत में लिए गए लोगों को भी छोड़ा जाए ताकि वे अपने वैश्विक अधिकारों का इस्तेमाल कर सकें।' उन्होंने कहा कि अमेरिका ने उन सैन्य नेताओं के खिलाफ कई कदम उठाए हैं जो इस तख्तापलट और परिणामस्वरूप हो रही हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं। एक अन्य सवाल के जवाब में प्राइज ने कहा कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में भारत और जापान महत्वपूर्ण साझेदार हैं और 'हम बर्मा की लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई असैन्य सरकार की बहाली के साझा लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में काम करते रहेंगे।'

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.