Thursday, Feb 27, 2020
violence-erupted-in-jdu-over-alliance-with-bjp-vashistha-narayan-expressed-displeasure

बीजेपी से गठबंधन करने पर जदयू में उठा बवाल, वशिष्ठ नारायण ने पवन से जताई नाराजगी

  • Updated on 1/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly Election) चुनाव के लिये बीजेपी से गठबंधन करने पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को अपनी ही पार्टी जदयू का विरोध झेलना पड़ रहा है। एक तरफ पार्टी के वरिष्ठ नेता पवन वर्मा ने खुले तौर पर नीतीश के बिहार से बाहर बीजेपी के साथ गठबंधन की कड़ी आलोचना की है। तो वहीं जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने पवन वर्मा के  सार्वजनिक तौर पर जवाब मांगे जाने को अनुचित बताया है।

दिल्ली चुनाव: BJP-JDU गठबंधन पर छाया CAA का साया, जदयू नेताओं के निशाने पर नीतीश कुमार

पार्टी की बैठक में पवन से पूछा जाएगा जवाब

उन्होंने कहा कि जब भी पार्टी की बैठक होगी वे इस बात को मजबूती के साथ उठाएंगे। जदयू के प्रदेश अध्यक्ष आज मीडिया को संबोधित करते हुए यह बात कही है। उन्होंने पवन वर्मा के जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार को लिखे पत्र को ट्विटर पर साझा किए जाने पर एतराज जताया। उन्होंने कहा कि वे इस तरह के बयान को अनुचित मानता हैं। जब भी पार्टी की बैठक होगी मैं इस बात को मजबूती के साथ उठाएंगे।

जल-जीवन-हरियाली के लिए बिहार में बनाई साढ़े 16 हजार किलोमीटर लंबी मानव शृंखला

लंबे अरसे से बीजेपी से है गठबंधन

वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि सभी को पता है कि बिहार में लंबे अरसे बिहार में गठबंधन चल रहा है जिसके तहत जदयू, भाजपा और लोजपा एक साथ काम कर रही है। उन्होंने पवन के बयान को चर्चाओं में बने रहने के लिए दिया गया बयान बताते हुए आलोचना की है। उन्होंने कहा कि जब कोई व्यक्ति फैसला कर लेता है तो इस तरह के बयान आते हैं, ऐसे में उन्हें कोई कैसे रोक सकता है वे कोई कदम उठाने के लिए स्वतंत्र हैं। इस बीच बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने पवन का समर्थन करते हुए कहा कि नीतीश कुमार को अपने पार्टी के भीतर और जनता के बीच भी अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए ।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.