Sunday, Oct 17, 2021
-->
viral-and-dengue-patients-increased-four-teams-were-put-in-the-house-survey

वायरल एवं डेंगू के मरीज बढ़े, चार टीमों को हाउस सर्वे में उतारा

  • Updated on 9/14/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जिले में डेंगू ने तीन साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग और अधिक चिंतित दिखाई दे रहा है। डेंगू को नियंत्रण में नगर निगम और मलेरिया विभाग की टीमों को भी शामिल कर लिया है। अभी तक आरआरटी और स्थानीय पीएचसी की टीमें ही सर्वे में जुटी थीं, जो मरीजों को दवाएं दे रही थीं। 

डेंगू, वायरल और मलेरिया व स्क्रब टाइफस का प्रकोप प्रतिदिन बढ़ रहा है। जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या 109 तक पहुंच गई है। इसमें 13 मरीज मंगलवार को मिलें है। एक मलेरिया व चार मामलें स्क्रब टाइफस के सामने आए है। वहीं, डोर-टू-डोर चल रहे सर्वे में अब तक बुखार के 1700 से ज्यादा मरीज मिल चुके हैं। वहीं, सरकारी अस्पतालों की ओपीडी में वायरल के मरीजों की संख्या बढ़ रही है। जिला एमएमजी अस्पताल में रोजाना करीब 200 मरीज वायरल के पहुंच रहे है। 20 से 25 मरीज भर्ती हो रहे हैं।

जबकि संयुक्त अस्पताल में करीब 100 मरीज पहुंच रहे है, इसमें 5 से 7 मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। इनमें बच्चों की संख्या अधिक है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि जिन मरीजों को भर्ती किया जा रहा है, उन्हें केवल निगरानी के लिए भर्ती किया जा रहा है और सभी टेस्ट करके पर दो दिन बाद उन्हें छुट्टी दे दी जाती है। जिले में जनवरी से अब तक 20 हजार से ज्यादा लोगों की मलेरिया की जांच की जा चुकी है। सितंबर महीने में ही अब तक लगभग 8 हजार जांच की गई हैं।

इसके अलावा पिछले एक महीने के दौरान डेंगू की 479 जांच की जा चुकी हैं। टाइफाइड की 768 और स्क्रब टाइफस की 35 जांच की जा चुकी हैं। वहीं, अब सभी सरकारी अस्पतालों, अर्बन पीएचसी व सीएचसी से भी बुखार के मरीजों की जानकारी ली जाएगी।
 

अब चार टीमें करेंगे सर्वे
जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. आरके गुप्ता ने बताया कि शासन स्तर से 6 से 16 सितंबर तक जिले में हाउस सर्वे करने के निर्देश दिए गए हैं। हाउस सर्वे में अब दो के स्थान पर अलग-अलग स्तर की चार टीमों को लगाया गया है। इनमें आरआरटी, स्थानीय पीएचसी या सीएचसीए नगर निगम या नगर पंचायत और मलेरिया विभाग की टीम शामिल है। आरआरटी टीम का काम बुखार के मरीजों के संपर्क में आने वालों की जांच करना है।

स्थानीय पीएचसी और सीएचसी की टीम मिलने वाले मरीजों को दवाएं देती है। मलेरिया विभाग की टीम जिस घर में मरीज मिलते हैं, वहां और आसपास के घरों में जल जमाव को खत्म करके एंटी लार्वा स्प्रे करती है। नगर निगर और पंचायत की टीम क्षेत्र में फॉगिंग करती हैं। डीएसओ के अनुसार इसके जरिए संक्रामक रोगों पर पूरी तरह से नियंत्रण करने का प्रयास किया जा रहा है और अलगे कुछ दिनों में जिले में बुखार और डेंगू के मरीजों में कमी आ जाएगी।

जल्द ही हालात सुधरेंगे 
वहीं, सीएमओ डॉ. भवतोष शंखरधर ने बताया कि डेंगू, मलेरिया व अन्य बीमारियों की रोकथाम के लिए प्रभावी कार्रवाई की जा रही है। सरकारी अस्पतालों में पहुंचने वाले मरीजों की बुखार संबंधी पांच तरह की जांच की जा रही हैं। जल्द ही हालात में सुधार होगा।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.