कोहली बोले- सीमा नहीं लांघेंगे, ऑस्ट्रेलिया के पिच लेंगी गेंदबाजों के दमखम की परीक्षा

  • Updated on 12/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला कल खेला जाएगा। इससे पहले भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपनी गेंदबाजी संयोजन को लेकर चर्चा की है। भारतीय कप्तान ने स्वीकार किया कि ईशांत शर्मा की अगुवाई में चौतरफा तेज आक्रमण को वे अतिरिक्त ओवर डालने होंगे जो पंड्या के हिस्से में जाते । 

उन्होंने पहले टेस्ट से पूर्व कहा, हरफनमौला के नहीं खेलने से फर्क पड़ता है । हर टीम एक तेज गेंदबाज हरफनमौला चाहती है जो फिलहाल हमारे पास नहीं है। उन्होंने कहा , हम सर्वश्रेष्ठ संयोजन लेकर नहीं उतर पा रहे हैं । हरफनमौला के नहीं होने से दूसरे गेंदबाजों को अतिरिक्त कार्यभार झेलना होगा । हम इस पर बात कर चुके हैं । 

आस्ट्रेलिया की कठिन उछालभरी पिचें और बड़े मैदान गेंदबाज के दमखम की परीक्षा ले सकते हैं लेकिन कोहली ने कहा कि इसे चुनौती की तरह लेना चाहिये । कोहली ने कहा, गेंदबाजों को इसे बोझ की तरह नहीं लेना चाहिये बल्कि चुनौती समझना चाहिये । अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ भी आसान नहीं होता । हमें स्वीकार करना होगा कि इस समय उपलब्ध संसाधनों से ही सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना है । 

AUSvIND: आस्ट्रेलिया में पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया

कोहली ने कहा कि उनके गेंदबाजों के पास अनुभव भी है और विविधता भी। उन्होंने कहा , पिछली बार की तुलना में इस बार आक्रमण अलग है । अब अधिक अनुभवी और फिट गेंदबाज है। आस्ट्रेलिया में सफल होने के लिये लंबे समय तक सही दिशा में गेंद डालना जरूरी है क्योंकि यहां हालात काफी कठिन होते हैं।

उन्होंने कहा , यहां काफी गर्मी होगी और पिचें सपाट होंगी क्योंकि कूकाबूरा गेंद को 20 ओवर के बाद सिंवग नहीं मिलती और 45 से 50वें ओवर के बीच रिवर्स स्विंग मिलनी शुरू होती है । यह बीच का दौर काफी अहम है । हमें इसका इल्म है और खिलाड़ी बेहतर तैयारी के साथ उतरेंगे । कोहली ने यह भी कहा कि उनका हर गेंदबाज पांच विकेट जैसे निजी रिकार्ड पर नहीं बल्कि एक ईकाई के रूप में अच्छी गेंदबाजी पर फोकस कर रहा है । 

उन्होंने कहा , कोई छह विकेट लेने के लिये नहीं खेल रहा । सभी का लक्ष्य अच्छे स्पैल डालकर टीम के लिये उपयोगी साबित होना है जो अच्छा संकेत है । विराट कोहली को यकीन है कि भारत या आस्ट्रेलिया मैदान पर बर्ताव के मामले में इस बार सीमा नहीं लांघेंगे लेकिन यह भी कहा कि वह यह नहीं चाहते कि खिलाड़ी जज्बात के बिना मैदान पर उतरें । 

AUSvIND: पहले मैच के लिए आस्ट्रेलिया ने घोषित की अंतिम एकादश, मार्कस हैरिस करेंगे डेब्यू

कोहली ने कहा, मुझे नहीं लगता कि अतीत में जो हुआ, वह फिर होगा जब दोनों टीमों ने सीमा लांघी थी । यह प्रतिस्पर्धी खेल है और आखिर में यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट है । हम यह भी नहीं चाहते कि खिलाड़ी बस आयें, गेंदबाजी करें और चले जाये । भारतीय कप्तान ने संकेत दिया कि आचार संहिता का उल्लंघन किये बिना नोक झोंक हो सकती है । 

उन्होंने कहा , कई बार ऐसे मौके होंगे जब बल्लेबाज दबाव में होंगे । उस समय सीमा भले ही पार नहीं हो लेकिन उसके बिना भी नोक झोंक हो सकती है । यह होगा लेकिन उस स्तर पर नहीं जैसे अतीत में होता रहा है । क्रिकेट आस्ट्रेलिया से गेंद से छेडख़ानी विवाद के बाद निष्पक्ष समीक्षा कराई थी और आस्ट्रेलियाई टीमें अपने बर्ताव में सुधार करने में लगी हैं । 

यह पूछने पर कि क्या आस्ट्रेलियाई टीम नकारात्मक सोच के साथ उतरेगी, उन्होंने नहीं में जवाब दिया ।  उन्होंने कहा ,मुझे नहीं लगता कि इस तरह के वाकये के बाद कोई टीम पूरी तरह से नकारात्मक होकर खेलेगी । श्रृंखला प्रतिस्पर्धी होगी । यदि हालात आपके अनुरूप है और सामने अहम खिलाड़ी है तो आप उसे आउट करने की पूरी कोशिश करेंगे । 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.