Monday, Oct 22, 2018

एसजी से नाखुश दिखे विराट, कहा- भारत टेस्ट मैचों में करे इस गेंद का इस्तेमाल

  • Updated on 10/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और वेस्टइंडीज के बीच खेली जा रही टेस्ट सीरीज के दूसरे मैट से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ने गुरूवार को कहा कि दुनिया भर में टेस्ट क्रिकेट इंग्लैंड में बनी ड्यूक गेंद से खेला जाना चाहिए। विराट एसजी गेंदों की खराब गुणवत्ता पर नाखुश दिखे। आपको बता दें कि भारत स्वदेश में इनका उपयोग करता है। इसके अलावा बारतीय कप्तान ने कहा कि, 'मेरा मानना है कि ड्यूक की गेंद टेस्ट क्रिकेट के लिये सबसे उपयुक्त है। मैं दुनिया भर में इस गेंद के इस्तेमाल की सिफारिश करूंगा।

भारतीय कप्तान विराट ने पृथ्वी शॉ के लिए कहा, किसी दूसरे से तुलना करना गलत

विराट कोहली ने इस गेंद की तारीफ करते हिए कहा है कि इसकी सीम कड़ी और सीधी है। इसके अलावा इस गेंद में निरंतरता भी बनी रहती है। दरअसल गेंद के इस्तेमाल को लेकर आईसीसी के कोई विशिष्ट दिशानिर्देश नहीं हैं और हर देश अपनी सहूलियत के आधार पर अलग- अलग तरह की गेंदों का उपयोग करता है। भारत अपने ही देश में बनी ‘एसजी’ गेंदों का इस्तेमाल करता है। इसके अलावा इंग्लैंड और वेस्टइंडीज ड्यूक जबकि आस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और श्रीलंका कूकाबूरा की गेंद का उपयोग करते हैं।  

INDvWI: दूसरे टेस्ट के लिए हुआ भारतीय टीम का ऐलान, इस खिलाड़ी को नहीं मिला मौका

आपको बता दें कि कोहली से पहले ऑफ स्पिनर गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन ने कहा था कि वह एसजी की तुलना में कूकाबूरा से गेंदबाजी करते हुए अधिक बेहतर महसूस करते हैं। अश्विन की शिकायत के बारे में पूछे जाने पर कोहली ने इस स्पिनर का समर्थन किया। कोहली ने कहा, ‘‘मैं पूरी तरह से उनसे सहमत हूं। पांच ओवर में गेंद घिस जाती है ऐसा हमने पहले कभी नहीं देखा था। 

पहले जिस गेंद का उपयोग किया जाता था उसकी गुणवत्ता काफी अच्छी थी और मुझे नहीं पता कि अब इसमें गिरावट क्यों आयी है।  उन्होंने कहा, ‘‘ड्यूक गेंद अब भी अच्छी गुणवत्ता वाली होती है। कूकाबूरा भी अच्छी गुणवत्ता की होती हैं। कूकाबूरा की जो भी सीमाएं (सीम सपाट हो जाना) है लेकिन उसकी गुणवत्ता से कभी समझौता नहीं किया जाता है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.