Sunday, Sep 26, 2021
-->
vitamin-d-deficiency-may-be-linked-to-more-severe-cases-of-corona-prsgnt

विटामिन D की कमी वाले कोरोना मरीजों को मौत का ज्यादा खतरा! पढ़ें रिपोर्ट

  • Updated on 5/15/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण अब तक 3 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैं। बढ़ती मौतों को देखते हुए दुनिया भर के वैज्ञानिक इस बात का पता लगाने में लगे हैं कि आखिर कोरोना के मरीजों में ऐसी क्या समानता है जो उनकी मौत का कारण बनती है।

इस बारे में रिसर्च कर रहे विशेषज्ञों का कहना है कि विटामिन डी की कमी वाले कोरोना मरीजों के मरने की आशंका ज्यादा पाई गई है, यानी जिन लोगों के शरीर में विटामिन डी की कमी होती है उन लोगों में कोरोना संक्रमण होने का खतरा ज्यादा रहता है।

कोरोना वायरस को लेकर चीन ने दी अपनी सफाई, दुनिया को बताए ये 6 फैक्ट

इन देशों से मिला सबूत
इस बारे में अमेरिका के इलिनोइस  में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक रिसर्च की। इस रिसर्च में पाया गया कि कोरोना से मारे गये लोगों में विटामिन डी का स्तर कम था। इस बारे में तुलनात्मक अध्ययन भी किया गया जिसमें इटली, स्पेन और ब्रिटेन के कोरोना मरीजों को शामिल किया गया। जिसके नतीजों से पता लगा कि ये सभी मरीज विटामिन डी की कमी से जूझ रहे थे।

आगे इस शोध को बड़े पैमाने पर करने के लिए शोधकर्ता ईरान, साउथ कोरिया, स्पेन, स्विटज़रलैंड,ब्रिटेन चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली और अमेरिका के अस्पतालों से मिले डेटा का अध्ययन कर रहे हैं।

कोरोना से जुड़े 11 सवाल, जिनके जवाब दुनियाभर के वैज्ञानिक, विशेषज्ञ और जानकार नहीं दे पाए हैं!

तो क्या विटामिन डी ज्यादा लेनी होगी?
इन नतीजों के बाद ऐसा भी नहीं है कि लोग ये समझने लगें कि उन्हें विटामिन डी लेना शुरू कर देनी चाहिए, नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं करना है। शोधकर्ताओं ने साफ कहा है कि इसका मतलब ये नहीं है कि लोग विटामिन डी की मात्रा बढ़ा दें।

दरअसल, इसका सम्बंध उस ऊर्जा से है जो सूरज से मिलती है। सूरज की किरणों को शरीर सोख विटामिन डी प्राप्त करता है। यही ऊर्जा फिर बॉडी में कैल्शियम और फॉस्फोरस को बढ़ा कर उन्हें कोशिकाओं, हड्डियों और दांतों को मजबूत करने में मदद करती है और इसी से इम्युनिटी सिस्टम भी बूस्ट होता है।

दिल्ली के वैज्ञानिकों ने बनाई कोरोना टेस्ट किट ‘फेलूदा’, बेहद कम समय में देगी रिजल्ट

रिसर्च में बाकी है अभी...
इस बारे में सामने आई रिसर्च का अभी पियर-रिव्यूड किया जायेगा, जो कुछ और तथ्य सामने रखेगा। वहीँ, शोध टीम का कहना है कि विटामिन डी की कमी होना एक कारण है लेकिन ये सभी के लिए समान रूप से एक कारण बन सकता है ऐसा नहीं कहा जा सकता।
 
विटामिन डी की कमी को लेकर टीम कहती है कि लोगों को यह पता होना चाहिए कि विटामिन डी की कमी कोरोना से होने वाली मौतों के पीछे एक भूमिका निभाती है।

दक्षिण कोरिया ने 3टी मॉडल से जीती कोरोना की जंग, क्या भारत भी अपना सकता है 3टी?

क्या है मुख्य वजह
शोधकर्ताओं का मानना है कि विटामिन डी की कमी के कारण कोरोना वायरस मरीज के शरीर में बहुत सारे साइटोकाइन बनाता है और ये फेफड़ों को बुरी तरह से नुकसान पहुंचाता है। इसकी वजह से मरीज में खतरनाक रेस्पेरेट्री डिस्ट्रेस सिंड्रोम होने की वजह से मरीज़ की मौत हो जाती है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.