Sunday, Nov 27, 2022
-->
votkatwa-party-told-aimim-the-truth-is-not-in-the-claims-of-damage-to-the-grand-alliance-prshnt

AIMIM को बताया वोटकटवा पार्टी, महागठबंधन को नुकसान पहुंचाने के दावे में नहीं है सच्चाई

  • Updated on 11/12/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में एनडीए (NDA) ने जबरदस्त वापसी की है। प्रदेश की 243 सीटों में से एनडीए को 125 मिली है वहीं महागठबंधन को 110 सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि लोजपा को 1 और असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए- इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) ने राज्य 5 सीटों पर जीत दर्ज की है। बीते विधानसभा चुनाव के मुकाबले एआईएमआईएम ने इस बार बाजी मारी है और इस बार सीमांचल में मुसलमानों की पहली पंसद बन गया। 

बिहार में महागठबंधन की हार पर मुनव्वर राना ने किया ट्वीट, कही ये बात

एआईएमआईएम को बताया वोटकटवा पार्टी
वहीं सीमांचल की 24 में से एक भी सीट पर महागठबंधन को रत्ती भर भी नुकसान नहीं पहुंचाया। नतीजों से साबित हुआ कि इलाके के मुसलमानों ने रणनीतिक मतदान करते हुए अलग-अलग सीटों पर राजग के खिलाफ एकजुट मतदान किया। मंगलवार को राजद और कांग्रेस ने एआईएमआईएम को वोटकटवा पार्टी बताया और पार्टी पर महागठबंधन को सीमांचल में भारी नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया। 

बिहार की नई सरकार के सामने कई महत्वपूर्ण चुनौतियां, करने होंगे आर्थिक मोर्चे पर विशेष प्रयास

बैसी और जोकीहाट में पार्टी उम्मीवार को अधिक मिले वोट
इसके साथ ही दोनों दलों ने यहां तक कहा कि एआईएमआईएम के कारण महागठबंधन बहुमत से चूक गया। लेकिन राजद और कांग्रेस के आरोपों की पुष्टि नहीं करते। 

चुनाव में एआईएमआई के हाथ अमौर, बहादुरगंज, कोचाधामन, बैसी और जोकीहाट की सीट पर जीत मिली है। इनमें से अमौर, कोचाधामन और बहादुरगंज में पार्टी उम्मीदवारों को पचास फीसदी से भी अधिक वोट मिले हैं। बैसी और जोकीहाट में पार्टी उम्मीवार को प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस से 41 हजार और सात हजार वोट अधिक मिले हैं।

JNU में विवेकानंद की मूर्ति का अनावरण कर लेफ्ट के किले में सेंध लगा पाएंगे PM मोदी

कांग्रेस को गवानी पड़ी कई सीटें
मसलन प्राणपुर में पार्टी-गठबंधन को महज 508, कोढ़ा में महज 2000, कटिहार में 512, मनिहारी में 2400, बरारी में 6500, ठाकुरगंज में 19000, कदवा में 1900, अररिया में 8900  वोट मिले। इनमें अररिया, कदवा, कोढ़ा, मनिहारी, ठाकुरगंज, किशनगंज में महागठबंधन के उम्मीदवार जीते। वहीं, कदवा, मनिहारी सहित आधा दर्जन सीटों पर लोजपा ने जरूर जदयू को हराने में सीधी भूमिका अदा की। खासतौर से कांग्रेस को कई सीटें निर्दलीय उम्मीदवारों के कारण गंवानी पड़ी।

बिहार की जीत के बाद जल्द होगा मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार! इन्हें मिल सकती है जगह

कांग्रेस को 19 सीटों पर करना पड़ा संतोष
वहीं बिहार में जहां राजद 75 सीट लेकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी हो तो वहीं बीजेपी पहली बार 74 सीटें लेकर दूसरे नंबर की पार्टी बनी। सत्ताधारी जदयू तीसरे पायदान पर फिसलते हुए महज 43 सीटें ही ले पाई, जबकि कांग्रेस को 19 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा। वहीं वाम दलों को 16 सीटों पर विजयी रही। औवैसी की पार्टी को 5 सीटें मिली। हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) को 4 और विकासशील इंसान पार्टी को 4 सीटों पर जीत मिली है।

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें....

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.