Sunday, Jan 23, 2022
-->
Wait, till now only 6: 7 days left in the nomination, the electoral ground is still deserted

इंतजार कीजिए, अब तक सिर्फ 6 : नामांकन में 7 दिन बाकी, चुनावी मैदान अभी सूना-सूना

  • Updated on 1/14/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। जनपद गाजियाबाद में चुनाव मैदान अभी तक सूना-सूना है। मैदान में प्रत्याशियों के उतरने का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। फिलहाल कांग्रेस और सपा-रालोद गठबंधन के 3-3 प्रत्याशी सामने आए हैं। नामांकन प्रक्रिया में 7 दिन का समय शेष है। इसके बावजूद अब तक सिर्फ 6 प्रत्याशियों की स्थिति स्पष्ट हो पाई है। बसपा के 4 संभावित उम्मीदवारों के नाम की चर्चा जोरों पर है, मगर अधिकृत घोषणा नहीं की गई है। 

भाजपा-बसपा की लिस्ट की प्रतीक्षा
विभिन्न राजनीतिक दल टिकट आवंटन से पहले जरूरी पहलुओं पर विचार-विमर्श करने में मशगूल हैं। भाजपा प्रत्याशियों की लिस्ट आने को लेकर दिनभर चर्चाओं का बाजार गरम रहा। गाजियाबाद जिले में लोनी, साहिबाबाद, गाजियाबाद शहर, मुरादनगर और मोदीनगर में विधान सभा चुनाव होना है। इन 5 सीटों पर सभी राजनीतिक दल जोर-आजमाइश कर जीत का स्वाद चखने को आतुर हैं। नामांकन प्रक्रिया आरंभ हो चुकी है। 

यह उम्मीदवार आए सामने
हालांकि अब तक चुनाव मैदान भरपूर प्रत्याशियों से गुलजार नहीं हो पाया है। कांग्रेस और सपा ने 3-3 प्रत्याशी का ऐलान किया है। कांग्रेस ने गाजियाबाद शहर से सुशांत गोयल, मुरादनगर से बिजेंद्र यादव व लोनी से यामीन मलिक पर दांव खेला है। जबकि सपा-रालोद गठबंधन ने साहिबाबाद से पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा, मोदीनगर से पूर्व विधायक सुदेश शर्मा और लोनी से पूर्व विधायक मदन भैया को टिकट दिया है। 

3 पूर्व विधायकों पर भरोसा
इसके अतिरिक्त बसपा के 4 संभावित उम्मीदवारों के नाम की चर्चा खूब हो रही है। सपा-रालोद गठबंधन ने फिलहाल 3 पूर्व विधायकों पर भरोसा जताया है। कांग्रेस ने वैश्य, यादव और मुस्लिम समीकरण जबकि सपा-रालोद ने ब्राह्मण व गुर्जर समीकरण में अब तक दिलचस्पी दिखाई है। बसपा और भाजपा के उम्मीदवारों की लिस्ट जारी होने का सुबह से देर शाम तक इंतजार होता रहा। भाजपा में बगावत के सुर भी सुनाई देने लगे हैं। पूर्व महानगराध्यक्ष अजय शर्मा पार्टी लाइन से इतर जाते दिखाई दे रहे हैं। उधर, बसपा खेमे में खामोशी बरकरार है। बसपा के जिला कार्यालय पर दिनभर चुनावी चर्चाएं होती रहीं।
 

comments

.
.
.
.
.