Thursday, Aug 11, 2022
-->
walmart-flipkart-deal-confederation-of-all-india-traders-calls-bharat-band

वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट सौदे के खिलाफ ट्रेडर्स संघ ने किया भारत बंद का ऐलान

  • Updated on 8/20/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। वॉलमार्ट द्वारा फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण सौदे के खिलाफ व्यापारियों के प्रमुख संगठन कनफेडरेशन आफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने 28 सितंबर को भारत बंद का ऐलान किया है। कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि देश भर के व्यापारी वॉलमार्ट फ्लिपकार्ट सौदे से नाराज हैं। 

अमरिंदर सिंह के निशाने पर नवजोत सिद्धू, AAP विधायक ने किया बचाव

उन्होंने कहा कि यह सीधे तौर पर सरकार द्वारा 2016 में जारी प्रेस नोट 3 का उल्लंघन है और वॉलमार्ट फ्लिपकार्ट का यह संयुक्त गठबंधन देश के रिटेल व्यापार पर ई कॉमर्स के जरिए नियंत्रण और एकाधिकार का छिपा एजेंडा है। 

लोकसभा चुनाव से पहले जमीनी हकीकत का आकलन करने में जुटीं कांग्रेस, माकपा

खंडेलवाल ने कहा कि इससे देश के खुदरा व्यापार में समान मौके खत्म होंगे, वहीं दूसरी और प्रतिस्पर्धा भी समाप्त होगी! कैट की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सौदे के खिलाफ व्यापक समर्थन जुटाने और रिटेल में एफडीआई को इजाजत ना दिए की मांग को लेकर 15 सितंबर से दिल्ली से व्यापारियों की एक राष्ट्रीय रथ यात्रा शुरू होगी और 16 दिसंबर को दिल्ली में एक विशाल रैली का आयोजन किया जाएगा। 

AAP विधायक मामला:  हाई कोर्ट के फैसले के इंतजार में EC में टली सुनवाई

यह निर्णय कल नागपुर में कैट के सालाना अधिवेशन में सर्वसम्मति से लिए गए, जिसमें देश के सभी राज्यों के लगभग 200 प्रमुख व्यापारी नेता मौजूद थे। वॉलमार्ट इंक ने शनिवार को कहा था कि उसने फ्लिपकार्ट सौदा पूरा कर लिया है और अब उसकी भारत की ई-कॉमर्स कंपनी में 77 प्रतिशत की हिस्सेदारी है।

सुनंदा मौत मामला: शशि थरूर को कोर्ट से मिली स्विट्जरलैंड जाने की इजाजत

कैट ने कहा कि भारत व्यापार बंद के दौरान देश भर में सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान और बाजार बंद रहेंगे और कोई कारोबार नहीं होगा। देश के विभिन्न बाजारों में व्यापारी विरोध मार्च निकालेंगे।

सर्वे में निकलकर आईं प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की खामियां

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.