Wednesday, Jun 16, 2021
-->
weather updates today indian meteorological department sohsnt

Weather Updates: उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में अगले चार दिन शीत लहर का ऑरेंज अलर्ट जारी

  • Updated on 1/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पहाड़ों पर जारी बर्फबारी का असर अब मैदानी इलाकों में भी नजर आने लगा है। उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में हल्की बारिश और शीत लहर के चलते ठंड का असर साफ नजर आने लगा है। ऐसे में मौसम विभाग (Meteorological Department) ने अनुमान जताया है कि अभी कम से कम चार दिन और शीत लहर का असर रहेगा। विभाग ने इन क्षेत्रों में ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है।

SC ने NGT के फैसले को ठहराया सही, 14 साल बाद अवैध मैक्लोडगंज होटल को ध्वस्त करने का दिया आदेश

इन राज्यों में शीत लहर का ऑरेंज अलर्ट जारी
भारतीय मौसम विभाग ने तमिलनाडु, पुडुचेरी, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में अगले चार से पांच दिन तक शीतलहर का ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया है। इसके साथ ही इन इलाकों में घना कोहरा होने के कारण सुबह के समय विजिबिलिट काफी कम हो सकती है। 

विवादित ढांचा विध्वंस मामले में सुनवाई दो सप्ताह के लिए टली

जानें कब घोषित होती है शीत लहर
बता दें कि मैदानी इलाकों में शीत लहर तब होती है जब न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे नीचे होता है या लगातार दो दिनों तक मौसम के सामान्य से 4.5 डिग्री कम होता है। मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 4 डिग्री सेल्सियस से कम होने पर शीत लहर भी घोषित की जाती है। एक ठंडा दिन और शीत लहर का एक साथ साक्षी होने का मतलब है कि दिन और रात के तापमान के बीच का अंतर सामान्य से कम था।

सांसद प्रज्ञा ठाकुर का विपक्ष पर फूटा गुस्सा, कहा- कांग्रेस ने हमेशा देशभक्तों को दी गालियां

मौसम विज्ञान विभाग ने जारी की चेतावनी
ठंड के बढ़ते प्रकोप के बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने चेतावनी दी है कि ठंड से गंभीर ठंड की स्थिति स्वास्थ्य पर कई गंभीर प्रभाव डाल सकती है जिसे अनदेखा नहीं किया जाना चाहिए। फ्लू, भरी हुई नाक या नकसीर और कंपकंपी जैसी विभिन्न बीमारियों की संभावना बढ़ जाती है, जो शरीर की गर्मी खोने का पहला संकेत है।

नेपाली पीएम केपी ओली ने बताए भारत से बहुत अच्छे संबंध, चीन को दी हिदायत

क्या हो सकता है लंबे समय तक ठंड के संपर्क में रहने पर?
अत्यधिक ठंड के लंबे समय तक संपर्क में रहने और बीमारी का कारण बन सकता है, जिससे त्वचा पीली, कठोर और सुन्न हो जाती है और अंततः काले छाले उजागर शरीर के अंग जैसे अंगुलियों, पैर की उंगलियों, नाक या कान की बाली पर दिखाई देते हैं। गंभीर शीतदंश को तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.