west-bengal-bjp-president-amit-shah-arrives-in-kolkata

कोलकाता में बोले अमित शाह- बांग्लादेशी घुसपैठिए TMC के वोटर

  • Updated on 8/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने शहीद खुदीराम बोस की पुण्यतिथि पर आज कोलकाता में रैली की। रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा कि बंगाल में परिवर्तन होने जा रहा है। 

Live Updates:

घुसपैठिए TMC के वोटर हैं: अमित शाह

बांग्लादेशी घुसपैठिए देश के लिए खतरा: अमित शाह

NRC का मतलब घुसपैठियों को देश से भगाना: अमित शाह

ममता दीदी, एनआरसी आपके रोकने से नहीं रुकेगी: अमित शाह

2005 में NRC पर ममता ने लोकसभा में हंगामा किया था: अमित शाह

 आज बंगाल के सारे चैनलों को डाउन कर दिया गया है। ममता जी कान खोलकर सुन लो, हमारी आवाज दबेगी नहीं: अमित शाह

 

इससे पहले, कोलकाता में- 'बंगाल विरोधी भाजपा वापस जाओ' के पोस्टर लगाए गए हैं। सूत्रों के अनुसार रैली स्थल के आसपास ऐसे पोस्टर बड़ी संख्या में लगाए गए हैं। भाजपा रैली में शामिल होने जा रहे कार्यकर्ताओं का आरोप है कि उनकी बसों पर हमले किए गए। कार्यकर्ताओं  के अनुसार मिदनापुर के नया बस्ती इलाके में बस लगी थी जहां अज्ञात लोगों ने उसके शीशे तोड़ दिए और बस को क्षति पहुंचाई। इस मामले को लेकर स्थानीय पुलिस स्टेशन में मामला भी दर्ज कराया गया है।स    

इससे पहले बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने NRC विवाद पर अपनी बात रखते हुए आशंका जताई थी कि पश्चिम बंगाल में एक करोड़ से ज्यादा अवैध प्रवासी हो सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ शाह की रैली से पहले कोलकाता में 'एेंटी-बंगाल बीजेपी गो बैक' के पोस्टर लगे हैं।

साथ ही NRC को लेकर जब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था कि अगर बीजेपी प्रदेश में चुनाव जीतकर सत्ता में आती है तो NRC को लेकर एक लिस्ट जारी की जाएगी। इसे लेकर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पहले ही विरोध जता चुकी हैं। वहीं दूसरी तरफ लोकसभा चुनाव में बंगाल को लेकर शाह ने अपना लक्ष्य तय कर लिया है। बंगाल में लोकसभा की 42 सीटें हैं और शाह ने 22 सीटों पर जीत दर्ज करने की बात कही है। 

जयपुर की जमीन पर आज राहुल गांधी करेंगे चुनावी शंखनाद, रोड शो का है आयोजन

 

जानकारी के लिए बता दें कि 2014 में हुए लोकसभा में चुनावों में बीजेपी ने सिर्फ दो सीटों पर जीत दर्ज की थी वहीं टीएमसी ने 34 सीटें मिली थी। वहीं एनआरसी का विरोध करना 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में ममता सरकार पर भारी पड़ सकता है।

आपको बता दें कि राज्य विधानसभा में बीजेपी अभी भी एक मामूली इकाई है लेकिन सदन के बाहर मुख्य विपक्ष बन कर उभर रही है। 2014 में भगवा पार्टी ने 42 लोकसभा सीटों में से 2 जीती थी और 2016 में उन्हें 294 विधानसभा सीटों में से 3 मिलीं। हालांकि, बीजेपी लगातार मजबूत होती दिख रही है जो लगभग सभी उपचुनावों में दूसरी स्थान पर रही।

विश्व जैविक दिवस पर मोदी ने एथेनॉल का उत्पादन बढ़ाने पर दिया जोर

पहले लोकसभा फिर विधानसभा चुनाव की रणनीति तैयार कर रही है बीजेपी-
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने राज्य की बीजेपी इकाई को अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में 42 में से कम से कम 22 सीटें जीतने का काम सौंपा है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और बीजेपी का बंगाल में मुस्लिमों से छेड़छाड़ के मुकाबले बांग्लादेश से आए हिंदुओं के लिए आधार बनाने की कोशिश है। बता दें कि पहले 2018 के लोकसभा चुनाव और फिर 2021 के राज्य विधानसभा चुनाव तक रणनीति बीजेपी तैयार कर रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.