Thursday, Jul 18, 2019

ममता बनर्जी के समर्थन में विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग और BJP पर बोला हमला

  • Updated on 5/16/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पश्चिम बंगाल में प्रचार अभियान में कटौती को लेकर विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग पर हमला बोला है। साथ ही उसकी निष्पक्षता पर भी सवाल उठाए हैं। कांग्रेस, टीएमसी, सपा, बसपा, आम आदमी पार्टी और वामदलों ने चुनाव आयोग के फैसले को मोदी सरकार के दबाव में लिया गया फैसला करार दिया। 

उमर ने पूछा- अगर गोडसे देशभक्त तो क्या महात्मा गांधी देशद्रोही हैं?

कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में हिंसा के बाद चुनाव प्रचार की अवधि में कटौती के चुनाव आयोग के कदम को लोकतंत्र के लिए ‘काला धब्बा’ करार देते हुए बुधवार को दावा किया कि आयोग अपनी स्वतंत्रता खो चुका है तथा इस संवैधानिक संस्था के लिए नियुक्ति प्रक्रिया की समीक्षा होनी चाहिए।

मायावती की नसीहत- पहले अपनी पत्नी का आदर-सम्मान करें नरेंद्र मोदी

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सवाल किया कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव आयोग की निष्पक्षता एवं निर्भीकता पर कब्जा कर लिया है ? सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमें दुख के साथ कहना पड़ा रहा है कि चुनाव आयोग अपनी स्वतंत्रता खो चुका है। वह अपनी योग्यता, क्षमता, निर्भीकता और निष्पक्षता के लिए जाना जाता रहा है। आज जब प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा लोकतंत्र पर हमला बोला जा रहा है तो चुनाव आयोग डरा, थका और असहाय नजर आ रहा है। वह प्रजातंत्र का चीरहरण होते हुए देख रहा है।’’ 

पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार की अवधि में कटौती के फैसले को लोकतंत्र के लिए ‘काला धब्बा’ करार देते हुए उन्होंने दावा किया, ‘‘ ऐसा लगता है कि चुनाव आचार संहिता अब मोदी जी प्रचार संहिता बन गई है। चुनाव आयोग अपनी विश्वसनीयता खो चुका है।

उन्होंने सवाल किया, ‘‘क्या कारण है कि गुंडों को सजा देने की बजाय चुनाव आयोग मूकदर्शक और असहाय बना हुआ है ? क्या मोदी और शाह ने चुनाव आयोग की निष्पक्षता या निर्भीकता पर कब्जा कर लिया है ?’’ कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘ऐसा लगता है कि चुनाव आयोग प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा को उपहार भेंट कर रहा है। उसने यह सुनिश्चित किया कि प्रधानमंत्री की दो सभाएं प्रभावित नहीं हों।’’   

राजभर ने बताया - पूर्वांचल की 30 में से कितनी सीटें जीत सकती है BJP

सुरजेवाला ने दावा भी किया पश्चिम बंगाल पर चुनाव आयोग के आदेश में अनुच्छेद 14 और 21 के अंतर्गत जरूरी प्रक्रिया को धूमिल किया गया है तथा आयोग ने सबको समान अवसर देने के संवैधानिक कर्तव्य का निर्वहन भी नहीं किया। यह संविधान के साथ किया गया अक्षम्य विश्वासघात है।  

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के खिलाफ चुनाव आयोग में 11 शिकायतें की गई हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। भाजपा के द्वारा ङ्क्षहसा की गई और अमित शाह द्वारा धमकाया गया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।     एक सवाल के जवाब में सुरजेवाला ने कहा कि चुनाव आयोग के लिए पूरी नियुक्ति प्रक्रिया की समीक्षा होनी चाहिए।

चुनाव आयोग तटस्थ भूमिका के निर्वाह में नाकाम: भाकपा 
भाकपा ने लोकसभा चुनाव में निर्वाचन आयोग पर सत्तापक्ष को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाते हुये कहा है कि संवैधानिक संस्था के रुप में आयोग, प्रभावी भूमिका निभाने में नाकाम रहा है और इसके मद्देनजर अब माकूल समय आ गया है जबकि संसद, चुनाव आयुक्तों के चयन और नियुक्ति की उपयुक्त प्रक्रिया को निर्धारित करे। 

राहुल बोले- मनमोहन का उड़ाते थे मजाक, आज देश मोदी का मजाक उड़ा रहा है

भाकपा ने कोलकाता की चुनावी हिंसा में समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को क्षतिग्रस्त किये जाने की घटना को निंदनीय बताते हुये 17वीं लोकसभा के चुनाव में इस तरह की अराजकतापूर्ण स्थिति पनपने के लिये आयोग की निष्प्रभावी भूमिका को जिम्मेदार ठहराया है। 

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को कोलकाता में शाह के रोड शो के दौरान भाजपा और टीएमसी के कार्यकर्ताओं के बीच हुयी हिंसक झड़प के दौरान विद्यासागर की प्रतिमा क्षतिग्रस्त कर दी गई थी। भाकपा ने विद्यासागर की प्रतिमा स्थापित करने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा पर क्षोभ व्यक्त करते हुये कहा, ‘‘यह विडंबना ही है कि प्रधानमंत्री ने इस घटना पर माफी मांगने के बजाय बाद में नयी और भव्य प्रतिमा स्थापित करने की घोषणा की।’’ 

मायावती-अखिलेश ने भी उठाए सवाल 
बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी चुनाव आयोग पर निशाना साधा है। मायावती ने कहा, ‘‘इससे भी ज्यादा दुख की बात यह है कि केंद्र सरकार के दबाव में मुख्य चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में एक दिन पहले  ही चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी और वह भी आज प्रधानमंत्री की दो रैलियां वहां खत्म होने के बाद रात दस बजे से... । इसकी हमारी पार्टी कड़े शब्दों में ङ्क्षनदा करती है । ’’  

दिग्विजय ने प्रज्ञा को लिया आड़े हाथ, बोले- गोडसे को महामंडित करना राष्ट्रद्रोह

उन्होंने कहा कि अगर प्रचार पर रोक लगानी ही थी तो आज सुबह से लगानी चाहिए थी। इससे स्पष्ट होता है कि वर्तमान मुख्य चुनाव आयुक्त के रहते हुये इस बार का लोकसभा चुनाव पूरी तरह स्वतंत्र और निष्पक्ष नहीं है । इससे हमारे लोकतंत्र को भारी नुकसान पहुंच रहा है और यह अति निंदनीय तथा शर्मनाक भी है । 

चंदा कोचर के देवर को मिली कोर्ट से बड़ी राहत, जा सकेंगे विदेश

 

केजरीवाल ने अमित शाह पर बोला हमला
आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी भाजपा और चुनाव आयोग पर सवाल उठाए हैं। केजरीवाल ने कहा, 'जिस तरह से अमित शाह ने जाकर वायलेंस को भड़काया है, हम उसकी निंदा करते है! मुझे पूरी उम्मीद है कि बंगाल की जनता मोदी-शाह को कड़ा सबक सिखाएगी! हम चुनाव आयोग के इस रवैये की निंदा करते हैं, जो मोदी जी की रैली के बाद उन्होंने प्रचार को बंद करवाने का फरमान सुनाया है!' 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.