Wednesday, Jan 19, 2022
-->
west bengal tableau will not be seen on republic day proposal

गणतंत्र दिवस के परेड में शामिल नहीं होगी बंगाल की झांकी, 22 प्रस्तावों को मिली मंजूरी

  • Updated on 1/2/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। इस बार की गणतंत्र दिवस (Republic Day) परेड के लिए आए झांकियों के 56 प्रस्तावों में से 22 चुने गए हैं जिनमें राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के 16 और केंद्रीय मंत्रालयों के छह प्रस्ताव हैं। रक्षा मंत्रालय (Defence Minister) ने बुधवार को यह जानकारी दी। मंत्रालय को राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों से झांकियों के 32 और केंद्रीय मंत्रालयों एवं विभागों से 24 प्रस्ताव मिले थे।

दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने सिपाहियों को सरदार पटेल के सिद्धांतों पर चलने का दिया संदेश

56 में 22 प्रस्तावों को मिली मंजूरी
मंत्रालय द्वारा जारी बयान बयान में कहा गया है,‘‘ पांच बैठकों के बाद उनमें से राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के 16 और मंत्रालयों/विभागों के छह प्रस्ताव अंतिम रूप से गणतंत्र दिवस परेड 2020 (Republic Day Parade 2020) के लिए चुने गए हैं।’’ बयान के अनुसार पश्चिम बंगाल के प्रस्ताव को विशेषज्ञ समिति द्वारा दो दौर की अपनी बैठकों में परीक्षण करने के बाद खारिज कर दिया गया। पश्चिम बंगाल सरकार के सूत्रों के मुताबिक उनकी ओर से राज्य में विकास कार्यों, जल संरक्षण, पर्यावरण संरक्षण की थीम पर कई प्रस्ताव दिए थे। 2019 में पश्चिम बंगाल (West Bengal) की झांकी गणतंत्र दिवस परेड में शामिल की गई थी।

दिल्ली: चालान काटने पर नाराज चालक ने खुद की बाइक को लगाई आग

पश्चिम बंगाल में हो रहा है नागरिकता कानून का विरोध
बताते दें, पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी एनआरसी और सीएए (CAA) के खिलाफ लगातार मुहिम चला रही है। ममता बनर्जी के मुताबिक किसी भी सूरत में एनआरसी और सीएए को अपने राज्‍य में लागू नहीं करने देगी। 23 दिसंबर 2019 को ममता बनर्जी ने शरद पवार को पत्र लिखकर एनआरसी और सीएए पर समर्थन की अपील की थी। ममता के पत्र के जवाब में शरद पवार (Sharad Pawar) ने 27 दिसंबर 2019 को एक पत्र भेजा जिसमें एनआरसी और सीएए के खिलाफ ममता बनर्जी द्वारा चलाए जा रहे आंदोलन के प्रति अपना समर्थन व्‍यक्‍त किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.