Tuesday, Jun 18, 2019

पाकिस्तानी मीडिया को भी है मोदी के वापसी की उम्मीद, मगर उनको सता रहा है यह डर

  • Updated on 5/22/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आम चुनाव का परिणाम 23 मई को आने वाला है। जिसका सभी देशवासियों को बेसब्री से इंतजार हैं, अपने देश के अलावा पड़ोसी देश पाकिस्तान (pakistan) को भी भारत के परिणामों में बखूबी दिलचस्पी है जिस कारण पाकिस्तान के अखबारों में भारतीय चुनाव परिणामों (indian election) को लेकर लगातार लेख लिखे जा रहें  हैं और वहां भी भारत की तरह परिणामों से पहले सभी लेख प्रधानमंत्री मोदी (prime minister) की वापसी की ओर इशारा कर रहे हैं।

पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन (The Dawn) ने अपने संपादकीय लेख, मोदी 2.0 में कहा है कि अगर भारत के एक्जिट पोलों (exit poll) की माने तो भारत में एक बार फिर से नरेन्द्र मोदी की सरकार बनती  नजर आ रही है और एक बार फिर मोदी हिंदू राष्ट्रवाद और आक्रामक राष्ट्रीय सुरक्षा के बलबूते  फिर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने वालें हैं।

EVM मजबूत, नहीं की जा सकती छेड़छाड़, तीन स्तरीय होती है सुरक्षा

इसके अलावा वह लिखते हैं कि मोदी के दूसरे कार्यकाल में पाकिस्तान के साथ तनाव की संभावना कम होते नजर नहीं आ रही है। मोदी की सत्ता में वापसी उनकी पाकिस्तान के प्रति बदले वाली नीति की वापसी होगी और जिस तरह से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने उम्मीद जताई थी कि भारत में दक्षिणपंथी सरकार की वापसी होने पर पाकिस्तान से उसके रिश्ते बेहतर होने की संभावना नजर नहीं आती।

जाहिद हुसैन अपने लेख If Modi returns में लिखतें हैं कि मोदी की तुलना वाजपेयी से करना बहुत बड़ी गलती होगी, वाजपेयी समस्याओं के समाधान के लिए बातचीत का रास्ता अपनाते थे तो वही मोदी शक्ति का इस्तेमाल करके समाधान निकालना चाहते हैं। इससे एक सबाल खड़ा होता है कि क्या मोदी  इमरान के शांति के संदेश को अपनायेंगे? क्या मोदी अपनी नयी पारी में अपना रूख बदलेंगे।

 इस तरह से भारत ने किया ई-लोकतंत्र में प्रवेश, जानें बैलेट बॉक्स से EVM तक का पूरा सफर

इसके अलावा पाकिस्तानी मीडिया में कश्मीर मुद्दे को लेकर भी हाहाकार मचा हुआ है। पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार अगर मोदी सत्ता में वापस आते हैं तो वह फिर से अनुच्छेद 370 को हटाने की बात करेंगें जिससे कश्मीर में फिर से तनाव बढ़ जायेगा, जिसका असर नई दिल्ली और इस्लामाबाद के रिश्तों पर पड़ेगा।

 

इसके अलावा पाकिस्तान के अखबार द न्यूज इंटरनेशनल के मुताबिक पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने परिणामों के रूझानों को देखते हुए अपनी ओर से तैयारियां शुरू कर दी है। अखबार ने लिखा है कि मोदी और बीजेपी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक  संघ को पाकिस्तान विरोधी लहर पर चलने का वादा किया है।

करा रहे वर्षों से चुनाव, अफसरों को भी देते हैं टिप्स!

इसके अलावा एक्सप्रेस ट्रिब्यून में 'If Modi Loses Indian elections' शीर्षक से छपें लेख में लिखा है कि अगर भारत में एक बार फिर प्रधानमंत्री मोदी की सरकार आती है तो भारत में लोकतांत्रिक व्यवस्था खत्म हो जायेगी और सांप्रदायिक तनाव भी बढ़ जायेगा


इसके अलावा वह यह भी कहते हैं कि अगर मोदी सरकार वापस नहीं भी आती है तो भी नई सरकार को हिदुत्ववादी ताकतों से लड़ने में काफी समय लगेगा। जिस तरह मोदी के राज में भारत में हिदूत्व की लहर चली है उसको इतनी जल्दी शांत नहीं किया जा सकता।   
        

 
  

  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.