Wednesday, Jan 22, 2020
What BJP leader Ram Madhav gave to America and Pakistan, which will increase controversy

नागरिकता बिलः बीजेपी नेता राम माधव ने अमेरिका और पाकिस्तान क्या दे दी नसीहत, जिससे बढ़ेंगे विवाद

  • Updated on 12/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता बिल (Citizenship Act) लोकसभा (Loksabha) में पास हो गया है। लेकिन इस बीच राज्यसभा (Rajyasabha) में पास होने से पहले ही इस पर देश के अंदर और देश के बाहर विरोध शुरु हो गया है। जहां मोदी सरकार (Modi Government) ने बहुत ही दृढ़ता से इसे लागू करने के प्रति प्रतिबद्धता जताई है तो विरोधी दल कांग्रेस (Congress) समेत अनेक दलों ने धार्मिक आधार पर बंटवारा करने का साजिश बताया है। इस बीच अमेरिका (America) और पाकिस्तान (Pakistan) से भी इस बिल के विरोध में आवाज सुनने को मिला है। जिस पर टिप्पणी करते हुए बीजेपी (Bjp) के महासचिव राम माधव (Ram Madhav) ने कड़ा एतराज जताया है।

उद्धव ठाकरे ने फिर बदला अपना रुख, कहा- राज्यसभा में नागरिकता संशोधन बिल का करेंगे विरोध

भारत का आंतरिक मसला है नागरिकता बिल
उन्होंने आश्चर्य प्रकट किया है कि जब नागरिकता बिस भारत का आंतरिक मसला है तो आखिर कैसे अमेरिका और पाकिस्तान इस पर विरोध दर्ज करा सकता है। उन्होंने इस बिल को भारत का आंतरिक बिल बताया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने जो फैसला किया है वो एतिहासिक और साहसिक है इस पर पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता है। उन्होंने भरोसा जताया है कि राज्यसभा में भी इस बिल को पास होने में कोई दिक्कत नहीं होगा।

जानें, नागरिकता संशोधन विधेयक का क्यों हो रहा है विरोध?

पाकिस्तान ने उठाये बिल पर सवाल
उधर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने मोदी सरकार के इस फैसले पर खासी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि RSS भारत में काफी तेजी से अपना एजेंडा जारी करने में जुटा है जो बेहद खतरनाक है। वहीं अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की विदेश मामलों की स्थायी समिति ने भी मोदी सरकार के इस फैसले पर सवाल उठाया है। जिसमें कहा गया है कि नागरिकता बिल के पास होने से धार्मिक आधार पर भेदभाव होने की ओर संकेत करता है जिससे लोकतंत्र के मूल्य कमजोर होंगे।

comments

.
.
.
.
.