Friday, Jul 01, 2022
-->
what is pcos and the symptoms of pcos

क्या होता है pcos क्यों हो रही है भारत की हर दूसरी महिला इसका शिकार

  • Updated on 7/24/2019

नई दिल्ली/अदिती सिंह। इस भाग -दौड़ भरी जिंदगी में लोग न वक़्त पर न खाना खा पा रहे हैं, ना नींद ले पा रहे हैं और न ही खुद की सेहत का ख्याल रख पा रहे हैं, और बात महिलाओं की हो तो स्थिति और भी बिगड़ जाती है। घर, दफ्तर, बच्चों के बीच संतुलन बनाने में वह फसी रहती हैं। जिस में वह हमेंशा खुद को भूल दूसरों की सेहत का ध्यान रखती है। और एसे में उन पर तनाव का स्तर अधिक भी रहता है। इन सब के बीच वह अपनी सेहत से समझौता करती हैं।  

आज के जमाने में महिलाओं की स्थिति अधिक विचारनीय है 
इस तरह के लाइफ स्टाइल से महिलाओं के द्वारा अपने शरीर को अनदेखा करने से विभिन्न प्रकार की समस्याएं पैदा होती है। जिनमें से एक है PCOD/PCOS बीमारी। कुछ सालों पहले तक यह समस्या 30-35 उम्र की महिलाओं में अधिक पाई जाती थी पर अब स्कूल जा रही बच्चियों और 20 वर्ष की महिलाओं में भी यह समस्या आम हो गई है। इस बिमारी से ग्रस्त औरतों को इस के साथ साथ और भी अनेक बीमारियां होने का खतरा बना रहता है।

मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज में खुदाई के दौरान मिली ऐतिहासिक इमारत! ASI की टीम मौके पर

Navodayatimesक्या है PCOS
पॉली सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) या पॉली सिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर (PCOD) एक ऐसी मेडिकल कंडिशन है। जिसमें आमतौर पर रिप्रोडक्टिव उम्र की महिलाओं में हॉर्मोन में असंतुलन (hormonal imbalance) के कारण पाई जाती है। इसमें महिला के शरीर में male हॉरमोन – 'Androgen' – का लेवल बढ़ जाता है व ओवरीज पर एक से ज्यादा सिस्ट हो जाते हैं।
यह  Genetically भी हो सकता है और ज्यादा वज़न होने पर भी इसके होने की संभावना बढ़ जाती है। ज्यादा तनाव भरी जिंदगी भी इसका एक मुख्य कारण हो सकती है।

Navodayatimes

क्या है इस के संकेत/ लक्षण 
बता दें कि जिन लड़कियों में पीरियड्स की समस्या देखने को मिलती है उन्हीं लड़कियों को पॉली सिस्टिक ओवेरियन डिजीज (PCOD) की समस्या का सामना करना पड़ता है। अगर कम उम्र के चलते ही इस समस्या का पता लग जाए तो इसे काबू में किया जा सकता है।

  • वजन बढ़ना 
  • मासिक धर्म चक्र में 
  • थकान
  • शरीर व चेहरे पर एक्सट्रा हेयर ग्रोथ होना
  • बाल पतले होना 
  • pelvic pain होना
  • मुंहासे  
  • सिर दर्द 
  • नींद की समस्याएं और मूड स्विंग आदि शामिल हैं

इसके अलावा हाइ ब्लड प्रेशर, diabetes व दूसरे हॉर्मोन्स का असंतुलन भी इसके बढ़ने पर हो सकते हैं। ये कंडिशन ज़्यादा गंभीर होने पर महिला को pregnant होने में भी मुश्किल होती है। 

जनपथ के किदवई भवन में लगी आग, कोई हताहत नहीं

कैसे करें PCOS से बचाव? 
पीसीओएस ठीक नहीं हो सकता, लेकिन इसके साथ Healthy Food के साथ अपनी जीवनशैली और Daily Routine में थोड़ा बदलाव लाकर इस को रोका जासकता है। 

  • वज़न कंट्रोल करें
  • नियमित Exercise करें
  • घरेलू उपाय करें
  • सही लाइफस्टाइल का चुनाव करें
  • खान-पान का रखे ध्यान

तो Ladies अब इस बीमारी से डरने या घबराने की जरुरत नही बस जिंदगी मे ये छोटे- छोटे बदलाव लाएं और  इसका डट कर मुकाबला करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.