Wednesday, Jan 22, 2020
what said home minister amit shah about kashmir after that adhir ranjan get angry

लोकसभाः गृह मंत्री अमित शाह और अधीर रंजन में क्यों हुआ नोकझोंक, जानें क्यों भड़के कांग्रेस नेता

  • Updated on 12/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जब नागरिकता बिल को लेकर देश और विदेश में धूम मची हो तब कश्मीर (Kashmir) मु्ददे जो कभी नैपथ्य में चला जाता है अचानक फिर से परदे के सामने आ जाता है। आज लोकसभा में फिर कश्मीर राग अलापा गया। कांग्रेस (Congress) के सदन के नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chaudhary) ने कश्मीर में राजनीतिक नेताओं की रिहाई को लेकर सवाल पूछा तो जवाब में गृह मंत्री अमित शाह (Amit Sah) ने पल्ला झाड़ते हुए कहा कि यह स्थानीय प्रशासन तय करेगा कि कब किसे रिहा करना है। 

लद्दाख, जम्मू कश्मीर में रात का तापमान बढ़ने से मिली हल्की राहत

कभी कांग्रेस ने फारुख अब्दुला के पिता को रखा 11 साल जेल
साथ ही उन्होंने कांग्रेस को याद दिलाने से नहीं चूंके कि कभी कांग्रेस ने फारुख अब्दुला के पिता को 11 साल तक जेल में रखा था। इसलिये कांग्रेस को इस मामले पर बोलने का नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने फिर कहा कि हमारी सरकार ऐसे इतने दिनों तक किसी राजनीतिक बंदी को रखने के पक्ष में नहीं है। जैसे ही स्थानीय प्रशासन को लगेगा कि वहां के राजनीतिक नेताओं की रिहाई से वातावरण में कोई असर नहीं होगा उन्हें रिहा कर दिया जाएगा।

कश्मीर में हिमस्खलन के दौरान 4 जवान फंसे, बचाव कार्य जारी

गृह मंत्री ने किया दावा-कश्मीर में हालात है सामान्य
अधीर रंजन ने बीच में टोकते हुए कहा कि कश्मीर में तो स्थिति सामान्य ही नहीं है। उस पर प्रतिक्रिया देते हुए गृह मंत्री ने कहा कि पता नहीं किस मापदंड से कांग्रेस के नेता कश्मीर को देखते है। जबकि उन्होंने दावा किया कि कश्मीर में अब हालात तेजी से सामान्य हो गया है। उन्होंने कांग्रेस पर कटाक्ष किया कभी इस पार्टी ने कहा था कि धारा 370 हटाने से रख्पात हो जाएगा। लेकिन आज कश्मीर में हालात तो समान्य है। वहां के जन-जीवन धीरे-धीरे पटरी पर आ गई है।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.