Tuesday, Oct 27, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 26

Last Updated: Mon Oct 26 2020 09:33 PM

corona virus

Total Cases

7,918,102

Recovered

7,141,966

Deaths

119,148

  • INDIA7,918,102
  • MAHARASTRA1,645,020
  • ANDHRA PRADESH807,023
  • KARNATAKA802,817
  • TAMIL NADU709,005
  • UTTAR PRADESH470,270
  • KERALA377,835
  • NEW DELHI356,656
  • WEST BENGAL353,822
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA279,582
  • TELANGANA231,252
  • BIHAR212,192
  • ASSAM204,171
  • RAJASTHAN182,570
  • CHHATTISGARH172,580
  • MADHYA PRADESH167,249
  • GUJARAT165,233
  • HARYANA158,304
  • PUNJAB130,640
  • JHARKHAND99,045
  • JAMMU & KASHMIR90,752
  • CHANDIGARH70,777
  • UTTARAKHAND59,796
  • GOA41,813
  • PUDUCHERRY33,986
  • TRIPURA30,067
  • HIMACHAL PRADESH20,213
  • MANIPUR16,621
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,207
  • SIKKIM3,770
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,219
  • MIZORAM2,359
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
when lord ram visits ayodhya how many ravans will be killed

जब भगवान राम पधारेंगे अयोध्या तो कितने होंगे रावण वध!

  • Updated on 12/9/2019

कभी इस देश में रावण ने सीता का अपहरण किया था तो उन्हें पाने के लिये, भगवान राम (Lord Ram) को भीषण युद्ध से गुजरना पड़ा। भगवान राम के दूत हनुमान (Hanuman) ने तो गुस्से में सोने की लंका में आग लगा दी। यह युद्ध और आग इसलिये तो लगाए गए क्योंकि एक महिला का सम्मान जुड़ा था। पता नहीं इस युद्ध में कितने लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी होगी। सिर्फ एक महिला के अपहरण का यह मामला था। भगवान राम के सीता से अंत में फिर से मिलन से भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि इस राम और रावण (Ravana) के युद्ध का संदेश- जिसे हम दशहरा में विश्वविख्यात रावण- वध के तौर पर मनाते है। लेकिन आज उसी राम की धरती पर फिर से पता नहीं कितने लाखों, हजारों महिलाओं का अपहरण से लेकर चीरहरण किया गया- इसका कोई ज्ञात डाटा नहीं है। कारण देश में पल-पल महिला अपने आत्मसम्मान, स्वाभिमान के लिये लड़ती है, जूझती है। 

योगी सरकार उन्नाव रेप पीड़िता के परिवार को देगी मुआवजा, 1 घर और 25 लाख रुपए का ऐलान

भगवान राम के अयोध्या लौटने की तैयारी हुई शुरु
इस देश में कौन-सा रामराज्य लाने की तैयारी हो रही है? कोई बताएगा कि जब भगवान राम फिर से अयोध्या लौटने की तैयारी में है तो उस समय देश में महिलाओं का, बच्चियों का कैसे बलात्कार किया जा रहा है? जब भगवान राम सीता को लेकर वापस अयोध्या लौटे तो पूरे भारतवर्ष में जश्न और धूम-धाम मनाया गया था। जिस दिन से वे अयोध्या लौटे उसी दिन से दीपावली की शुरुआत हुई जिसे आज तक हम मनाते रहे हैं।

unnao victim in hospital

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की मौत पर बोले राहुल गांधी- रेप कैपिटल बना India

राम से शपथ लेने की तैयारी में जनता

आज भगवना राम से पूछना चाहता हूं कि आखिर फिर से अयोध्या क्यों लौट रहे है? उन्हें इस धरती पर कदम रखने से पहले यह शपथ देना होगा कि उनके लौटने के बाद इस देश की घर-घर की बच्ची से लेकर महिला तक सुरक्षित रहेगी। जैसे उन्होंने तब सीता के लिये रावण का वध किया तो अब भी उन्हें हजारों रावण का फिर से वध करना पड़ेगा। यह शपथ देने के बाद ही वे इस पाप की नगरी में कदम रखे तो बेहतर होगा। वरना अब दिल्ली नहीं अयोध्या में लोग धरना-प्रदर्शन करना शुरु करेंगे। 

हैदराबाद एनकाउंटर बताकर सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से Viral हो रही इस तस्वीर सच

सीता का अपहरण कुछ याद दिलाता है...
सीता के अपहरण की यह घटना हमें याद दिलाती है कि हजारों सालों से आज तक महिलाओं को जो सम्मान की जिंदगी जीना चाहिये उसके लिये उसे दर-दर की ठोकरें खानी पड़ी है। आज तो देश में 3 महीने की बच्ची से लेकर 70 साल की बुजुर्ग महिला तक सुरक्षित नहीं है। अभी-अभी हैदराबाद गैंगरेप की शिकार हुई डॉक्टर पीड़िता को जिंदा जलाकर जश्न में डूबे लड़कों को पुलिस ने पकड़कर पूछताछ के समय कथित Encounter कर दिया। इस गैंगरेप की घटना से आहत देश में उबल रहे गुस्सा में लोगों ने तरह-तरह की प्रतिक्रिया दी। 

Hyderabad rape case

हैदराबाद एनकाउंटर : एक नहीं कई मामलों में इंसाफ बाकी हैं...

उन्नाव की बेटी ने दिल्ली में तोड़ा दम
फिर उन्नाव में इसी तरह एक पीड़िता को जिंदा जलाकर मारने की कोशिश हुई। उन्नाव की बेटी ने उस दिल्ली में दम तोड़ा जहां संसद से कानून पास होता है तो देश की दीवारों तक लिखा जाता है, उसे व्याख्या किया जाता है। उन्नाव की इस बेटी ने उस निर्दयी दिल्ली में दम तोड़ा जहां देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सुप्रीम कोर्ट के CJI, 500 से ज्यादा सांसद देश के पहरेदार के रुप में हमेशा पहरेदारों के घेरे में चारों पहर रहते हैं। 

पश्चिम बंगालः छह साल की बच्ची से बलात्कार, एक गिरफ्तार

राम के नाम पर सत्ता बनती और बिगड़ती है
लेकिन फिर अंत में भगवान राम को याद दिलाकर अभी विराम लेता हूं कि आप पुरुषोत्तम है, आपके नाम पर सत्ता बनती है और बिगड़ती रही है। लेकिन आपको याद दिला देता हूं कि देश को आजादी हुए 70 साल से ज्यादा हो गए लेकिन आज तक ऐसा कानून नहीं बन पाया कि एक रेपिस्ट को त्वरित फांसी की सजा दी जाए। ताकि दम तोड़ती पीड़िता को न्याय भी मिल सकें। हां इतना जरुर हुआ इस 70 सालों में किसी नेता ने अगर किसी महिला की इज्जत लूटी तो उसी महिला को बताने के लिये न्याय की मांग के लिये जेल तक भी जाना पड़ा है। 

Rapist in custody

हैदराबाद गैंगरेप- मर्डर केस: दरिंदगी से एनकाउंटर तक, जानें पूरी कहानी

होलिका दहन की तरह लड़की को जाता है जलाया 
यह वहीं देश हैं जहां 4 से 5 लोग जमा होकर जिस तरह होलिका का दहन किया जाता है उसी तरह एक लड़की को जला दिया जाता है। यह वहीं देश है जहां रेपिस्ट को फांसी दिलाने के नाम पर राजनीति और भूख-हड़ताल तक की जाती है। कृपया करके आप से उम्मीद की जाती है कि जब पधारिये तो गाजे-बाजे सुनने के बाद आज के नेता जो सत्ता मिलने के बाद अंधा होने का नाटक करते है उसको करारा जवाब दे सकें। ऐसा हर भारतवासियों को फिर से आत्मविश्वास भर दें तो बहुत मेहराबानी होगी।

गैंगरेप के दोषियों को फांसी की मांग पर मीनाक्षी लेखी ने कही ये बात...

राम ही करेंगे बैरा पार, नेता जाएंगे उस पार
अंत में यह बताते हुए भगवान राम आपको अलर्ट करता हूं कि यह नेताओं की फौज से ज्यादा उम्मीद नहीं है कि वे एक पीड़िता को जल्द न्याय दिला सकें। इसलिये आपके तरकश में ऐसे तीर रहना जरुरी है कि उन्हें बैनकाब कर सकें। उन्हें बता सकें कि आपके पधारने के बाद एक भी बच्ची या महिला का किसी रावण ने हाथ डालने की जुर्रत की तो जल्द न्याय कैसे होता है यह सीख जरुर दे दीजिएगा। आपके राज में भेदभाव नहीं होता है- यह भी इन नेताओं को बता दिजीएगा कि रेपिस्ट कोई हो एक नागरिक हो या फिर नेता उसकी सजा जल्द से जल्द संभव होगा। ऐसा आदेश ही पारित कर दिजीएगा। तो बड़ी कृपा होगी।

लेखकः कुमार आलोक भास्कर

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा पंजाब केसरी समूह उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

comments

.
.
.
.
.