Monday, Jan 24, 2022
-->
whistleblowers expressed deep dissatisfaction over cbi investigation madhya pradesh congress govt

व्यापमं घोटाले को लेकर मध्यप्रदेश सरकार के रवैये से नाराज व्हिसलब्लोअर

  • Updated on 7/24/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मध्यप्रदेश में वर्ष 2013 में सामने आये कुख्यात व्यापमं घोटाले को लेकर व्हिसलब्लोअरों ने सीबीआई की जांच और मध्यप्रदेश सरकार के रवैये पर गहरा असंतोष जताया है। व्हिसलब्लोअरों का कहना है कि सरकारी प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं में बड़े पैमाने पर धांधली से जुड़े इस घोटाले को ठंडे बक्से से बाहर निकालकर इसकी बारीकी से छानबीन करायी जानी चाहिये, क्योंकि मामले की कई बड़ी मछलियां अब भी कानून की गिरफ्त से बाहर हैं। 

तमाम ऐहतियात के बावजूद अमरनाथ यात्रा के दौरान 4 और तीर्थयात्रियों की मौत

व्यापमं घोटाले के व्हिसलब्लोअर आनंद राय ने बुधवार को कहा, 'व्यापमं घोटाले से किसी न किसी तरह जुड़े करीब 50 लोगों की गुजरे छह सालों में संदिग्ध हालात में मौत हो चुकी है। इन मौतों के अधिकांश मामलों में सीबीआई की जांच से कोई खास बात सामने नहीं आयी है। लगता है कि सीबीआई जल्द से जल्द इन मामलों की जांच बंद करना चाहती है, जबकि कई बड़ी मछलियां अब भी आजाद हैं।'

जम्मू कश्मीर : अलगाववादियों के बाद कुछ कारोबारी भी NIA के निशाने पर

उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले ही सूबे की एक विशेष अदालत ने मेडिकल छात्रा नम्रता डामोर की संदिग्ध हालात में मौत के बहुर्चिचत मामले को खत्म करने की सीबीआई की अर्जी खारिज करते हुए केंद्रीय जांच एजेंसी को आदेश दिया है कि वह इस प्रकरण की दोबारा जांच कर अंतिम रिपोर्ट सौंपे। एमबीबीएस द्वितीय वर्ष की छात्रा नम्रता का शव पड़ोसी उज्जैन जिले में रेलवे पटरी पर वर्ष 2012 में मिला था और उसकी मौत को व्यापमं घोटाले से जोड़कर देखा जाता है।  

TMC ने UAPA विधेयक को संविधान विरोधी करार दिया, BJD ने की तारीफ

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय के वर्ष 2015 में दिये गये आदेश के तहत व्यापमं घोटाले से जुड़े मामलों की जांच सीबीआई कर रही है। हालांकि, व्हिसलब्लोअरों का दावा है कि इस घोटाले से जुड़ी कई शिकायतें प्रदेश सरकार के दफ्तरों में धूल खा रही हैं। राय ने कहा, 'प्रदेश में दिसंबर 2018 के दौरान कांग्रेस की सरकार बनने के बाद हम (व्हिसलब्लोअर) गृह मंत्री बाला बच्चन से तीन बार मिल चुके हैं। लेकिन व्यापमं घोटाले से जुड़ी सैकड़ों शिकायतों पर लम्बित जांच को लेकर अब तक कोई ठोस फैसला नहीं किया गया है।'

कर्नाटक प्रकरण : कांग्रेस बोली, खरीद-फरोख्त के खिलाफ होगा राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन

इस बीच, व्यापमं के एक अन्य व्हिसलब्लोअर आशीष चतुर्वेदी ने भी आरोप लगाया कि व्यापमं घोटाले की जांच को लेकर सीबीआई का रवैया ढीला-ढाला रहा है। उन्होंने कहा, 'सीबीआई ने व्यापमं घोटाले के मामलों की तह तक जाकर जांच नहीं की है। 'उन्होंने व्यापमं घोटाले की जांच को लेकर प्रदेश सरकार की भूमिका पर भी सवाल उठाते हुए कहा, 'कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार को व्यापमं घोटाले की अच्छी तरह जांच करानी ही चाहिये। कांग्रेस ने शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई वाली तत्कालीन भाजपा सरकार के खिलाफ जिन मुद्दों के दम पर नवंबर 2018 का विधानसभा चुनाव जीता, उनमें व्यापमं घोटाले की गहराई से जांच कराने का वादा अहम था।'

टूर ट्रेवल पैकेज देने वाली Journeys By Jukaso से ग्राहक परेशान, टोल फ्री नंबर भी हुआ बंद

मध्यप्रदेश के विधि एवं विधायी मंत्री पीसी शर्मा ने मंगलवार को एक बयान में कहा था कि सूबे की पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल के व्यापमं घोटाले में यदि नवीन तथ्य सामने आते हैं, तो इस मामले की नये सिरे से दोबारा जांच करायी जायेगी। शर्मा ने वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह द्वारा 21 जुलाई को प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को व्यापमं घोटाले के बारे में लिखे पत्र के बारे में पूछे गये सवाल के जवाब में यह बात कही। 

वित्तीय धोखाधड़ी : प्योर ग्रोथ के मालिक आकाश जिंदल की कोर्ट पेशी, फरार है रस्तोगी परिवार

इस पत्र में दिग्विजय ने कहा है कि व्यापमं घोटाले के 'मुख्य आरोपियों' को कानून के दायरे में लाकर उन्हें सजा दिलायी जाये और निर्दोष छात्र-छात्राओं के साथ इंसाफ किया जाये। गौरतलब है कि व्यावसायिक परीक्षा मंडल की आयोजित प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं में बड़े पैमाने पर धांधली सामने आने के बाद राज्य सरकार ने इसका आधिकारिक नाम बदलकर 'प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड' कर दिया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.