Wednesday, Dec 01, 2021
-->
who-approves-china-another-vaccine-sinovac-vaccine-meets-international-standards-prshnt

WHO ने चीन की एक और वैक्सीन 'सिनोवैक' को दी मंजूरी, अंतरराष्ट्रीय मानकों पर खरा उतरा टीका

  • Updated on 6/2/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया भर में कोहराम मचा रहे कोरोना वायरस की शुरूआत चीन से हुई थी, जहां अब स्थिति पूरे नियंत्रण में बताया जा रहा है। इसका मुख्य कारण है कि चीन ने अपने नागरिकों को सही समय पर कोरोना वैक्सीन लगा दी। इसके बाद भी चीन कोरोना वैक्सीन बनाने में लगा है। चीन में बनाए गए वैक्सीन सिनोवैक को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मंगलवार को मंजूरी दे दी है। डब्ल्यूएचओ ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि उसने चीन के दूसरे कोविड-19 टीके सिनोवैक को आपात उपयोग सूची में शामिल करने के लिए मंजूरी दे दी है। संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने एक बयान में कहा, डब्ल्यूएचओ ने आज आपात इस्तेमाल के लिए सिनोवैक-कोरोनावैक कोविड-19 टीके को मंजूरी दी।

देशों, खरीद एजेंसियों और समुदायों को यह आश्वासन दिया गया है कि यह टीका सुरक्षा, प्रभाव और निर्माण के लिहाज से अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करता है। बीजिंग स्थित दवा कंपनी सिनोवैक द्वारा यह टीका बनाया गया है।

फडणवीस के बयान पर मंत्री नवाब मलिक का पलटवार, कहा- नहीं सफल होगा 'ऑपरेशन लोटस'

डब्ल्यूएचओ ने आपात इस्तेमाल की मंजूरी
डब्ल्यूएचओ के सहायक-महानिदेशक डॉ मारियांजेला सिमाओ ने कहा, दुनिया को कई कोविड-19 टीकों की सख्त जरूरत है। हम निर्माताओं से कोवैक्स कार्यक्रम में भाग लेने, अपने ज्ञान और आंकड़े को साझा करने और महामारी को नियंत्रण में लाने में योगदान करने का आग्रह करते हैं। डब्ल्यूएचओ ने सात मई को आपात इस्तेमाल के लिए चीन के सिनोफार्म कोविड-19 टीके को सशर्त मंजूरी दी थी।

CBSE के बाद अब गुजरात बोर्ड भी कर सकता है 12वीं की परीक्षा कैंसिल, कैबिनेट मीट‍िंग में होगा फैसला

चीन से 6000 ऑक्सीजन सिलेंडर आयात
बता दें कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर दिल्ली सरकार ने तैयारियां अभी से शुरू कर दी हैं। सरकार ने चीन से 6000 ऑक्सीजन सिलेंडर आयात किए हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को मायापुरी ऑक्सीजन सिलेंडर डिपो का दौरा कर चीन से आयात किए गए सिलेंडर का निरीक्षण किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर हमारी तैयारियां जारी हैं। हम दिल्ली में तीन जगह दो 2-2  हजार सिलेंडर के डिपो बना रहे हैं। अगर कोरोना के केस बढ़ते हैं तो इसमें हम 3000 ऑक्सीजन बैड तैयार कर पाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह 6000 ऑक्सीजन सिलेंडर चीन से आयात किए गए हैं।

प. बंगाल: दिलीप घोष का आरोप- रिजल्ट के बाद हुई 37 BJP कार्यकर्ताओं की हत्‍या

अभी तक 4400 सिलेंडर आ चुके
सीएम ने बताया कि अभी तक 4400 सिलेंडर आ चुके हैं और 2 से 3 दिन के अंदर 1600 सिलेंडर आ जाएंगे। अगर किसी को भी व्यक्तिगत रूप में सिलेंडर की जरूरत होगी तो उसको भी दिया जाएगा और अगर दोबारा कोरोना की लहर आती है और दिल्ली में केस बढ़ते हैं तो इन 6000 सिलेंडरों की मदद से दिल्ली में करीब 3000 ऑक्सीजन बेड तैयार किए जाएंगे। एक बेड पर दो सिलेंडरों की जरूरत पड़ती है।

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.