Friday, Jul 23, 2021
-->
who is general zhao zongqi of china djsgnt

जानें, कौन है जनरल झाओ जोंगकी? जिसने रची गलवान घाटी के हमले की साजिश

  • Updated on 6/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बेहद करीबी माने जाने वाले पश्चिमी थियेटर कमांड के प्रमुख जनरल झाओ जोंगकी को एक बार फिर से हार का सामना करना पड़ा। अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक जनरल झाओ गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों पर हमला करवाकर तबाही मचाना चाह रहे थे। आइए जानते हैं कि कौन हैं जनरल झाओ जिसने भारत-चीन की सीमा पर झड़प करवा दिया। 

'बायकॉट चाइना' मूवमेंट से घबराया चीन, इस तरह देने लगा है धमकी, पढ़े रिपोर्ट

जनरल से जुड़ी कुछ अनसुनी बातें...

- चीन के नवनिर्मित पश्चिमी थिएटर कमांड का नेतृत्‍व कर रहे हैं

- झाओ को सेंट्रल मिलिट्री कमिशन में शामिल किया गया है। चीन की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी की सैन्‍य फैसले लेने वाली सर्वोच्‍च संस्‍था है।

- जनरल झाओ चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग के बेहद नजदीकी लोगों में शामिल हैं।

- उन्‍हें चीनी सेना में बहुत क्रूर जनरल माना जाता है जो घात लगाकर हमले करते रहे हैं।

- जनरल झाओ चाहते थे कि डोकलाम में और ज्‍यादा जमीन को हड़प लिया जाए। राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग और जनरल झाओ दोनों ही सीपीसी के शांक्‍सी प्रांत के क्रांतिकारी हीरो में शामिल थे।

- वर्ष 1979 में वियतनाम युद्ध के दौरान उन पर भीषण हमला हुआ था लेकिन वह बच निकले थे

-अमेरिकी खुफ‍िया रिपोर्ट में कहा गया है कि जनरल झाओ वर्ष 1979 में हुए वियतनाम युद्ध के दौरान पीएलए में थे और माना जाता है कि उनके कुप्रबंधन की वजह से विवाद काफी बढ़ गया था।

पश्चिमी थियेटर कमांडर ने दी थी हमले की अनुमति
हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद गए थे। वहीं चीन की ओर से अपने सैनिकों की मौत को लेकर कोई खुलासा नहीं किया गया है। चीन ने झड़प के दौरान अपने एक सीओ और दो अन्य अधिकारियों के मारे जाने की पुष्टि की है। अमेरिकी खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन के पश्चिमी थियेटर कमांडर प्रमुख  झाओ जोंगकी ने गलवान में हमले की अनुमति दी थी। रिपोर्ट के मुताबिक झाओ भारतीय सैनिकों पर हमला कर भारत को सबक सीखाना चाहता था।

सुलह की कवायदः भारत व चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की दूसरे दौर की वार्ता शुरू

चीन के 40 से अधिक सैनिक हताहत

वहीं दूसरी तरफ चीन के विदेश मंत्रालय ने दावा किया था कि भारतीय सैनिकों ने पहले चीनी सैनिकों पर हमला किया था। अमेरिकी रिपोर्ट की मांने तो ये साफ हो जाता है कि चीन इस हिंसक झड़प के जरिए भारत को अपनी सैन्य छमता व चीनी ताकत का संदेश देना चाहता था। चीन ने इस दौरान सोचा भी नहीं होगी की उसकी ये चाल उस पर ही उल्टी पड़ जाएगी और उसके 40 से अधिक सैनिक हताहत हो जाएंगे।  

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.