Thursday, May 13, 2021
-->
who nihang sikh who are considered symbol of valor and courage in sikhs prsgnt

जानिए कौन हैं सिखों में शौर्य और साहस का प्रतीक माने जाने वाले निहंग सिख

  • Updated on 4/13/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए लॉकडाउन का आज 20वां दिन है। पिछले 19 दिनों के लॉकडाउन में बहुत कुछ ऐसा हुआ जो कानून के दायरे से बाहर था। जिसके खिलाफ पुलिस ने कार्यवाई भी की। इस दौरान सरकार ने लॉकडाउन को तोड़ने वालों के खिलाफ केस भी दर्ज किए। लेकिन बीते रविवार पंजाब के पटियाला में एक ऐसा मामला समाने आया जिसने पुलिस को भी डरा दिया।

दरअसल, रविवार को पटियाला में बिना लॉकडाउन के दौरान बिना पास के मंडी के अंदर जाने से मना करने पर कुछ निहंग सिखों ने पुलिसकर्मियों पर हथियारों से हमला कर दिया। इस हमले में निहंगों ने एक एएसआई का हाथ काट दिया और फिर गुरूद्वारे में जा कर छिप गये। जिसके बाद पुलिस ने 7 निहंगो को गिरफ्तार किया।

पंजाब: पुलिस ने मांगा पास.. निहंग सिख ने काट दिया ASI का हाथ, 20 आरोपी गिरफ्तार

क्या है वजह
ये खबर आग की तरह हर जगह फैल गई। कुछ लोगों ने इस बारे में निहंगों की आलोचना की तो बाकियों ने इसमें निहंगों को लेकर लोगों की प्रतिक्रियाओं का जवाब दिया। दरअसल, ये लोग ये मानने को तैयार ही नहीं हैं कि निहंग सिख ऐसा कर सकते हैं। सिख कौम में निहंगों का जिस तरह का दबदबा है उसे लोग इस घटना के सामने आने के बाद शक की निगाह से देख रहे हैं।

पटियाला: ASI के हाथ काटने वाले मामले में 10 दिन में ट्रायल खत्म करेगी पंजाब सरकार

कौन है निहंग सिख
सिख धर्म के ग्रंथों में जो जिक्र मिलता है उसके मुताबिक, सिखों के 10वें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह ने वर्ष 1699 में श्री केशगढ़ साहिब में खालसा पंथ सजाया था और उस समय उन्होंने अपने पांच चहेतों  को अपना बाणा और बाणी दी थी। ऐसा माना जाता है कि वही पांचों, निहंग सिख हैं।  इन सिखों ने ही अभी तक उन बाणा और बाणी को संभाल के रखा गया है। इन्हें गुरु की लाड़ली फौज भी कहा जाता है।

लॉकडाउन के बाद रेड-ऑरेंज-ग्रीन जोन में बांटा जा सकता है पूरा देश

इतिहास में है जिक्र
इन निहंगों का इतिहास में जिक्र किया गया है। इतिहास में मुगलों और अंग्रेजों के साथ निहंगों की जंग की कई बड़ी गाथाएं पढ़ी जा सकती है। इन गाथाओं में उनके शौर्य और साहस के बड़े किस्से सुनने को मिलते हैं. इन निहंगों को खास गुरु पर्व पर नगर कीर्तनों के दौरान देखा जा सकता है। इस दौरान नगर-नगर होते कीर्तनों में निहंग सिख करतब करते हुए दिखाई देते हैं।

बताया जाता है कि इनमें महिलाएं और बच्चे भी होते हैं जो पूर्ण पारंगत होते हैं। इनके पास पुराने
हथियार होते हैं। इसके अलावा उन्हें मार्शल आर्ट में भी पारंगत हासिल होती है। इन सिखों के बारे में कहा जाता है कि ये अपना पूरा जीवन सिख धर्म में वर्णित नियमों को पूरा करने में लगा देते हैं। इन्हें कट्टर सिख भी कहा जाता है।

लॉकडाउन का तोड़ निकालेगा अब 'लॉकइन', जिससे 'जान' भी बची रहे और 'जहान' भी

क्यों चर्चा में आया नाम
पटियाला में हुई घटना के बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया। हालांकि इस बारे में निहंग सिख के कुछ जत्थेदारों ने दावा किया कि जिन लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया वो निहंग सिख की जमात का हिस्सा नहीं हैं। इस बारे में पंजाब के हर तबके के सिखों ने इस घटना की आलोचना की और कहा कि निहंग सिख ऐसा नहीं कर सकते। बहरहाल, इस मामले में 7 आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं और पुलिस आगे की जांच में जुट गई है।

लॉकडाउन में राशनकार्ड बनाने के नाम फर्जी वेबसाइट, हरकत में केजरीवाल सरकार

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.