Tuesday, Dec 07, 2021
-->
who team big disclosure corona virus did not spread from china laboratory pragnt

WHO की टीम का बड़ा खुलासा- चीन की प्रयोगशाला से नहीं फैला कोरोना वायरस

  • Updated on 2/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूरे विश्व में आंतक मचा रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) की जांच के लिए चीन (China) के वुहान प्रांत में पहुंची विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की टीम ने वहां के लैब की भी जांच की। इस जांंच के बाद एक विशेषज्ञ ने कहा कि चीन की एक प्रयोगशाला से कोरोना वायरस के फैलने की संभावना नहीं है। इसने किसी जंतु के जरिए मानव शरीर में प्रवेश किया होगा।

MP में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम का बना मजाक, 1000 लोगों की लिस्ट सभी के नंबर निकले सेम

पीटर बेन ने वायरस को लेकर कहा ये
डब्ल्यूएचओ के खाद्य सुरक्षा एवं जंतु रोग विशेषज्ञ पीटर बेन एम्बारेक ने मध्य चीन के शहर वुहान में कोरोना वायरस के संभावित तौर पर उत्पन्न होने के विषय की वैज्ञानिकों की टीम द्वारा की गई जांच के संपन्न होने पर एक आकलन में यह कहा। गौरतलब है कि विश्व में वुहान में ही दिसंबर 2019 में कोरोना वायरस संक्रमण का पहला मामला सामना आया था। वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वॉयरोलॉजी ने वायरस के व्यापक स्तर पर नमूने एकत्र किए थे, जिसके चलते ये अप्रामाणित आरोप लगाये गये थे कि वायरस वहीं से आसपास के वातावरण में फैला होगा।

Corona कोे हराएंगे! दिल्ली में अप्रैल के बाद नहीं हुई एक भी मौत,100 नए मामले

चीन ने किया खारिज
हालांकि, चीन ने इस संभावना को सिरे से खारिज कर दिया था और इन सिद्धांतों का प्रचार किया था कि वायरस कहीं और उत्पन्न हुआ होगा। एम्बारेक ने कहा, 'जांच के हमारे शुरुआती नतीजों में यह पता चला है कि किसी रोगाणु वाहक प्रजाति (जंतु) के माध्यम से इस (वायरस) ने मानव शरीर में प्रवेश किया होगा तथा इस पर और अधिक लक्षित अध्ययन किये जाने की जरूरत है।' उन्होंने कहा, 'हालांकि, नतीजों से पता चलता है कि प्रयोगशाला की घटनाओं को मानव आबादी में वायरस के फैलने के लिए जिम्मेदार ठहराने की संभावना बहुत कम है।'

पीएम मोदी ने कहा- Corona को हराने में आमजनों का मिला भरपूर सहयोग, आपदा को बदला अवसर में

10 देशों के विशेषज्ञ की है ये टीम
डब्ल्यूएचओ की टीम ने संस्थान के अलावा अस्पतालों, अनुसंधान संस्थानों, महामारी के प्रसार से संबद्ध एक पारंपरिक बाजार और अन्य स्थानों का दौरा किया। टीम में 10 देशों के विशेषज्ञ शामिल हैं। माना जाता है कि यह वायरस चमगादड़ों में पैदा हुआ था और अन्य जंगली जंतु के माध्यम से इस वायरस ने मानव शरीर में प्रवेश किया। एम्बारेक ने कहा कि शून्य डिग्री सेल्सियस से कम तापमान पर रखे गये उत्पादों के जरिए भी इसके फैलने की संभावना है।

कोरोना: जॉनसन एंड जॉनसन की सिंगल डोज वैक्सीन तैयार, अमेरिका से मांगी इस्तेमाल की इजाजत

दुनिया में हो चुकी हैं 13 लाख से अधिक मौत
टीम के एक अन्य सदस्य एवं जंतु विज्ञानी पीटर डजाक ने कहा कि टीम ने कई मुद्दों पर गौर किया, जैसे कि पहला मामला क्या था, इसके जंतुओं से संबंध और क्या आयातित ‘फ्रोजेन फूड’ की भी कोई भूमिका थी-चीन इस सिद्धांत को वायरस की उत्पत्ति के लिए जिम्मेदार ठहराता रहा है। इस विषय की एक स्वतंत्र जांच की अपील को चीन द्वारा निरंतर खारिज किए जाने के बीच डब्ल्यूएचओ की टीम ने यह दौरा किया है। गौरतलब है कि इस महामारी से दुनिया भर में 23 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.