Monday, Oct 25, 2021
-->
Why did the farmers go door to door and take a handful of rice from the people, know

किसानों ने घर-घर जाकर लोगों से क्यों लिए एक मुट्ठी चावल, जानिए

  • Updated on 10/14/2021

नई दिल्ली, (जुनेद अख्तर/नवोदय टाइम्स):दिल्ली से सटे नोएडा में नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ पिछले करीब डेढ़ महीने से धरने प बैठे किसानों ने वीरवार को दांडी मार्च निकालकर अपना विरोध दर्ज कराया। इस दौरान किसानों ने घर-घर जाकर लोगों से समर्थन के रूप में एक मुट्ठी चावल लिए। 

भारतीय किसान परिषद के किसान नेता खलीफा सुखबीर पहलवान ने बताया कि ग्राम वासियों के उत्साह को देखकर यह तय हो गया है कि अब उन्होंने संकल्प कर लिया है कि वह नोएडा प्राधिकरण से अपना हक लेकर ही जाएंगे। भारी संख्या में हर एक गांव में समर्थन मिला और मातृ शक्ति ने प्रण किया वह नोएडा प्राधिकरण पर आकर अपनी लड़ाई जारी रखेंगी। उन्होंने बताया कि दांडी मार्च की शुरुआत गांव कुंडली से हुई। उसके बाद गुर्जर डेरी और मोम नाथल तक पहुंची। इसके बाद भदौली गांव, झट्ट, गुलावली फिर गांव छपरोली मंगरौली पहुंचकर पदयात्रा का समापन हुआ। उन्होंने बताया कि अगले तीन दिन तक इसी क्रम में दांडी मार्च जारी रहेगा और सभी गांव में होकर गुजरेगा।

आंदोलन की तैयारी में जुटे किसान
जिले के तीनों प्राधिकरण को खिलाफ 18 अक्तूबर को होने वाले आंदोलन को लेकर किसान तैयारी में जुटे हैं। इस आंदोलन में अधिक से अधिक संख्या में लोगों की भीड़ जुटाने के लिए गांव-गांव जाकर जन जागरण अभियान चलाया जा रहा है। भाकियू के किसानों ने वीरवार को ग्रेनो के कई गांवों में जाकर नुक्कड़ सभाएं कीं। भाकियू के प्रदेश महासचिव पवन खटाना ने कहा जिले का किसान काफी समस्या से जूझ रहा है। 18 अक्तूबर को किसान अपने हक की लड़ाई के लिए ज्यादा से ज्यादा संख्या में इक_ा हो। किसान 18 अक्टूबर को जीरो पॉइंट पर इक_ा होकर नोएडा के लिए कूच करेंगे। 

comments

.
.
.
.
.