Sunday, Aug 09, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 8

Last Updated: Sun Aug 09 2020 09:48 PM

corona virus

Total Cases

2,211,781

Recovered

1,530,802

Deaths

44,447

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA515,332
  • TAMIL NADU296,901
  • ANDHRA PRADESH227,860
  • KARNATAKA178,087
  • NEW DELHI145,427
  • UTTAR PRADESH122,609
  • WEST BENGAL95,554
  • BIHAR79,720
  • TELANGANA79,495
  • GUJARAT71,064
  • ASSAM57,715
  • RAJASTHAN51,924
  • ODISHA45,927
  • HARYANA41,635
  • MADHYA PRADESH38,157
  • KERALA33,120
  • JAMMU & KASHMIR24,390
  • PUNJAB22,928
  • JHARKHAND17,626
  • CHHATTISGARH11,743
  • UTTARAKHAND9,402
  • GOA8,206
  • TRIPURA6,014
  • PUDUCHERRY5,123
  • MANIPUR3,635
  • HIMACHAL PRADESH3,304
  • NAGALAND2,688
  • ARUNACHAL PRADESH2,049
  • LADAKH1,639
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,459
  • CHANDIGARH1,426
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,351
  • MEGHALAYA1,023
  • SIKKIM860
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM567
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
why should muslim leaders be like hardcore jinnah and not like kalam

मुसलमानों के नेता कट्टर जिन्ना जैसे क्यों, कलाम जैसे क्यों नहीं

  • Updated on 1/3/2020

पिछले  दिनों एक टी.वी. वार्ता में भाजपा सांसद तथा तेज-तर्रार प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने कट्टरपंथी मुस्लिम नेता ओवैसी से पूछा कि 1947 में पाकिस्तान से युद्ध में शहीद होने वाले पहले भारतीय मुसलमान सैनिक वीर का नाम बताइए। ओवैसी सकपका गए और थोड़ा सोचकर बोले, अब्दुल हमीद।

सुधांशु त्रिवेदी ने कहा गलत, अब्दुल हमीद 1965 में शहीद हुए थे, 1947 में पहले मुस्लिम सैन्य वीर शहीद हुए थे ब्रिगेडियर उस्मान। ओवैसी की बोलती बंद हो गई। वजह यह है कि इन कट्टरपंथी बड़बोले मुस्लिम नेताओं की आंखों में देशभक्त मुसलमानों के लिए कोई इज्जत ही नहीं है। जो भी कट्टरपंथी है, भारत विरोधी है और जो भी भारत की अस्मिता के खिलाफ बोलता है वह आज मुखर मुसलमानों का चहेता हीरो बन जाता है लेकिन जो मुसलमान भारत-भारतीयता की बात करे, इस्लाम का विद्वान हो, वतन परस्ती का झंडा उठाकर चले, भारतीय सभ्यता और संस्कृति के प्रति सम्मान रखे, अर्थात जो इस्लाम को आस्था के रूप में माने लेकिन स्वयं को भारत माता की संतान समझे वह इन मुसलमानों के लिए खलनायक बन जाता है और उसे वे अस्वीकार कर देते हैं।

ऐसा क्यों?
मोहम्मद अली जिन्ना किसी भी दृष्टिकोण से मुसलमान होने की परिभाषा में आते ही नहीं थे। उन्हें महंगी व्हिस्की का शौक था। कभी कुरान पढ़ी नहीं थी, पढ़ भी नहीं पाते थे। कभी रोजे रखते नहीं थे। नमाज पढ़ते नहीं थे। मौलवियों से चिढ़ते थे लेकिन मुसलमानों के राजनीतिक मामले भड़काकर और हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा की अगुवाई कर वे मुस्लिम नेता कहलाए। 

दूसरी ओर मौलाना अबुल कलाम आजाद (पूरा नाम-मौलाना सैय्यद अबुल कलाम गुलाम मुहीयुद्दीन अहमद  बिन खैरूद्दीन अल हुसैनी आजाद) कुरान के विद्वान थे। बाकायदा रोजे रखते थे। सर्दी, गर्मी, तूफान भी हो तो भी नमाज छोड़ते नहीं थे। उनकी इस्लाम पर लिखी किताबें मक्का विश्वविद्यालय में पढ़ाई जाती थीं। इस्लाम की विभिन्न धाराओं के शिखर विद्वान थे। 12 साल की उम्र में उनके पास घरेलू पुस्तकालय था। अपने से दुगनी उम्र के लोगों को वे इस्लाम की शिक्षा देते थे। कुरान और हदीज पर उनका कहा हुआ निर्णायक माना जाता था लेकिन वे गांधी जी के भक्त थे, बंगाल के विभाजन के विरोधी थे। बंगाल, बिहार और बाम्बे की क्रांतिकारी गतिविधियों में हिस्सा लिया।

देशभक्त अबुल कलाम आजाद मुसलमानों के नेता नहीं बन पाए
देशद्रोही और देश तोड़ने वाले जिन्ना को इन तथाकथित कट्टरपंथी मुसलमानों ने सिर-आंखों पर चढ़ाया तथा भारत का विभाजन करवा दिया। आज वही बात नागरिकता कानून के विरोध में उठ रही आवाजों के बारे में कही जा सकती है। जो हिन्दुओं से नफरत करके पाकिस्तान में अत्याचारों की तलवार तले जिंदगी और इज्जत लुटवा रहे हिन्दुओं, सिखों, बौद्धों को भारत में शरण देने का विरोध करते हुए सड़कों पर उतर रहे हैं तथा ला इलाहा लिल्लाह, तथा अल्लाह हू अकबर का नारा लगाते हुए हिन्दुओं की सम्पत्तियां जला रहे हैं, पुलिस पर पत्थर फैंक रहे हैं, वे मौलाना अबुल कलाम आजाद को नहीं बल्कि ओवैसी और अमानतुल्ला को पहचानते तथा मानते हैं। ये वही लोग हैं जो इस्लाम के विद्वान तथा परम देशभक्त मुस्लिम नेता आरिफ मोहम्मद खान को अपना नेता नहीं मानते तथा मंच पर निहायत असभ्यता और अभद्रता दिखाते हुए आरिफ भाई पर हमला करते हैं, वह भी तथाकथित इतिहासकार इरफान हबीब जैसे लोग, जिनका इस्लाम और हिन्दुस्तानियत-दोनों से कोई रिश्ता नहीं।

पांचजन्य में एक बार हज कैसे होता है, के बारे में हमने जानकारी  देते हुए कुछ लेख छापे थे तथा इन्हें प्रसिद्ध इस्लामी विद्वान मौलाना वहीदुद्दीन खान साहब ने लिखा था। वे पांचजन्य के कार्यक्रमों में भी आते थे और दीप प्रज्जवलन भी करते थे। बस, उर्दू के अखबारों ने उन्हें पंडित वहीदुद्दीन खान लिखना शुरू कर दिया। हिन्दुओं से इतनी नफरत इन असभ्य कट्टरपंथियों के मन में ठूंसी हुई है कि अगर दुनिया भर में अपने इस्लामी ज्ञान के लिए प्रसिद्ध और प्रतिष्ठित मौलाना साहब हज के बारे में जानकारी दें या दीप प्रज्जवलन करें तो उन जैसे विद्वान को भी काफिर करार दे दिया जाता है।
जो भारतीय मुसलमान इस प्रकार को सोच रखते हैं वे आज भी हमलावरों की विरासत को संभाले हुए हैं और हिन्दुओं के प्रति उनका दृष्टिकोण वही होता है।

मुसलमानों ने दारा शिकोह के नहीं, औरंगजेब के गुण गाए
यही कारण है कि भारतीय मुसलमानों ने कभी भी दारा शिकोह को नहीं अपनाया बल्कि औरंगजेब के गुण गाए और औरंगजेब रोड का नाम बदलने पर कसमसाए, तिलमिलाए तथा चिल्लाए। इन मुसलमानों के लिए रहीम, रसखान, चांद बीबी काफिर हैं तथा इस्लाम की जानकारी से कोसों दूर राजनीतिक लाऊडस्पीकर ओवैसी और अमानतुल्ला बहुत गहरे अपने तथा जानदार लीडर हैं।

शायद आपको ध्यान हो कि दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय की स्थापना में मौलाना अबुल कलाम आजाद का बहुत बड़ा योगदान रहा है। लेकिन जामिया मिलिया के कट्टरपंथी छात्रों ने अबुल कलाम आजाद की सीख पर कोई ध्यान नहीं दिया। जिन लोगों का ज्ञान, विज्ञान और जीवन के उत्कर्ष से कोई संबंध नहीं है वे उन पर भारी पड़ गए जिनका सारा जीवन विज्ञान और दर्शन के मार्ग में बीता।

क्या इन लोगों ने कभी डा. अब्दुल कलाम के प्रति सम्मान और श्रद्धा दिखाई? डा. अब्दुल कलाम ने दारा शिकोह की तरह श्रीमद् भागवत गीता और उपनिषदों का अध्ययन किया था। देशभक्त थे। समस्त भारत के हर क्षेत्र और आस्था के नौजवान उनको अपना आदर्श तथा नायक मानते थे और मानते हैं। 
क्या यह आश्चर्य की बात नहीं है कि ब्रिगेडियर उस्मान, अब्दुल हमीद, कैप्टन हनीफुद्दीन, डा. अब्दुल कलाम या मौलाना अबुल कलाम आजाद जामिया अथवा ओखला बस्ती के आदर्श नहीं बने बल्कि वे ओवैसी और अमानतुल्ला के पीछे चले?

तरुण विजय

डिस्क्लेमर (अस्वीकरण) : इस आलेख (ब्लाग) में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। इसमें सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई हैं। इसमें दी गई कोई भी सूचना अथवा तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार पंजाब केसरी समूह के नहीं हैं, तथा पंजाब केसरी समूह उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है।

comments

.
.
.
.
.