Thursday, Apr 15, 2021
-->
will directly face challenges from china joe biden pragnt

चीन की चुनौतियों से लड़ने को तैयार बाइडेन, कहा- सहयोगी देशों की जरूरत

  • Updated on 2/6/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अमेरिका (America) के राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने कहा कि चीन (China) द्वारा पेश की जाने वाली चुनौतियों का अमेरिका सीधे तौर पर सामना करेगा, लेकिन साथ ही देश हित में बीजिंग (Beijing) के साथ मिलकर काम करने से भी नहीं कतराएगा।

ग्रेटा की टूलकिट का निकला खालिस्तानी कनेक्शन! सामने आया इस शख्स का नाम

चीन से चुनौतियों का सीधे सामना करेंगे- बाइडेन
अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने चीन को सर्वाधिक 'आक्रामक प्रतिद्वंद्वी' करार देते हुए कहा है कि उनका प्रशासन बीजिंग द्वारा पेश की जाने वाली चुनौतियों से न सिर्फ सीधे तौर पर निपटेगा, बल्कि जब अमेरिका के हितों की बात होगी तब वह उसके साथ काम करने से भी नहीं हिचकेगा। बाइडन ने एक उभरते और कहीं अधिक आक्रामक चीन के अपनी विदेश नीति के लिये सबसे बड़ी चुनौती होने का जिक्र करते हुए गुरुवार को इस बात पर जोर दिया कि बीजिंग द्वारा पैदा की गई रणनीतिक प्रतिस्पर्धा का जवाब देने के लिए सहयोगी देशों की जरूरत है। 

रिहाना के समर्थन के बाद किसानों के मु्द्दे अब ब्रिटेन की संसद में गूंजेंगे!

साथ मिलकर करेंगे मुकाबला- बाइडेन
बाइडेन ने विदेश मंत्रालय के कर्मचारियों को 'फॉगी बॉटम' मुख्यालय में संबोधित करते हुए कहा, 'हम चीन द्वारा आर्थिक शोषण का मुकाबला करेंगे, मानवाधिकारों, बौद्धिक सम्पदा और वैश्विक शासन पर चीन के हमले को कम करने के लिए दंडात्मक कार्रवाई करेंगे।

किसानों की आड़ में ग्रेटा ने रची थी भारतीय लोकतंत्र को बर्बाद करने की साजिश, जानें पूरी कहानी

बीजिंग के साथ मिलकर काम करने को भी तैयार
चीन को लेकर उनके प्रशासन की नीति कैसी रहेगी इसके संकेत देते हुए उन्होंने कहा, 'लेकिन अमरीका के हित की बात आती है तो हम बीजिंग के साथ मिलकर काम करने को भी तैयार है। हम अपने सहयोगियों तथा भागीदारों के साथ काम करके, अंतरराष्ट्रीय संस्थानों में अपनी भूमिका को नया रूप देकर, विश्वसनीयता एवं नैतिक अधिकार को पुन: प्राप्त करते हुए, देश के अंदर स्थिति बेहतर बनाने के लिए काम करेंगे।'

चौरी- चौरा के शहीदों को इतिहास के पन्नों में प्रमुख नहीं दिया जाना दुर्भाग्यपूर्णः PM मोदी

प्रभावित हुए अमेरिकी कर्मचारी
बाइडेन ने कहा, 'इसलिए ही हमने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अमरीका की भागीदारी बहाल करने और साझा चुनौतियों पर वैश्विक कार्रवाई को उत्प्रेरित करने की खातिर नेतृत्व की स्थिति में आने के लिए काम शुरू कर दिया।' इससे पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने पत्रकारों से कहा था कि उनकी प्राथमिकता 'गोल्डमैन सैक्स' (निवेश बैंकिंग) के लिए चीन में पहुंच प्राप्त करना नहीं है। उन्होंने कहा, 'हमारी प्राथमिकता चीन के आर्थिक शोषण से निपटना है, जिससे अमरीकी नौकरियां और अमरीकी कर्मचारी प्रभावित हो रहे हैं।'

मोदी सरकार के कृषि कानूनों को अमेरिका का साथ, बताया स्वागत योग्य कदम

चीन ने दी सधी हुई प्रतिक्रिया
अमरीका के राष्ट्रपति जो बाइडेन की दोहरी नीति पर चीन ने सधी हुई प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि दोनों देश मिलकर 'बड़ी उपलब्धियां' हासिल कर सकते हैं और मतभेदों की तुलना में उनके साझा हित ज्यादा महत्व रखते हैं। बाइडेन के बयान पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने शुक्रवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'चीन और अमरीका बड़े देश के तौर पर साझा हितों और दुनिया में शांति, स्थिरता और समृद्धि लाने में भूमिका निभा सकते हैं।' वांग ने कहा, 'यह स्वाभाविक है कि हमारे बीच मतभेद हैं लेकिन हमारे साझा हित ज्यादा महत्वपूर्ण हैं। हमारे सहयोग से बड़ी उपलब्धियां हासिल हो सकती हैं।'

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.