Friday, Nov 27, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 27

Last Updated: Fri Nov 27 2020 08:38 AM

corona virus

Total Cases

9,309,871

Recovered

8,717,709

Deaths

135,752

  • INDIA9,309,871
  • MAHARASTRA1,795,959
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA878,055
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA578,364
  • NEW DELHI551,262
  • UTTAR PRADESH533,355
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT201,949
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
woman gangrape rape murder nirbhaya hyderabad and unnao case

हैदराबाद एनकाउंटर : एक नहीं कई मामलों में इंसाफ बाकी हैं...

  • Updated on 12/7/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश के कई राज्यों से बलात्कार और फिर हत्या करने का मामला दिन पे दिन बढ़ता जा रहा है। हाल ही में हैदराबाद (Hyderabad) में एक महिला डॉक्‍टर की गैंगरेप (Gangrape) के बाद हत्‍या (Murder) कर दी गई। शुक्रवार तड़के हैदराबाद पुलिस (Hyderabad Police) ने चारों आरोपियों को एक एनकाउंटर (Encounter) में मार गिराया। जिसके बाद पूरे देश ने एक सूर में इस एनकाउंटर को दिशा का इंसाफ बताया। लेकिन शुक्रवार रात ही गैंगरेप का शिकार हुई यूपी (Uttar Pradesh) के उन्नाव की बहादुर बेटी ने दिल्ली (Delhi) के सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) में दम तोड़ दिया। अब फिर लोगों की मांग है कि हैदराबाद की तरह उन्नाव रेप पीड़िता के आरोपियों का एनकाउंटर हो और देश की बेटी को इंसाफ मिले। क्योंकि रेप का मामले बढ़ते जा रहे है लेकिन अभी भी कई इंसाफ बाकी हैं...

woman gangrape and murder

बड़ा खुलासा: बिकाऊ था निर्भया के दोस्त का दर्द!

निर्भया मामला
16 दिसंबर, 2012 की रात एक से दो बजे के बीच दक्षिण दिल्ली से लगते मुद्रिका की सड़कों पर चलती बस में 23 वर्षीय साइकोथेरेपी इंटर्न से ड्राइवर सहित छह लोगों ने गैंगरेप किया और यातनाएं दीं। यौनी में लोहे की रॉड डालकर उसकी आंतें बाहर निकाल दी गई थीं। बस में लड़की का दोस्त भी था, उसे भी पीटा गया। संसद (Parliament) से लेकर सड़क तक यह मामला गूंजा। गंभीर रूप से घायल लड़की को इलाज के लिए सरकार (Central Government) ने सिंगापुर (Singapore) भेजा मगर घटना के 13 दिन बाद उसकी मौत हो गई थी। इस मामले के बाद महिलाओं की सुरक्षा को लेकर देश के सभी बड़े शहरों में प्रदर्शन हुए। 2013 में अपराध कानून संशोधन अध्यादेश लाया गया और बलात्कार के मामलों की सुनवाई के लिए छह फास्ट ट्रेक अदालतों (Fast Track Court) को गठन किया गया। 

Nirbhaya rapist

हैदराबाद के हैवानों के एनकाउंटर से महिलाएं खुश, पुलिस का जताया आभार

दोषियों का क्या हुआ
दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने तत्काल कार्रवाई करते हुए 24 घंटे के भीतर सभी छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। इनमें एक नाबालिग था। उसे अधिकतम तीन साल की सजा हुई। एक आरोपी रामसिंह ने 11 मार्च 2013 को तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी। 10 सितम्बर 2013 को बाकी चार आरोपियों को मौत की सजा सुनाई गई। 13 मार्च 2014 को दिल्ली हाईकोर्ट ने सजा को बरकरार रखा। 15 मार्च 2014 को सुप्रीम कोर्ट ने दो दोषियों मुकेश सिंह और पवन गुप्ता को अपील का वक्त देते हुए 31 मार्च की फांसी पर रोक लगा दी और इसे जुलाई के दूसरे सप्ताह में कर दिया गया। 5 मई 2017 सुप्रीम कोर्ट ने मामले को बहशी कृत्य बताते हुए दया याचिका खारिज की। 9 जुलाई 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की पुनर्विचार याचिका भी खारिज की।  

UNNAO: गैंगरेप पीड़िता ने दिल्ली के अस्पताल में ली आखिरी सांस

उन्नाव रेप केस
04 जून, 2017 उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के उन्नाव (Unnao) में एक 17 वर्षीय युवती से सामूहिक बलात्कार किया गया, उसके बाद 60 हजार रुपये में एक अन्य को बेच दिया गया। वहां 11 जून को उससे फिर गैंगरेप (Gangrape) किया गया। आरोपियों में भाजपा (BJP) का एक स्थानीय कद्दावर नेता और विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) भी शामिल था।

unnao-rape-case-bjp-kuldeep-singh-sengar-was-accused-but-victim-gets-harassment

अखबार में मोदी-शाह के साथ छपी उन्नाव रेप आरोपी कुलदीप सेंगर की फोटो, जानें पूरा मामला

BJP विधायक था आरोपी, पीड़िता को मिली प्रताड़ना
पुलिस (Police) ने 22 जून 2017 को 11 जून की घटना का मुकद्दमा तो दर्ज कर लिया मगर 4 जून की घटना जिसमें विधायक पर भी आरोप था, उसकी सुनवाई नहीं की। इस पर पीड़िता ने 17 अगस्त को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को पत्र लिखा। मगर सेंगर के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई। लड़की द्वारा बार-बार शिकायत देने पर 5 अप्रैल 2018 को पुलिस ने उसके पिता को ही आरोपियों की शिकायत पर गिरफ्तार कर लिया। इस पर लड़की ने मुख्यमंत्री के आवास के आगे आत्मदाह का प्रयास किया। इसके अगले दिन लड़की के पिता की पुलिस यातना से अस्पताल में मौत हो गई। तब देश के मीडिया और लोगों का ध्यान इस घटना पर गया। देश में प्रदर्शन शुरू होने पर सरकार ने मामले की जांच सीबीआई (CBI) को सौंपी। मामला इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) को भेज दिया गया है।

rape case candle march

निर्भया के दोषियों को जल्द हो सकती है फांसी, कोर्ट से जारी होगा ब्लैक वारंट

आरोपियों का क्या हुआ 
सीबीआई ने 13 अप्रैल 2018 को कुलदीप सेंगर को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया। मामले में दो एफआईआर (FIR) दर्ज कीं। 11 जुलाई 2018 की एफआईआर में कुलदीप सेंगर को रेप का आरोपी माना गया। इसके दो दिन बाद एक अन्य एफआईआर में लड़की के पिता की मौत के लिए कुलदीप सेंगर, उसके भाई, तीन पुलिस वालों और पांच अन्य को आरोपी बनाया गया। मामला अभी विचाराधीन है।

हत्या का प्रयास
28 जुलाई 2019 को अपने वकील और मौसी के साथ जा रही युवती की कार को एक तेज रफ्तार ट्रक ने टक्कर मार दी। इसमें युवती गंभीर रूप से घायल हुई, जबकि दो अन्य की मौत हो गई। सर्वोच्च अदालत ने मामले का संज्ञान लिया।

चिन्मयानंद और कुलदीप सिंह सेंगर ने बीजेपी को किया दागदार, योगी सरकार के दावे पर फिरा पानी

unnao victim father said kill the accused like hyderabad

रेप और जलाया
5 दिसंबर, 2019 को उन्नाव में गैंगरेप के बाद एक महिला को चाकू मारे गए और पांच लोगों ने पेट्रोल छिड़ककर उसे आग लगा दी। इनमें से दो रेप के आरोपी हैं। यह घटना सुबह तब हुई जब पीड़िता अपने वकील से मिलने जा रही थी। 90 फीसदी जली पीड़िता लखनऊ (Lucknow) में उपचाराधीन है। रेप के आरोपी जमानत पर छूटकर आए थे।

आरोपियों शिवम त्रिवेदी और शुभम त्रिवेदी ने 12 दिसंबर 2018 को बंदूक की नौक पर बलात्कार किया था। इसके अगले दिन पीड़िता ने पुलिस को शिकायत दी मगर एफआईआर दर्ज नहीं की गई। रायबरेली कोर्ट के आदेश पर इस साल चार मार्च को मामले में एफआईआर (FIR) हुई थी। संपत्ति सील करने के आदेश के बाद 19 सितम्बर को शिवम आत्मसमर्पण कर दिया था। उसे एक दिसंबर को ही हाईकोर्ट ने जमानत दी थी। शुभव पुलिस रिकार्ड में भगौड़ा था। पुलिस शुरू से ही इस मामले में लीपापोती करने में लगी रही। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.