Wednesday, Jun 29, 2022
-->
women-twenty20-team-captain-harmanpreet-kaur-has-fake-ba-degree-can-lost-job

महिला टी-20 टीम की कप्तान हरमनप्रीत पर गिरेगी गाज, फर्जी निकली डिग्री

  • Updated on 7/5/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय महिला क्रिकेट टीम की टी- 20 फॉर्मेट की कैप्टन हरमनप्रीत कौर पर गाज गिर सकती है। इसकी वजह है कि उनकी बीए की डिग्री फर्जी पाई गई है। इसके साथ ही हरमनप्रीत की पंजाब में पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) की नौकरी पर भी तलवार लटक गई है। 

इमरान खान ने भारत-पाक गतिरोध के लिए मोदी सरकार को ठहराया जिम्मेदार

क्रिकेट की दुनिया में शानदार प्रदर्शन करके देश का मान बढ़ाने पर उन्हें रेलवे में जॉब दी गई थी। उसके बाद उन्हें पंजाब पुलिस में डीएसपी की नौकरी दी गई थी। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार जीपी श्रीवास्तव ने बताया कि मार्च माह में पंजाब पुलिस ने सत्यापन के लिए उनकी मार्कशीट मेरठ स्थित सीसीएस विश्वविद्यालय भेजी थी। 

अखिलेश-मुलायम अपनी करोड़ों की जमीन पर बनाएंगे गेस्ट हाउस और लाइब्रेरी

जांच के बाद उनकी बीए फाइनल की मार्कशीट फर्जी पाई गई है। उनकी मार्कशीट का वहां कोई रिकॉर्ड नहीं मिला। उन्होंने बताया कि जांच में पाया गया कि मार्कशीट में अंकित अनुक्रमांक और नामांकन संख्या हमारे रिकॉर्ड में उपलब्ध नहीं हैं। बकौल श्रीवास्तव यूनिवर्सिटी ने इस आशय की रिपोर्ट अप्रैल माह में भेज दी थी। 

कांग्रेस बोली- सिर्फ 'जुमलावाणी' है MSP पर मोदी सरकार का ऐलान

बता दें कि पंजाब के मोगा की रहने वाली हरमनप्रीत को 1 मार्च, 2018 को पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और पुलिस महानिदेशक सुरेश अरोड़ा ने प्रदेश पुलिस में डीएसपी के रूप में नियुक्त करवाया था। पंजाब पुलिस ज्वाइन करने से पहले वह पश्चिम रेलवे में कार्यरत थीं। वहां उनका 5 वर्ष का बॉन्ड था। इसके बावजूद उन्होंने पिछले वर्ष नौकरी से रिजाइन दे दिया था।  

मोदी सरकार ने बढ़ाया Air India के VVIP विमानों के रखरखाव का खर्च

 हरमनप्रीत को रेलवे में नौकरी करते हुए 3 वर्ष ही हुए थे। ऐसे में बॉन्ड की शर्तों के मुताबिक उन्हें 5 साल का वेतन रेलवे को वापस देना था, इसके चलते उन्हें रिलीव नहीं किया गया था। हालांकि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने रेल मंत्री पीयूष गोयल के सामने उठाया, इसके बाद ही हरमनप्रीत पंजाब पुलिस में नौकरी ज्वाइन कर सकी थीं।      

केजरीवाल की जीत पर चिदंबरम ने मोदी सरकार पर साधा निशाना

अब अंतिम जांच रिपोर्ट में डिग्री के फर्जी होने की पुष्टि पर हरमनप्रीत कौर के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया जा सकता है। वहीं पंजाब पुलिस नौकरी के लिए वेस्टर्न रेलवे में जमा कराए हरमनप्रीत के शैक्षणिक दस्तावेज की जांच भी कर सकती है।  

जाकिर नाईक को सता रहा अपनी सुरक्षा का डर, बताया कब लौटेगा भारत

उधर, हरमनप्रीत कौर के पिता हरमिंदर सिंह ने इस मामले में सफाई दी है। उन्होंने इस जांच को गलत करार दिया है। उनका कहना है कि उनकी बेटी की डिग्री बिल्कुल सही है। हरमनप्रीत ने इसी डिग्री के बेस्ड पर रेलवे में नौकरी की, तो अब यह डिग्री फर्जी कैसे हो सकती है। हरमिंदर सिंह ने कहा कि वे खुद मेरठ जाकर सच पता लगाएंगे। हरमनप्रीत की डिग्री रेगुलर थी या फिर पत्राचार से की गई, पिता ने इसका कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया। 

नारायणसामी बोले- पुडुचेरी में भी लागू हो SC का आदेश, निशाने पर किरण बेदी

हरमिंदर सिंह कहते हैं कि बेटी ने 12वीं की पढ़ाई मोगा से की। उसके बाद हरमनप्रीत का सिलेक्शन भारतीय महिला क्रिकेट में हो गया। इस बीच उसने बीए की डिग्री मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनिर्विसटी से ली। उन्होंने बेटी से फोन पर बात की तो उसने भी डिग्री जाली होने का खंडन किया। वहीं, हरमनप्रीत कौर की मां सतविंदर कौर ने खुलकर कुछ नहीं कहा। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.