Wednesday, Feb 01, 2023
-->
world-bank-estimates-india-s-gdp-to-decline-by-3-2-in-fy-2020-21-prshnt

विश्व बैंक का अनुमान, वित्त वर्ष 2020-21 में 3.2% घट जाएगी भारत की जीडीपी

  • Updated on 6/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया भर में फैले कोरोना वायरस के चलते लगे लॉक डाउन ने विश्व स्तर पर अर्थव्यवस्था को बहुत निचे गिरा दिया है। ऐसे में विश्व बैंक ने भारत के अर्थव्यवस्था को लेकर अनुमान लगाया है, विश्व वैंक का मानना है कि चालू वित्त वर्ष में भारत की अर्थव्यवस्था 3.2 फीसदी सिकुड़ जाएगी। 

विश्व बैंक का कहना है कि भारत में कोरोना महामारी के कारण कई चरणों में लगे लॉक डाउन के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था पर जबरदस्त दुष्प्रभाव पड़ा है। बता दें कि सिर्फ विश्व बैंक ही नहीं कई वैश्विक एजेंसियों ने भारत की वृद्धि दर में गिरावट का अनुमान लगा चुतके हैं। विश्व बैंक के अनुमान के मुताबिक भारत में जीडीपी ग्रोथ -3.2% चला जाएगा।

आज पश्चिम बंगाल में BJP की वर्चुअल रैली, दिलीप घोष बोले बनाएंगे वर्ल्ड रिकॉर्ड

ग्लोबल इकनॉमिक प्रास्पेक्ट रिपोर्ट
विश्व बैंक ने भारत को लेकर वैश्विक आर्थिक परिदृश्य के नए संस्करण में भारत का अनुमान पेश करते हुए 9% की कटौती कर दी है। जिसमें ये कहा गया है कि 2021 में ये बाउंस बैक करेगी। 2019-20 की बात करें तो इसमें भारत की विकास दर 4.2% रहा गई, वहीं 2020-21 में कोरोना के कारण 3.2% तक घटने का अनुमान है।

विश्व बैंक की ग्लोबल इकनॉमिक प्रास्पेक्ट रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना पर नियंत्रण के लिए लगाए नियमों के कारण कुछ ही दिनों में कारोबारी गतिविधियां एक दम रूक सी गई, इसा कारण अर्थव्यवस्था सिकुड़ जाएगी।

राहुल के वार पर राजनाथ ने शायरा अंदाज में किया पलटवार, कांग्रेस नेताओं से ऐसे किया बचा

एजेंसी फिच रेटिंग का अनुमान
हाल ही में रेटिंग एजेंसी फिच रेटिंग ने भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर अनुमान लगाया है, जिसमें फिच ने कहा की कोरोना की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था के वित्तीय वर्ष 2020-21 में 5 फ़ीसदी की गिरावट आएगी। इसके अलावा रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने तो चेतावनी दे दी है कि भारत में आजादी के बाद चौथी सबसे भयानक मंदी आने वाली है।

कोरोना संकट: LG ने पलटा केजरीवाल का फैसला, AAP ने BJP पर बोला चौतरफा हमला

जीडीपी में 5 फ़ीसदी की गिरावट का अनुमान
भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर फिच ने कहा है कि कोरोना वायरस के कारण देश में सख्त लॉक डाउन की नीति लागू की गई है। जिसके चलते सभी आर्थिक गतिविधियां लगभग रुक गई है और इन में जबरदस्त गिरावट देखी गई है। जिसका सीधा असर सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि पर पड़ेगा।

बता दें कि इससे पहले फिच ने अप्रैल में यह अनुमान लगाया था कि चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी की वृद्धि दर 0.8 फीसदी रहेगी। जिसके बाद अब फिच ने भारत को लेकर अपने इस अनुमान को काफी हद तक घटा दिया है और कहा है कि इस वित्तीय वर्ष में भारत की जीडीपी में 5 फ़ीसदी की गिरावट आएगी।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.