Wednesday, Jan 27, 2021

Live Updates: Unlock 8- Day 26

Last Updated: Tue Jan 26 2021 10:47 AM

corona virus

Total Cases

10,677,710

Recovered

10,345,278

Deaths

153,624

  • INDIA10,677,710
  • MAHARASTRA2,009,106
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA936,051
  • KERALA911,382
  • TAMIL NADU834,740
  • NEW DELHI633,924
  • UTTAR PRADESH598,713
  • WEST BENGAL568,103
  • ODISHA334,300
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • RAJASTHAN316,485
  • JHARKHAND310,675
  • CHHATTISGARH296,326
  • TELANGANA293,056
  • HARYANA267,203
  • BIHAR259,766
  • GUJARAT258,687
  • MADHYA PRADESH253,114
  • ASSAM216,976
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB171,930
  • JAMMU & KASHMIR123,946
  • UTTARAKHAND95,640
  • HIMACHAL PRADESH57,210
  • GOA49,362
  • PUDUCHERRY38,646
  • TRIPURA33,035
  • MANIPUR27,155
  • MEGHALAYA12,866
  • NAGALAND11,709
  • LADAKH9,155
  • SIKKIM6,068
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,993
  • MIZORAM4,351
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,377
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
world largest survey in country more than 60 years old suffering from serious diseases prshnt

सर्वे का खुलासा- देश में 60 साल से ज्यादा उम्र इतने बुजुर्ग गंभीर बीमारियों से पीड़ित

  • Updated on 1/7/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश के बुजुर्गों के स्वास्थ्य को लेकर एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry of Health and Family Welfare) के एक अध्ययन के मुताबिक 60 साल से ज्यादा उम्र के करीब 7.5 करोड़ बुजुर्ग किसी-न-किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं। लॉन्गिट्यूडनल एजिंग स्टडी इन इंडिया (LASI) ने ये आंकड़ा सामने रखा है,  स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह सर्वे इसलिए किया है ताकि बुजुर्गों के लिए बनने वाली केंद्र और राज्यों की सरकारी योजनाओं की प्राथमिकता तय करना सुविधाजनक हो।

फेसबुक पर पॉर्न दिखाकर वीडियो बनाने वाले गैंग का खुलासा, 6 गिरफ्तार

बुजुर्ग आबादी एक से ज्यादा जानलेवा बीमारियों से ग्रस्त
स्वास्थ्य मंत्रालय ने 207-18 में बुजुर्गों पर दुनिया का सबसे बड़ा सर्वे किया जिसका पहला परिणाम बुधवार को जारी किया गया। सर्वे के मुताबिक कई चिंताजनक सामने आ रही हैं। देश की करीब 27 प्रतिशत बुजुर्ग आबादी एक से ज्यादा जानलेवा बीमारियों से ग्रस्त है और करीब 40 प्रतिशत बुजुर्ग किसी-न-किसी रूप से अपंग हैं। जबकि 20 प्रतिशत बुजुर्गों को मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं झेलनी पड़ रही है।

इस सर्वे के पहले भाग में 45 वर्ष और इससे ज्यादा उम्र के 72,250 लोगों के नमूने एकत्र किए गए। इनमें पति-पत्नी दोनों शामिल हैं। इन 72,250 में 31,464 लोगों की उम्र 60 वर्ष या इससे ऊपर है जबकि 6,749 लोग 75 वर्ष या इससे ज्यादा उम्र के हैं। वहीं राज्य स्तर पर देखे तो सर्वे में सिक्किम को छोड़कर सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश शामिल किए गए हैं।

अगल सप्ताह से शुरु हो सकता है देश में कोरोना का वैक्सीनेशन, देखें राज्यों की क्या है तैयारी

सरकारी नीतियां और कार्यक्रमों के निर्माण में सहायता
सर्वे को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा कि, ये भारत का पहला और दुनिया का अब तक का सबसे बड़ा लॉन्गिट्यूडनल डेटाबेस है जो बुजुर्गों के लिए सरकारी नीतियां और कार्यक्रमों के निर्माण में सहायता करेगा। इन आंकड़ो से बुजुर्गों की सामाजिक, शारीरिक, मानसिक और आर्थिक सेहत का ख्याल रखने के लिए योजनाओं की दिशा तय करने में मददगार होगा। 

2011 की जनगणना की बात करें तो देश की कुल आबादी के 8.6 प्रतिशत 60 वर्ष से ज्यादा की उम्र के बुजुर्ग थे। इनकी कुल आबादी 10.30 करोड़ थी। अगर 3 प्रतिशत की सालाना वृद्धि मान ली जाए तो 2050 तक भारत में 31.90 करोड़ बुजुर्ग जनसंख्या होने का अनुमान है। स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा, 2011 की जनगणना में देश की कुल आबादी के 8.6 प्रतिशत 60 वर्ष से ज्यादा की उम्र के बुजुर्ग थे। इनकी कुल आबादी 10.30 करोड़ थी। अगर 3% की सालाना वृद्धि मान ली जाए तो 2050 तक भारत में 31.90 करोड़ बुजुर्ग जनसंख्या होने का अनुमान है।

दिल्ली के हर बॉर्डर पर किसानों ने निकाली ट्रैक्टर रैली, कहा- 26 जनवरी को परेड की तैयारी पूरी

इन बीमारियों से परेशान है बुजुर्ग
बता दें कि सर्वे में बुजुर्गों की स्वास्थ्य जांच की गई और गंभीर बीमारियों का पता लगाने की कोशिश की गई। इससे बुजुर्गों में हाइपरटेंशन, आखों की रोशनी घटने, ज्यादा वजन, कुपोषण और सांस संबंधी गंभीर बीमारियां सामने आई। गंभीर बीमारियों से ग्रसित 60 वर्ष और इससे ज्यादा उम्र के करीब दो-तिहाई बुजुर्गों के अलग-अलग रोगों का इलाज किया गया। इनमें 77% हाइपरटेंशन, 83% मधुमेह (डाइबिटीज), 72% फेफड़े संबंधी गंभीर बीमारियां, 74% दिल से संबंधी गंभीर बीमारियों और 75% कैंसर की बीमारियों के मरीज थे।

वहीं, आधा से ज्यादा 58% बजुर्गों के स्ट्रोक की बीमारी का इलाज हुआ जबकि 56% हड्डियों या जोड़ों संबंधी और 41% के मानसिक बीमारियों का इलाज किया गया। इस सर्वे से साफ हो गया कि शहरी क्षेत्रों में रहने वाले गंभीर रोगों से ग्रसित बुजुर्गों के इलाज की दर ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले बुजुर्गों के मुकाबले ज्यादा है। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.