Thursday, Jan 20, 2022
-->
xi-jinping-critic-removed-from-party-in-china-prsgnt

अपनों को भी नहीं छोड़ती चीनी सरकार, शी जिनपिंग के आलोचक को इस वजह से पार्टी से निकाला

  • Updated on 7/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन अपनी हरकतों को छुपाने और बचा कर ले जाने में काफी माहिर है और इसके लिए वो किसी भी हद तक जा सकता है। इसका ताजा उदहारण अभी देखने को मिला जब चीन सरकार से जुड़ी एक रियल स्टेट कंपनी के पूर्व अध्यक्ष को सिर्फ इसलिए कम्युनिस्ट पार्टी से निकाल दिया गया क्योंकि उसने चीन के राष्ट्रपति की आलोचना की थी।

दरअसल, इस रियल एस्टेट कंपनी के पूर्व अध्यक्ष रेन झिकियांग ने कोरोना वायरस महामारी को लेकर राष्ट्रपति शी जिनपिंग की सार्वजनिक रूप से आलोचना की थी, जिसके बाद उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा और उन्हें सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी से निकाल दिया गया। इतना ही नहीं उन पर कई गंभीर आरोप भी लगाए गये हैं।

सीक्रेट डीलः पाकिस्तान से मिल कर जैविक युद्ध की तैयारी में लगा चीन, पढ़ें रिपोर्ट

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रेन झिकियांग के एक राइटअप के मार्च में सार्वजनिक रूप से लिखे जाने और ऑनलाइन प्रकाशन के बाद से वो अचानक ही गायब हो गए। ये वही। राइटअप था जिसमें उन्होंने कोरोना महामारी को लेकर राष्ट्रपति जिनपिंग के खिलाफ टिप्पणी की थी, उनकी आलोचना की थी।

इतना ही नहीं रिपोर्ट्स बताती हैं कि 69 वर्षीय रेन झिकियांग पर चीनी सरकार ने भ्रष्टाचार, गबन और रिश्वत के आरोप लगाए गए हैं।  अनुमान लगाया जा रहा है कि उन्हें या तो जेल में डाल दिया गया है या रेन झिकियांग अंडरग्राउंड हो गये हैं।

लद्दाख में चीनी सीमा तक सबसे ऊंची रेल लाइन बिछा रहा है भारत, टूटेगा ये रिकॉर्ड

हालांकि ये पहली इस तरह की घटना नहीं है, इस तरह के काम चीनी सरकार करती रहती है। चीनी सरकार अपनी आलोचना करने वालों को झूठे आरोपों में जेल में डलवाने और कई बार जान से मार डालने के लिए भी आलोचना का कारण बनती आई है।

यहां पढ़ें भारत-चीन विवाद से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.