Friday, Feb 28, 2020
yamuna expressway land scam case hearing completed in cbi court decision today

यमुना एक्सप्रेस-वे जमीन घोटाला मामले की CBI कोर्ट में सुनवाई पूरी, फैसला आज

  • Updated on 2/13/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। यमुना एक्सप्रेस-वे (Yamuna Expressway) के जमीन घोटाले के आरोपी की जमानत अर्जी पर सीबीआई (CBI) कोर्ट में बहस पूरी हो गई है। सीबीआई जज अमितवीर सिंह (Judge Amitveer Singh) ने अर्जी पर गुरुवार तक फैसला सुरक्षित रख लिया।

दरअसल जून 2018 में ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) के कसाना थाने में यमुना एक्सप्रेस वे की जमीन को लेकर हुए 126 करोड़ रुपये के घोटाले में केस दर्ज हुआ था।

इस मामले में प्राधिकरण के पूर्व सीईओ पीसी गुप्ता और अजीत पाल सिंह समेत अन्य आरोपियों से समझौता कराने के लिए सीबीआई के इंस्पेक्टर वीरेंद्र सिंह राठौर, एएसआई सुनील दत्त और तहसीलदार रणवीर सिंह पर साठगांठ करने का आरोप है।

हैवानियत का एक और मामला आया सामने, मेरठ की युवती के साथ नोएडा में गैंगरेप

22 लाख रुपये की डिमांड का मामला
इन लोगों पर आरोप लगाया गया कि इस काम के लिए 22 लाख रुपये की डिमांड की गई थी। अजीत को जमानत दिलाने के लिए उसके वकीलों ने कुछ दिन पहले कोर्ट में जमानत अर्जी दाखिल की थी। जिस पर बुधवार को दोनों पक्षों वकीलों ने अपनी-अपनी दलील पेश की जिसके बाद सुनवाई में कोर्ट ने गुरुवार तक के लिए फैसला सुरक्षित रख लिया गया था। जिस पर आज सुनवाई होगी।

बता दें कि इस मामले में कुछ दिन पहले दिल्ली से सटे नोएडा से एक अजीब मामला सामने आया है। यहां जांच के लिए पहुंची सीबीआई टीम के अधिकारियों को ग्रामीणों ने दौड़-दौड़ा कर पीटा है। यह पूरा मामला थाना इकोटेक तीन क्षेत्र के अंतगर्त सुनपुरा गांव का है।

ग्रेटर नोएडा: यमुना एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा, 4 लोगों की मौत, 5 घायल

जमीन खरीद घोटाला
दरअसल, यमुना एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण क्षेत्र में हुए 126 करोड़ रुपये के जमीन खरीद घोटाले की जांच के लिए सीबीआई की टीम ग्रेटर नोएडा के सुनपुरा गांव पहुंची थी। जिसमें टीम एक आरोपित सीबीआई दरोगा को पकड़ने आई थी।

जब इस बात की खबर गांव के लोगों को लगी तो उन्होंने सीबीआई टीम को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। लोगों का गुस्सा देखकर सीबीआई अधिकारियों को वहां से भागना पड़ा। ये हमला उनपर सुबह दबिश के दौरान हुआ। 

यमुना एक्सप्रेस-वे हासदा: AAP सांसद ने दुख व्यक्त करते हुए घायलों के जल्द ठीक होने की कामना की

सीबीआई की टीम  के साथ मारपिट
वहीं टीम के साथ मारपीट की खबर लगते ही सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारी और गौतमबुद्ध नगर के पूर्व एसएसपी किरण एस तत्काल घटनास्थल पहुंचे थे।

गौतमबुद्धनगर के एसपी विनीत जायसवाल ने बताया कि आरोपित दरोगा के परिवार वालों ने सीबीआई टीम के अधिकारियों पर हमला किया है। इस बाबत मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच शुरू कर दी गई है। 

जानकारी के मुताबिक, पिटाई से घायल सीबीआई की टीम के अधिकारों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि यमुना प्राधिकरण के 126 करोड़ के जमीन खरीद घोटाले की जांच में सीबीआई अपने ही विभाग के दरोगा के घर पर पहुंचे थे, जहां उनपर हमला किया गया।

comments

.
.
.
.
.