Friday, Aug 19, 2022
-->
yashwant sinha said economic policies modi bjp govt being made aim winning elections rkdsnt

यशवंत सिन्हा बोले- चुनाव जीतने के मकसद से बन रही मोदी सरकार की आर्थिक नीतियां

  • Updated on 3/20/2022

नई दिल्ली/एजेंसी। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री व तृणमूल कांग्रेस के उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा का कहना है कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा कल्याण योजनाओं पर भारी खर्च की वजह से राजकोषीय स्थिति पर बेहद बुरा असर पड़ रहा है और राजकोषीय घाटा असामान्य रूप से ऊंचे स्तर पर पहुंच गया है। सिन्हा ने आरोप लगाया, ‘‘आज सरकार की आर्थिक नीतियां इस आधार पर तय होती हैं कि क्या इनसे उसे चुनाव जीतने में मदद मिलेगी या नहीं।''

केजरीवाल बोले- भगवंत मान ने सभी मंत्रियों के लिए तय किए हैं लक्ष्य, कस लो कमर

उन्होंने कहा, ‘‘इससे एक ओर गरीबों के लिए ‘कल्याण' चल रहा है, दूसरी ओर चुनिंदा कॉरपोरेट अत्याशित फायदा कमा रहे हैं। यह कुछ ऐसा हो रहा है जिसको लेकर देश में किसी को चिंता नहीं है।'' सिन्हा ने कहा कि हैरानी है कि किसी को सरकार की राजकोषीय स्थिति की चिंता नहीं है, सरकार को खुद भी नहीं। तृणमूल कांग्रेस के उपाध्यक्ष ने कहा, "मोदी सरकार मुफ्त अनाज सहित अन्य कल्याण योजनाओं पर बेहद राशि खर्च कर रही है। सरकार की राजकोष की हालत डंवाडोल है।

योगी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने की तैयारियों में जुटा यूपी प्रशासन

राजकोषीय घाटा असामान्य रूप से ऊंचे स्तर पर है। यह सरकार के उन आंकड़ों से भी ज्यादा है, जिन्हें ‘भरोसेमंद' नहीं माना जाता है।" देश का राजकोषीय घाटा चालू वित्त वर्ष 2021-22 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 6.9 फीसदी रहने का अनुमान है। पहले इसके 6.8 फीसदी रहने का अनुमान था। 

मणिपुर के मुख्यमंत्री होंगे बीरेन सिंह,भाजपा ने फिर जताया भरोसा

सिन्हा ने कहा कि यह मजबूत राजकोषीय नीतियों और मजबूत आर्थिक नीतियों के बीच स्पष्ट रूप से असंतुलन की स्थिति है। यही आज की सचाई है। एक सवाल के उत्तर में सिन्हा ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को मुद्रास्फीति और वृद्धि की चुनौतियों से जूझना होगा। चालू वित्त वर्ष में एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 8.9 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

‘प्रसन्नता रिपोर्ट’ को लेकर राहुल गांधी का तंज- ‘घृणा और आक्रोश’ में शीर्ष पर पहुंच सकते हैं हम

सिन्हा ने कहा कि आज अर्थव्यवस्था को सरकार के साथ-साथ निजी क्षेत्र से निवेश की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हो रहा है। सरकारी निवेश नहीं बढ़ रहा है। निजी निवेश भी कमजोर है। उन्होंने कहा कि ब्याज दरों में बढ़ोतरी की वजह से निवेश कमजोर है। ‘‘निवेश के अभाव में भारतीय अर्थव्यवस्था प्रगति नहीं कर पाएगी.''

राउत बोले- ‘द कश्मीर फाइल्स’ पर सियासत करने के बजाय POK को वापस ले भाजपा


 

comments

.
.
.
.
.