Friday, Dec 03, 2021
-->
yashwant sinha say not happy with bjp rss remembers atal bihari vajpayee shameful rkdsnt

यशवंत सिन्हा ने BJP-RSS पर लगाया सांप्रदायिकता फैलाने का आरोप, अटल को किया याद

  • Updated on 4/30/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भाजपा के पूर्व नेता व पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा को इन दिनों भाजपा का चाल-चरित्र रास नहीं आ रहा है। इसको लेकर उन्होंने अपने जज्बात सोशल मीडिया पर शेयर किए हैं। यूपी में मुस्लिमों के खिलाफ बोलने वाले भाजपा के दो विधायकों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने भगवा पार्टी पर सांप्रदायिक एजेंडा चलाने का आरोप भी लगाया है। इसके साथ ही कहा है कि क्या यह वही पार्टी है, जिसे अटल बिहारी वाजपेयी का नेतृत्व मिला था। 

बैंक डिफॉल्टर्स को लेकर चिदंबरम बोले- RBI के पास बचा है अब आखिरी रास्ता

अमेरिकी आयोग ने धार्मिक स्वतंत्रता के मामले में भारत की रैंकिंग गिराई, सूडान को सराहा

केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों पर सवाल उठाने वाले यशवंत सिन्हा अपने एक ट्वीट में लिखते हैं, 'दिन के समान साफ हो गया है कि भाजपा का एक ही एजेंडा है सांप्रदायिक जज्बातों को में आग लगाना। झारखंड में फल और सब्जियों को या तो हिंदू बना दिया गया है या मुस्लिम। बंगालमें तुच्छ राजनीति के लिए मुस्लिम समुदाय को नीचा दिखाना भी इसमें शामिल है। '

लॉकडाउन में मिली छूट के बाद भी बिहार में आसान नहीं होगी नीतीश कुमार की राह

 

कोरोना संकट के बीच JNU में रामायण पर होगा वेबिनार, विपक्ष ने उठाए सवाल

सिन्हा यहीं नहीं रुखते हैं और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर भी निशाना साधते हैं। अपने अगले ट्वीट में वह लिखते हैं, 'यही चीजें महाराष्ट्र और अन्य जगह भी देखने को मिल रही हैं। सरकार में शीर्ष पर बैठे लोग और आरएसएस नेता बनने का बहाना करती है। नीचे पायदान के लोगों को कुछ भी करने की आजादी है। देखों यूपी में भाजपा के विधायक बर्ताव कर रहे हैं। क्या यह वही पार्टी है, जिसे वाजपेयी का नेतृत्व मिला था। शर्मनाक।'

बैंक डिफॉल्टर्स को लेकर कांग्रेस ने पूछा- क्या BJP को चंदा देने के कारण उनके कर्ज माफ हुए?

लॉकडाउन में फंसे गांव जाने के इच्छुक गृहमंत्रालय की इन गाइडलाइन्स पर जरुर करें गौर

मजदूरों पर फैसला लेने में 36 दिन लगे सरकार को
पूर्व वित्तमंत्री कोरोना लॉकडाउन को लेकर केंद्र के इंतजाम से भी खुश नहीं हैं। फंसे मजदूरों को लेकर केंद्र के ताजा दिशा-निर्देशों को उन्होंने बहुत देरी से उठाया कदम करार दिया है। अपने ट्वीट में वह लिखते हैं, 'आखिरकार फंसे मजदूर और छात्र अपने घर जा सकेंगे। लेकिन असंवेदनशील सरकार को साधारण फैसला लेने में 36 दिन लग गए। इस बीच लोग बयान नहीं की जा सकते वाली परेशानियों से गुजरते रहे।'

कोरोना संकट के बीच महाराष्ट्र में सियासी खिंचतान, उद्धव ठाकरे ने PM मोदी से साधा संपर्क

मोहन भागवत, पीएम मोदी की नसीहतों का भाजपा नेताओं पर ही असर नहीं!

सिन्हा ने 27 मार्च का अपना ट्वीट भी रिट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने कहा था, 'सभी राज्य सरकारों को प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए बसों का इंतजाम करना चाहिए। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर और सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर विज्ञापन का भी सहारा लेना चाहिए। जीओआई इस मकसद के लिए स्पेशल ट्रेन भी चला सकती है।'

comments

.
.
.
.
.