Friday, May 14, 2021
-->
year ender 2020 corona epidemic turned into disaster making aatmanirbharbharat pragnt

Year ender 2020: कोरोना महामारी आपदा को अवसर में बदलते हुए ऐसे बना भारत 'आत्मनिर्भर'

  • Updated on 12/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी पूरे विश्व के लिए एक अभिशाप बनकर आई है लेकिन भारत ने इस वायरस रूपी आपदा को अवसर में बदला है। इस वायरस की वजह से ही भारत 'आत्मनिर्भर' (Atmanirbhar) बनने पर जोर दे पाया है। कोरोना वायरस के कारण जहां लाखों लोगों की नौकरी चली गई वहीं दूसरी तरह इस वायरस ने लोगों को आत्मनिर्भरता भी सिखाई है। देशवासियों ने इंटरनेट की मदद से नई- नई वस्तुओं को बनाकर आत्मनिर्भर भारत (Atmanirbhar Bharat) का हिस्सा बनकर दिखाया है। वहीं इन दिनों देश के हर घरों में वोकल फॉर लोकल (Vocal For Local) का मंत्र गूंज रहा है। जिसके कारण भी यही है कि लोग भारत (India) में ही बनी हुई चीजों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

सफरनामा: राष्ट्रीय राजनीति में संभावना तलाश रहे केजरीवाल! मोदी-योगी से सीधी टक्कर

भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जनता ने विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया। इन विदेशी वस्तुओं में सबसे ज्यादा चीन की समानों का बहिष्कार किया। जिससे चीन को इस साल भारत की तरफ से एक बड़ा झटका लगा। ये सब देशवासियों की एकता के कारण ही संभव हो पाया है।

सफरनामा 2020: जानें दुनियाभर में कहर बरपाने वाले कोरोना वायरस की शुरूआत भारत में कैसे हुई?

भारतीय खिलौनों की बढ़ी मांग
भारत में आत्मनिर्भर अभियान की शुरुआत होने से पहले देश में सबसे ज्यादा खिलौने मेड इन चाइना होते थे। इसका मतलब चीन हमारे देश से काफी पैसा कमता था लेकिन पीएम मोदी की अपील के बाद बाजार में ग्राहक भी 'मेड इन इंडिया' खिलौने की मांग कर रहे हैं। दिल्ली का झंडेवालान बाजार खिलौनों का सबसे प्रसिद्ध बाजार है। यहां से देश के कोने- कोने में खिलौने जाते हैं। यहां के दुकानदारों का भी कहना है कि बीते 10 महीनों में भारत में बने खिलौनों की मांग ज्यादा बढ़ गई है। 

सफरनामा 2020: इन नेताओं की टि्वटर पर रही सबसे ज्यादा चर्चा, PM मोदी ने जीता ऐसे दिल

रोजगार उपलब्ध कराए गए
कोरोना महामारी में नौकरी गंवाने वाले लोगों को स्वदेशी चीजों के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराया गया। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत सैनेटाइजर, मास्क और पीपीई किट का भी निर्माण भारत में ही किया गया। जिसने भारत को आत्मनिर्भर बनाने में एक नई दिशा दी है।

सफरनामा 2020: घर में बैठने को मजबूर हुए लोग नए साल पर घूम सकते हैं ये Location

देश में बढ़ रहा उत्पादन
कोरोना वायरस के इस दौर में आई इकोनॉमी की गिरावट को बढ़ाने के लिए देश में में उत्पादन पर जोर दिया जा रहा है। अब देश में ज्यादातर स्वदेशी वस्तुओं का इस्तेमाल किया जा रहा है। इतना ही नहीं देश में शुरुआत भले मास्क और सैनेटाइजर से की गई हो लेकिन अब देश में वेंटिलेटर भी बनाए जा रह हैं। आपको बता दें कि कोरोना की शुरुआत में हमने विदेशों से वेंटिलेटर मंगाए थे लेकिन बाद में आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत देश में ही वेंटिलेटर बनाए जाने लगे हैं। ये भी आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए उठाया गया महत्वपूर्ण कदम है।

यहां पढ़े सफरनामा से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.