Wednesday, Feb 01, 2023
-->
yes-bank-case-people-facing-problem-a-lot

पैसे-पैसे को तरसे विदेशों में फंसे येस बैंक के 40,000 कस्टमर्स 

  • Updated on 3/11/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। विदेश यात्रा कर रहे येस बैंक के लगभग 40,000 कस्टमर्स बैंक के परेशानी में घिरने के कारण फंस गए हैं। इन कस्टमर्स के पास येस बैंक के डैबिट और फॉरैक्स कार्ड हैं। उन कस्टमर्स के लिए स्थिति अधिक खराब है जिन्होंने कैश करंसी के बदले फॉरैक्स प्रीपेड कार्ड खरीदे थे। ये कस्टमर्स अपने होटल का बिल, रैंट, ट्रैवल और फूड तक के लिए भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। बैंक के कस्टमर्स एस.ओ.एस. मैसेज भेज रहे हैं। 

फॉरैक्स कार्ड ऑप्रेटर ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा, ‘‘ड्राफ्ट की तरह फॉरैक्स प्रीपेड कार्ड भी प्री-पेड इंस्ट्रूमैंट होते हैं। यह अचानक आई एक ऐसी मुश्किल है जिससे विदेश में हजारों भारतीय अपनी रकम तक पहुंच न होने के कारण फंस गए हैं। ऐसी स्थिति के बारे में सोचिए जिसमें आप विदेश यात्रा कर रहे हैं और आपके पास पेमैंट के लिए डैबिट/क्रैडिट कार्ड हैं जो अब स्वीकार नहीं किए जा रहे और आप पैसे-पैसे के लिए तरस रहे हैं।’’


किस जरूरत के लिए निकाल सकते हैं कितने पैसे 
रिजर्व बैंक ऑफ  इंडिया (आर.बी.आई.) ने येस बैंक से प्रति व्यक्ति अधिकतम 50,000 रुपए निकालने की लिमिट तय की है। हालांकि इलाज की जरूरत, हायर एजुकेशन या विवाह के खर्च के भुगतान के लिए 5 लाख रुपए तक निकालने की छूट दी गई है।


ऑनलाइन रैमिटैंस फिलहाल बंद 
बैंक ने यह स्पष्ट किया है कि आर.टी.जी.एस./एन.ई.एफ.टी. के जरिए पेमैंट सहित सभी ऑनलाइन रैमिटैंस अभी बंद हैं। इसके साथ ही बैंक ने बताया है कि क्लीयरिंग एक्टिविटीज शुरू होने पर तय लिमिट तक ई.एम.आई. का भुगतान किया जाएगा। पहले से जारी हुए चैक का क्लीयरिंग एक्टिविटीज दोबारा शुरू होने या आर.बी.आई. से निर्देश मिलने तक भुगतान नहीं होगा। 


विदेश में रहकर पढ़ते हैं, किराया नहीं दे पा रहे कस्टमर 
प्रीपेड फॉरैक्स कार्ड रखने वाले यैस बैंक के बहुत से कस्टमर्स ने बैंक को ट्वीट कर अपनी रकम उपलब्ध नहीं होने की शिकायत की है। विदेश में पढ़ाई कर रहे हर्ष वाधवा के पास बुक माई फॉरैक्स मल्टी-करंसी कार्ड है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा है, ‘‘मुझे किराया देना है लेकिन मैं अपने कार्ड में पहले से धन होने के बावजूद उसे नहीं निकाल सकता।’’
सौमित्र चक्रवर्ती ने ट्विटर पर बताया कि वह कनाडा में हैं और उनके पास धन का एकमात्र स्रोत फॉरैक्स कार्ड है। उन्होंने विदेश मंत्री एस. जयशंकर को टैग करते हुए ट्विटर पर लिखा है, ‘‘आप मेरी कार्ड सॢवसेज कैसे बंद कर सकते हैं? मैं एक मुश्किल स्थिति में फंस गया हूं। यह मेरे लिए एस.ओ.एस. (सेव ऑवर सोल) सिचुएशन है।’’

 

येस बैंक के शेयर में 31.17 प्रतिशत की तेजी 
येस बैंक के शेयरों में आज 31.17 प्रतिशत की तेजी देखने को मिली। नकदी संकट से जूझ रहे इस बैंक में भारतीय स्टेट बैंक (एस.बी.आई.) ने 2,450 करोड़ रुपए में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी लेने की बात कही है जिसके बाद यह तेजी आई। येस बैंक के शेयर बी.एस.ई. में 29.63 प्रतिशत की तेजी के साथ 21 रुपए के भाव पर थे। एन.एस.ई. में बैंक के शेयर 32.20 प्रतिशत की उछाल के साथ 21.35 पर आ गए।

सभी सेवाएं बहाल के लिए काम जारी  
आर.बी.आई. द्वारा नियुक्त येस बैंक के प्रशासक प्रशांत कुमार ने कहा कि बैंक अपने ग्राहकों के लिए सभी बैंकिंग सेवाओं को जल्द से जल्द बहाल करने के लिए काम कर रहा है। कुमार ने एक टी.वी. चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘‘मुझे लगता है कि हमारी सबसे पहली प्राथमिकता ग्राहक हैं और अपने ग्राहकों को सुविधाजनक व्यापार मुहैया कराना है, और जैसा कि आपने पहले दिन से देखा होगा, हमारे सभी ए.टी.एम. ग्राहकों के लिए चालू थे।’’  

 

comments

.
.
.
.
.