Sunday, Dec 04, 2022
-->
yes bank case reliance group anil ambani at ed office

येस बैंक मामला: पूछताछ के लिए ED दफ्तर पहुंचे अनिल अंबानी

  • Updated on 3/19/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रिलायंस समूह (Reliance Group) के चेयरमैन अनिल अंबानी (Anil Ambani) गुरुवार को मुंबई (Mumbai) में येस बैंक (Yes Bank) के प्रमोटर राणा कपूर (Rana Kapoor) और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले (Money laundering Case) की जांच के संबंध में प्रवर्तन निदेशालय (ED) के सामने पेश हुए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

अनुमान है कि जांच एजेंसी धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत 60 वर्षीय अंबानी का बयान दर्ज करेगी। अंबानी सुबह करीब साढ़े नौ बजे ईडी के कार्यालय बल्लार्ड एस्टेट पहुंचे। बताया जाता है कि अंबानी की नौ समूह कंपनियों ने यस बैंक से लगभग 12,800 करोड़ रुपये का ऋण लिया था, जिसकी कथित तौर पर वापसी नहीं हो रही है।

Yes Bank के ग्राहक आज निकाल सकेंगे अपने खाते से पैसा

ED की कार्रवाई शुरू
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने छह मार्च को एक संवाददाता सम्मेलन में बताया था कि अनिल अंबानी, समूह, एस्सेल, आईएलएफएस, डीएचएफएल और वोडाफोन उन तनावग्रस्त कॉरपोरेट में हैं, जिन्हें यस बैंक ने कर्ज दिया था। अंबानी को पहले सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया गया था, लेकिन उन्होंने व्यक्तिगत आधार पर उपस्थिति से छूट मांगी। ईडी ने फिर उन्हें 19 मार्च को पेश होने के लिए नया समन जारी किया। रिजर्व बैंक ने इस महीने की शुरुआत में यस बैंक पर रोक लगा दी थी और जमाकर्ताओं के लिए निकासी की 50,000 रुपये की सीमा तय की थी, जिसके बाद जांच एजेंसी ने कपूर, उनके परिवार और अन्य लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है।

कोरोना वायरस: ‘सरकारी मदद के बिना अधिकांश एयरलाइंस हो जाएंगी बैंकरप्ट’

YES Bank ने शुरू किया परिचालन
ग्राहकों के लिए यस बैंक का सामान्य बैंकिंग परिचालन बुधवार को फिर से शुरू हो गया। ईडी ने कपूर, उनके परिवार के सदस्यों और अन्य लोगों पर आरोप लगाया कि बैंक के माध्यम से दिए गए बड़े ऋण के बदले में उन्हें कथित रूप से लाभ मिला और ये ऋण बाद में गैर-निष्पादित आस्तियों (एनपीए) में बदल गए। रिलायंस समूह ने पिछले सप्ताह कहा था कि बैंक से लिया गया उसका कर्ज पूरी तरह सुरक्षित था और उसे सामान्य कारोबारी ढंग से लिया गया था।     

Yes Bank Crisis: ED ने सुभाष चंद्रा समेत कई उद्योगपतियों को किया तलब

पूछताछ के लिए नहीं पहुंचे उद्योगपति
समूह ने एक बयान में कहा, 'रिलायंस समूह यस बैंक लिमिटेड से ली गईं सभी उधारियों को अपनी परिसंपत्तियों की बिक्री के जरिए चुकाने के लिए प्रतिबद्ध है।' समूह ने कहा कि उसका 'यस बैंक के पूर्व सीईओ राणा कपूर, या उनकी पत्नी या बेटियों, या राणा कपूर या उनके परिवार द्वारा नियंत्रित किसी भी संस्था से प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संपर्क नहीं है।' इस बीच ईडी द्वारा पूछताछ के लिए बुलाए गए कुछ अन्य उद्योगपति तय तारीख पर नहीं पहुंचे। एस्सेल समूह के प्रवर्तक सुभाष चंद्रा बुधवार को एजेंसी के सामने यह कहते हुए पेश नहीं हुए कि संसद सत्र चल रहा है और जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल एक परिवारिक सदस्य की बीमारी का हवाला देते हुए नहीं गए। चंद्रा संसद सदस्य हैं।

RBI के निर्देश पर बंद होंगी आपके डेबिट और क्रेडिट कार्ड की ये सुविधाएं

एस्सेल ग्रुप ने कही ये बात
चंद्रा को जब इस सप्ताह समन मिला, तो उन्होंने कहा था कि वह जांच में सहयोग करेंगे। चंद्रा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से कहा, 'एस्सेल ग्रुप ने कभी भी राणा कपूर या उनके परिवार के साथ या उनके द्वारा नियंत्रित किसी भी निजी संस्थाओं के साथ कोई लेनदेन नहीं किया है।' एस्सेल ग्रुप ने कथित रूप से यस बैंक के 8,400 करोड़ रुपये का ऋण नहीं चुकाया है, जबकि बताया जाता है कि जेट एयरवेज को 550 करोड़ रुपये चुकाने हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.