Thursday, Aug 18, 2022
-->
yes-bank-crisis-ed-has-summoned-many-industrialists-including-subhash-chandra

Yes Bank Crisis: ED ने सुभाष चंद्रा समेत कई उद्योगपतियों को किया तलब

  • Updated on 3/17/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने एस्सेल समूह (Essel Group) के प्रवर्तक सुभाष चंद्रा (Subhash Chandra), जेट एयरवेज (Jet Airways) के संस्थापक नरेश गोयल (Naresh Goyal) और इंडिया बुल्स (Indiabulls) के चेयरमैन समीर गहलोत (Sameer Gehlaut) समेत कुछ अन्य शीर्ष उद्योगपतियों को इस सप्ताह तलब किया है। ईडी ने येस बैंक के प्रवर्तक राणा कपूर (Rana Kapoor) तथा अन्य के खिलाफ दायर मनी लॉन्ड्रिंग मामले (Money laundering Case) की जांच के सिलसिले में इन उद्योगपतियों को तलब किया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी।

Yes Bank Crisis: ED के लपेटे में अनिल अंबानी, पेशी के लिए समन जारी

Yes Bank मामला
उन्होंने कहा कि डीएचएफएल (DHFL) के मुख्य प्रबंध निदेशक कपिल वाधवान (Kapil Wadhawan) के अलावा रिलायंस समूह (Reliance Group) के चेयरमैन अनिल अंबानी (Anil Ambani) को भी 19 मार्च को प्रवर्तन निदेशालय के मुंबई स्थित दफ्तर में पूछताछ के लिए उपस्थिति होने को कहा गया है। वाधवान को हाल ही में प्रवर्तन निदेशालय ने एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया था। ये उद्योगपति उन शीर्ष पांच कंपनियों का नेतृत्व करते हैं जिन्होंने संकट में फंसे येस बैंक (Yes Bank) से कर्ज लिया। ये कर्ज या तो लौटाए नहीं गए या फिर फंसे हुए हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने छह मार्च को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि अनिल अंबानी समूह, एस्सेल, आईएलएफएस, डीएचएफएल और वोडाफोन को येस बैंक ने कर्ज दिया था और ये सभी ऋण फंसे हुए हैं।

CBI ने मामला दर्ज किया, ED से गिरफ्तार हिरासत में
सीबीआई ने आरोप लगाया कि कपूर ने येस बैंक के जरिए DHFL को वित्तीय सहायता देने के लिए वधावन के साथ मिलकर आपराधिक साजिश रची। इसके बदले में अपने लिए और अपने परिवार के सदस्यों के लिए उनकी कंपनियों के मार्फत अनुचित लाभ लेने की कोशिश की। CBI की प्राथमिकी के अनुसार घोटाला अप्रैल से जून 2018 के बीच शुरू हुआ था जब यस बैंक ने घोटालाग्रस्त दीवान हाउसिंग वित्त निगम लिमिटेड के अल्पावधि ऋणपत्र में 3700 करोड़ रुपये का निवेश किया था।

इसके बदले में वधावन ने DOIT अर्बन वेंचर्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड को ऋण के रूप में कपूर और परिवार के सदस्यों को कथित तौर पर ‘600 करोड़ रुपये की रिश्वत’ का भुगतान किया था। इससे पहले सूत्रों ने बताया था कि CBI ने येस बैंक के मामलों की जांच शुरू कर दी है और अधिकारी दस्तावेज इकट्ठा कर रहे हैं। येस बैंक पर रिजर्व बैंक की नियामकीय कार्रवाई के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने राणा कपूर को मनी लांडरिंग के आरोपों की जांच के सिलसिले में गिरफ्तार कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.