Sunday, Feb 05, 2023
-->
yeti-narasimhanand-said-if-someone-spoke-wrong-then-the-case-went-to-court

नुपूर शर्मा विवाद- यति नरसिंहानंद बोले अगर किसी ने गलत बोला तो अदालत में चले मुकद्दमा

  • Updated on 6/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। नुपुर शर्मा को लेकर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। डासना शिवशक्ति धाम के महंत और श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़ा के महामंडलेश्वर यति नरसिंहा नंद सरस्वती द्वारा नुपुर शर्मा के समर्थन में दिल्ली की जामा मस्जिद में कुरान और इस्लाम की पुस्तकें लेकर जाने का ऐलान किया था। इस मामले में एसडीएम सदर विनय सिंह ने उन्हें सोमवार को कोर्ट में तलब होने का नोटिस भेजा था। लेकिन तय समय से पहले खुद एसडीएम सदर डासना देवी मंदिर पहुंच गए। जहां उन्होंने यति नरसिंहा सरस्वती से वार्ता की और शपथ पत्र भी लिया। वहीं दूसरी ओर मोदीनगर में स्वाभिमान ट्रस्ट द्वारा नुपूर शर्मा और नवीन जिंदल को भाजपा से निकाले जाने पर विरोध जताया। 

यति नरसिंहानंद बोले नूपुर शर्मा मामले में अदालत करे फैसले, हम फांसी चढने को भी तैयार
यति नरसिंहानंद सरस्वती ने एसडीएम सदर को अपना शपथ पत्र सौंपा और अपनी बात रखते हुए कहा कि इस्लाम में लिखित पुस्तकों के पढऩे से सिद्घ हो जाएगा कि नुपुर शर्मा ने जो कहा था वह झूठ या गलत नहीं है। कोर्ट में यह मुकदमा चलाया जाए और अगर वह गलत साबित हो तो उन्हें फांसी की सजा दी जाए। लेकिन अगर नुपुर शर्मा की बात सच निकलती है तो दंगा फैलाने वाले दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि देश को निशाना बनाकर उसे दंगे की आग में झोंकने का प्रयास किया जा रहा है। इस दौरान एसडीएम सदर को यति नरसिंहा नंद सरस्वती द्वारा अली सीना द्वारा रचित अंडरस्टैंडिंग मोहम्मद सहित अनेक पुस्तकें दी गई हैं। शपथ देने के दौरान अनिल यादव, डॉ. उदिता त्यागी, अक्षय त्यागी, मुकेश त्यागी, संजय त्यागी आदि भी मौजूद रहे।

भाजपा द्वारा नुपूर शर्मा पर कार्रवाई का किया विरोध
स्वाभिमान ट्रस्ट के तत्वावधान में सोमवार को मोदीनगर मे शहर के कई सामाजिक संगठनो ने भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता नुपूर शर्मा और भाजपा के मीडिया प्रमुख नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से निकलने पर कड़ा विरोध जताया। ट्रस्ट के स्थानीय संयोजक प्रवीण कुमार ने कहा कि पार्टी ने दोनों नेताओं को ग़लत सजा दी है। लेकिन इसमें भी नुपूर शर्मा की मदद में आगे आये भाई नवीन कुमार जिंदल को पार्टी से बर्खास्त करके,  ये संदेश देने का प्रयास किया है कि संकट के समय किसी की मदद करने वाला सबसे बड़ा अपराधी है। सब जानते हैं नवीन कुमार जिंदल ने 6 दिन जब पार्टी का कोई नेता नुपूर शर्मा के साथ नहीं खड़ा था। तब आगे आकर सोशल मीडिया पर कट्टरपंथियों को जवाब दिया था। इसी अपराध के कारण उनको पार्टी से बर्खास्त किया गया है। जबकि नुपूर शर्मा को निलंबित किया गया है। नुपूर शर्मा को जो सुरक्षा कवर दिया गया है, वो ना काफ़ी है। लेकिन नवीन कुमार जिंदल के परिवार को सुरक्षा ना देना सबसे ज़्यादा कष्ट दायक है। उन्होंने प्रश्न उठाया कि नवीन कुमार जिंदल के परिवार की हत्या होने पर भाजपा बंगाल की तरह विक्टिम कार्ड खेलेगी या नवीन को जेल भेज कर अपनी सर्कुलर छवि इस्लामिक देशों के सामने पेश करेगी। देश के करोड़ों लोग नवीन कुमार जिंदल और नुपूर शर्मा के साथ खड़े हैं। इसलिए तुरंत प्रभाव से दोनों नेताओं और उनके परिवार को जैड प्लस सुरक्षा उपलब्ध कराई जाए और उनकी जान और माल की सुरक्षा की जाए। इस कार्यक्रम मे, रवि कुमार, दिनेश जी, संदीप तयाल, अजय बिष्ट आदि लोग उपस्थिति रहे। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.