Sunday, Feb 05, 2023
-->
yoga-is-the-secret-of-the-health-of-126-year-old-swami-sivananda

126 वर्षीय स्वामी शिवानंद की सेहत का राज है योग

  • Updated on 3/22/2022

नई दिल्ली/पुष्पेंद्र मिश्र। 126 वर्षीय स्वामी शिवानंद ने राष्ट्रपति भवन में पद्म पुरस्कार समारोह लेने से पहले जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शाष्टांग प्रणाम किया। तब ऐसा भावुक छण आया कि उनके सम्मान में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी नतमस्तक हो गए। तीन शताब्दियां देख चुके स्वामी शिवानंद को योग के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद्मश्री से सम्मानित किया है। उससे पहले वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के समक्ष भी नतमस्तक हो गए थे। उनके इस विनम्र स्वभाव वाले वीडियो को सोशल मीडिया पर लाखों लोगों ने देखा और उनके सरल स्वभाव की सराहना की।

आईआईसी में 25 से आयोजित होगा जश्न ए अदब का 11वां संस्करण

1896 को हरिपुर बांग्लादेश में हुआ था जन्म 
स्वामी शिवानंद ने संयमित दिन चर्या और योग की मदद से इस उम्र में भी खुद को स्वस्थ रखा हुआ है। उन्हें न कोई बीमारी है और न ही कोई रोग है। योग के प्रति उनका समर्पण वास्तव में देश के करोड़ों लोगों को योग के लिए प्रेरित कर रहा है। स्वामी शिवानंद का जन्म 8 अगस्त 1896 को हरिहर पुर गांव(जो अब बांग्लादेश में है) में हुआ था। निर्धन परिवार में जन्म होने के कारण 4 वर्ष की आयु तक वह केवल चावल का माढ़ पीकर ही बढ़े हुए हैं। 6 वर्ष की आयु में उनके माता पिता का स्वर्गवास हो गया। जिसके बाद उनके रिश्तेदारों ने उन्हें ओंकारानंद गोस्वामी को सौंप दिया था। जिनसे उन्होंने दीक्षा प्राप्त की। जिसके बाद वह सद्गुरु के साथ ही नवदीप धाम में रहने लगे।

केंद्रीय विवि स्नातक कोर्स में छात्रों के दाखिले के लिए सीयूईटी के अंकों का उपयोग करेंगे: कुमार

अभी भी एक किशोर की तरह फिट और तंदुरस्त हैं स्वामी शिवानंद 
स्वामी शिवानंद अभी भी एक किशोर की तरह फिट और तंदुरस्त हैं उनका जीवन किसी चमत्कार से कम नहीं है। उनकी लंबी आयु का राज बताते हुए उन्होंने कहा कि रोजाना योग करना, मसाले नहीं खाना और सेक्स से दूरी उनकी लंबी उम्र का राज है। उन्होंने कहा कि मैं सादगी भरी और अनुशासित जिंदगी जीता हूं। बेहद सादा भोजन करता हूं। जिसमें सिर्फ उबला खाना शामिल होता है। इसमें किसी भी तरह का तेल या मसाला शामिल नहीं होता।

मार्च के महीने में हुआ जून की गर्मी का एहसास
​​​​​​​
रोजाना चटाई पर सोते हैं, दाल चावल खाने में है पसंद
 आम तौर पर मैं दाल चावल और हरी मिर्च खाता हूं। उन्होंने कहा कि वह रोजाना एक चटाई पर सोते हैं। दूध और फलों का सेवन नहीं करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं पुराने ढंग से जीवन गुजारने में यकीन रखता हूं। उन्होंने कहा कि पहले लोग कम चीजों के साथ खुश रहते थे वह संतोषी जीवन जीते थे। लेकिन आजकल लोग नाखुश हैं बीमार हैं और ईमानदारी भी कम बची है। इससे मुझे दु:ख होता है। मैं चाहता हूं कि लोग खुश रहें, स्वस्थ रहें और शांतिपूर्ण जीवन गुजारें।

रोजाना एक घंटा योग और एक घंटा वाक है लंबी उम्र का राज
स्वामी के अनुयाई डॉ. एससी गराई ने कहा कि उनकी लाइफ स्टाइल, उनका चाल चलन खान पान देखने योग्य है। बाबा सुबह एक घंटा टहलते हैं व एक घंटा रोजाना योग करते हैं। सर्वांगासन, पवनमुक्त आसन, अर्धचंद्रासन के अलावा कई मुद्राओं को भी करते हैं। गहरी सांस लेने का अभ्यास, फ्री हैंड एक्सरसाइज करते हैं। दिन में सोते नहीं हैं। पूरे दिन एक्टिव रहते हैं मंत्रजाप करते हैं। गीतापाठ करते हैं चंडीपाठ करते हैं। नो डिजायर नो मनी नो डोनेशन का स्वामी शिवानंद का सभी को मैसेज है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.