Yogani Ekadashi , Effect of  Worshiping Of Lord Vishnu

योगिनी एकादशी में करें भगवान विष्णु की आराधना, नाश होंगे सभी पाप

  • Updated on 6/29/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटलः आषाढ़ कृष्ण पक्ष की एकादशी को योगिनी एकादशी कहा जाता है और इस एकादशी का हिंदू संस्कृति में काफी महत्व माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि इस एकादशी पर भगवान विष्णु की आराधना करने से व्यक्ति को हर से मुक्ति मिलती है। क्योंकि यह एकादशी प्रायश्चित के लिए विशेष मानी जाती है। 

जुलाई के सेकेंड वीक में लॉन्च होगा दुनिया का सबसे सस्ता इन डिस्प्ले फिंगरप्रिंट वाला स्मार्टफोन

मान्यता है कि इस दिन श्री हरि के ध्यान भजन और कीर्तन से पापों से मुक्ति मिलती है। वहीं इस दिन उपवास का भी बेहद महत्व है, कहा जाता है कि अगर इस दिन उपवास रखा जाए और भगवान विष्णु की आराधना की जाए तो हर तरह के पापों का नाश होता है।

योगिनी एकादशी की पूजा विधि 
योगिनी एकादशी (Yogini Ekadashi) के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सबसे पहले घर की साफ-सफाई करें। इसके बाद स्‍नान करने के बाद स्‍वच्‍छ वस्‍त्र पहनें और व्रत का संकल्‍प लें। घर के मंदिर में भगवान विष्‍णु की प्रतिमा स्थापित करें और उसके सामने दीपक जलाएं। 

30 जून तक ओपेन सेल में ले सकते है 48 मेगापिक्सल वाला Redmi Note 7 Pro

इसके बाद विष्‍णु की प्रतिमा को अक्षत, फूल, मौसमी फल, नारियल और मेवे चढ़ाएं। एकादशी की कथा सुनें या सुनाएं. इसके बाद धूप दिखाकर श्री हरि विष्‍णु की आरती उतारें. रात्रि जागरण करें और द्वादशी के दिन अन्‍न और जल ग्रहण कर व्रत का पारण करें। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.