Saturday, May 15, 2021
-->
yogendra yadav prediction on farmers talks with modi bjp government rkdsnt

मोदी सरकार से किसानों की वार्ता को लेकर योगेंद्र यादव ने की 'भविष्यवाणी'

  • Updated on 12/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार से किसानों की कल होने वाली वार्ता को लेकर स्वराज इंडिया के अध्यक्ष व किसान आंदोलन में अहम भूमिका में दिख रहे योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने 'भविष्यवाणी' की है। योगेंद्र को लगता है कि यह वार्ता का दौर भी सरकार की ओर से सफल नहीं होने वाली है। इसकी वजह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही अपने भाषणों में कृषि कानूनों का समर्थन में दलीलें दे रहे हैं। 

सपा का आरोप- मोदी और योगी सरकारों को चला रहे हैं कारपोरेट घराने

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता ने कहा कि हां अगर पीएम मोदी का ह्दय परिवर्तन हो गया हो तो अलग बात है। सोशल मीडिया पर अपने वीडियो में उन्होंने कहा कि अभी किसानों को अग्निपरीक्षा की तरह शीत परीक्षा से गुजरना होगा। लेकिन, आखिर में जीत किसानों की ही होगी। उन्होंने कहा कि अगर कल वार्ता विफल रहती है तो किसानों का संघर्ष और तेज हो जाएगा। 

किसानों नेताओं के चार सूत्री एजेंडे को लेकर मंथन में जुटी मोदी सरकार

योगेंद्र यादव ने कहा कि सरकार कल होने वाली वार्ता में तरह-तरह की दलीलें देगी, लेकिन कृषि कानूनों को रद्द नहीं करने पर बात नहीं करेगी। सरकार पहले की तरह इस बार भी किसानों को झांसा देने की कोशिश करेगी। सरकार की रणनीति किसानों को थकाने की है, लेकिन वे आगे भी डटे रहेंगे। 

मोदी सरकार से बातचीत के मद्देनजर किसानों का ट्रैक्टर मार्च स्थगित

बता दें कि प्रदर्शनकारी किसान संगठनों ने बुधवार को दोनों पक्षों के बीच प्रस्तावित वार्ता के संबंध में मंगलवार को केंद्र सरकार को पत्र लिखा और कहा कि चर्चा केवल तीन कानूनों को निरस्त करने के तौर-तरीकों एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की वैध गारंटी देने पर ही होगी। 

कांग्रेस बोली- किसानों की मांगों को कानून के जरिए पूरा करे मोदी सरकार

सरकार ने किसान संगठनों को बुधवार को छठे दौर की वार्ता के लिए आमंत्रित किया है। चालीस किसान यूनियन का प्रतिनिधित्व करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा ने मंगलवार को लिखे पत्र में कहा कि चर्चा केवल तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने के तौर-तरीकों एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की कानूनी गारंटी देने पर ही होगी। 

निशानेबाज वर्तिका सिंह के आरोप को लेकर कांग्रेस ने स्मृति ईरानी का मांगा इस्तीफा

इसमें आगे कहा गया कि बैठक के एजेंडे में एनसीआर एवं इससे सटे इलाकों में वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग के संबंध में जारी अध्यादेश में संशोधन को शामिल किया जाना चाहिये ताकि किसानों को दंडात्मक प्रावधानों से बाहर रखा जा सके। पत्र के जरिए मोर्चा ने वार्ता के लिए सरकार के आमंत्रण को औपचारिक रूप से स्वीकार किया है।

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.